" " Live Hindi News from Haryana, Property Investment is Better: July 2013

Jul 31, 2013

फरीदाबाद में इनेलोद का कार्यकर्ता बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार rohtak News live

Rohtak News Live

फरीदाबाद में इनेलोद के एक सदस्य ने नौकरी दिलाने का झांसा देकर एक महिला के साथ कथित रूप से बलात्कार किया.
पुलिस ने बताया कि यहां एसजीएम नगर में संजय कालोनी की रहने वाली महिला ने रविवार को मनोज शर्मा के खिलाफ बलात्कार की शिकायत दर्ज कराई.
शर्मा इंडियन नेशनल लोक दल की जिला व्यापारी शाखा का उपाध्यक्ष है.
पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि महिला रविवार को शर्मा से मिली तो वह उसे अपने कार्यालय ले गया और उसके साथ बलात्कार किया. शर्मा ने महिला को धमकाया कि अगर उसने इस बारे में किसी को बताया तो वह उसे जान से मार डालेगा.
शर्मा को रविवार को ही गिरफ्तार किया गया

टीवी सीरियल 'जोधा अकबर' के खिलाफ प्रदर्शन





Rohtak News Live

हरियाणा के अंबाला में राजपूत बिरादरी के लोगों ने टीवी सीरियल जोधा अकबर के खिलाफ प्रदर्शन किया.
मुगल शासक अकबर पर आने वाले टेलीविजन सीरियल में ‘तथ्यों को तोड़ मरोड़कर’ पेश करने के खिलाफ राजपूत बिरादरी के लोगों ने सोमवार को अंबाला हिसार राष्ट्रीय राजमार्ग बंद कर दिया जिससे यात्रियों को भारी परेशानी हुई.
राजपूत सभा और राजपूत यूथ ब्रिगेड के कार्यकर्ताओं ने टेलीविजन सीरियल ‘जोधा अकबर’ में यह दिखाने पर कि मुगल शासक की शादी राजपूत राजकुमारी जोधा से हुई, के खिलाफ प्रदर्शन किया.
राजपूत सभा के अध्यक्ष रामबीर चौहान और यूथ ब्रिगेड के नेता जतिंदर राणा ने कहा, ‘‘किसी भी पुस्तक या ऐतिहासिक दस्तावेज में यह स्थापित नहीं हुआ है कि अकबर की जोधा से शादी हुई थी.’’

बेटी को मौत के घाट उतारने के बाद मां ने भी दी जान

Rohtak News Live


फरीदाबाद में एक विवाहिता ने ससुरालियों की कथित दरिंदगी से तंग आकर अपनी डेढ़ वर्षीय बेटी को मौत के घाट उतार कर स्वयं भी फंदा लगाकर खुदकुशी कर ली.
पुलिस ने दहेज हत्या का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. महिला की बेटी की मौत का कारण दम घुटना बताया गया.
पुलिस प्रवक्ता के मुताबिक मकान न.-38  रमेश नगर एनआईटी निवासी राजेंद्र वत्स ने थाना एनआईटी में शिकायत दी कि उसकी बेटी मीनाक्षी वत्स (29) की शादी वर्ष 2010 में दीपक शर्मा निवासी मकान नं. 921 सेक्टर-21डी फरीदाबाद के साथ हुई थी.
परिजनों का आरोप है कि शादी के बाद से ही ससुराल वाले दहेज की मांग करने लगे थे. विवाह में महंगी मोटरसाइकिल देने के बाद भी वे कार की मांग कर रहे थे जिसे देने में वे असमर्थ थे.
परिजनों का कहना है कि उनकी बेटी  प्रताड़ना का जिक्र करती थी. उन्होंने बेटी के ससुर पर अश्लील हरकत करने का भी आरोप लगाया. उनका कहना है कि कई बार कहने के बावजूद बेटी के ससुर एसके शर्मा के व्यवहार में कोई बदलाव नहीं आया.
परिजनों ने यह भी कहा कि सास, ससुर और पति तीनों उसकी पुत्री के साथ मारपीट करते थे. मीनाक्षी का पति गुड़गांव में काम करता था. वह भी मीनाक्षी से कहता था कि मैं प्रतिदिन फरीदाबाद नहीं आ सकता इसलिए गुड़गांव में ही मकान लेना चाहता हूं. अपने घर वालों से पांच लाख रुपए ले कर आओ.
शुक्रवार सुबह मीनाक्षी की फोन पर उसकी छोटी बहन से बात भी हुई थी. उसने कहा कि मैं सुसर की दरिदंगी को सहन नहीं कर सकती. मैं कभी भी अपनी जीवन लीला समाप्त कर सकती हूं क्योंकि सास, ससुर व पति मुझे दहेज के लिए तंग करते हैं.

नौ वर्षीय बच्ची से दुष्कर्म करने वाला गिरफ्तार rohtak News live

Rohtak News Live
गुड़गांव के सेक्टर 31 में नौ वर्षीय बच्ची से कथित तौर पर दुष्कर्म करने के आरोप में एक 60 वर्षीय व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया.
पुलिस के मुताबिक, पीड़िता के पिता ने छेदी लाल के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी.
पीड़िता आरोपी की बेटी से मंगलवार को  मिलने गयी थी उसी दौरान उसके साथ दुष्कर्म किया गया.

घर पर उस समय कोई नहीं था. पुलिस ने बताया कि इस संबंध में मामला दर्ज कर लिया गया है.
 

विक्षिप्त नाबालिग से दो शिक्षकों ने बार-बार किया बलात्कार

Rohtak News Live
हरियाणा के भिवानी जिले में 15 वर्षीय विक्षिप्त लड़की से उसके स्कूल के दो शिक्षकों ने कई महीने तक बलात्कार किया.
मामला प्रकाश में आने के बाद सरकारी स्कूल के बाहर क्षुब्ध ग्रामीणों ने प्रदर्शन किए.
पुलिस सूत्रों ने कहा कि लड़की से पिछले कई महीने से दो शिक्षकों ने कई बार बलात्कार किए और दो नर्स की सहायता से आरोपियों ने उसका गर्भपात भी कराया.
उन्होंने कहा कि गर्भपात के बाद पीड़िता को समस्या आने के बाद मामला प्रकाश में आया.
लड़की के परिजनों ने दुधवा गांव के निवासियों के साथ बुधवार को स्कूल के बाहर प्रदर्शन किए और मुख्य दरवाजे को बंद कर दिया.
पीड़िता के परिजनों और ग्रामीणों को शांत कराने में पुलिस को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी जो आरोपियों के खिलाफ कड़े दंड की मांग कर रहे थे.
भिवानी के पुलिस अधीक्षक मिथिलेश जैन ने बताया, ‘‘आरोपियों के खिलाफ हमने मामला दर्ज कर लिया है और जांच जारी है. उन्हें अभी तक गिरफ्तार नहीं किया गया है और उनको पकड़ने के लिए हमारा प्रयास जारी है.’’
दोनों आरोपी शिक्षकों में से एक पीटीआई है.

हरियाणा में आयरन की गोलियां खाने से 100 से अधिक बच्चे बीमार rohtak News live

Rohtak news Live
हरियाणा के दो जिलों में आयरन की गोलियां खाने से 100 से अधिक बच्चे बीमार पड़ गए हैं.
अधिकारियों ने बताया कि रेवाड़ी जिले के ममदिया अहीर गांव की प्राथमिक विद्यालय में 50 से अधिक बच्चों की तबियत बिगड़ी.
आठ बच्चों की हालत गंभीर है जिन्हें रेवाड़ी के ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया है.
जींद जिले में 66 स्कूली बच्चे बीमार हुए हैं. यह घटना घोगादिया गांव की है.

पलवल में मिड डे मील में मिले कीड़े, छात्रों ने किया हंगामा



Rohtak News Live
पलवल में शुक्रवार सवेरे रेलवे कालोनी के स्कूल में मिड डे मील में कीड़े-मकोड़े और मक्खी-मच्छरों की खीर देख बच्चों ने हंगामा मचाया.
पलवल में मिड-डे मील में मिली छिपकली के बाद भी लगता है कि इस्कान फूड रिलीफ फाउंडेशन की कार्य प्रणाली में कोई सुधार नहीं आया है. शुक्रवार सवेरे रेलवे कालोनी के स्कूल में कीड़े-मकोड़े और मक्खी-मच्छरों की खीर देख बच्चों ने हंगामा मचाया. स्कूल के हेडमास्टर किशन सिंह ने मामले से खंड शिक्षा अधिकारी रमेशचन्द शर्मा को अवगत करवाया.
स्कूली बच्चे खीर देख खुश हो गए. लेकिन उनकी खुशी चन्द मिनटों में ही आक्रोश में बदल गई. छात्रों ने देखा की खीर में मक्खी, मच्छर, कीड़े और मकोड़े पड़े हुए हैं. सड़ी हुई खीर देख बच्चों ने खाने से मना कर दिया. स्कूल के मास्टर ने सभी बच्चों से खीर वापस लेकर टब में डाल दी. खंड शिक्षा अधिकारी ने खीर भरे टब को कार्यालय लाने के लिए कहा.
इससे पहले कि कीड़े -मकोड़े वाली खीर को शिक्षा विभाग के कार्यालय ले जाकर अस्पताल में सैम्पलिंग कराई जाती उससे पहले इस्कान की गाड़ी खीर को वापस ले गई. घटना की जानकारी मिलने पर स्कूल में पहुंचे पत्रकारों को हेडमास्टर ने बताया कि खीर किसी भी बच्चे को खाने नहीं दी गई. पूरा खाना वापस कर दिया गया.
मामले से शिक्षा विभाग के अधिकारियों को अवगत करवा दिया है. जिन्दे और मरे हुए कीड़े-मकोड़ों से खीर में बदबू बनी हुई थी. सड़ी हुई खीर की जानकारी मिलने पर स्कूल पहुंचे गांव वालों ने भी रोष जताया. छात्रों के अविभावकों ने बताया कि लगता है कि प्रशासन और इस्कान मिड डे मील में मिली छिपकली के बाद भी नहीं जागा है.
कीड़े-मकोड़े, मक्खी-मच्छर को लेकर इस्कान से भी ज्यादा प्रशासन लापरवाह बना हुआ है. छात्रों के अविभावकों का कहना है कि उन्होंने पलवल एसडीएम के फोन पर जानकारी देने के लिए कई बार फोन किया लेकिन वे फोन उठाती ही नहीं. एडीसी इन्द्रपाल बिश्नोई का इससे भी बुरा हाल है.
लगता है कि एसडीएम और एडीसी को न तो छात्रों की चिन्ता है और न अविभावकों की. अविभावकों का कहना है कि यदि अधिकारियों का यही हाल रहा तो मजबूरन उन्हें सख्त कदम उठाने होंगे.

भारतीय डॉक्टरों ने अफ्रीकी कैंसर मरीज को बचाया

 Rohtak News Live
कैंसर के एक दुर्लभ मामले से जूझ रहे कांगो के 22 वर्षीय नोसी को गुड़गांव के एक अस्पताल में नयी जिंदगी मिली है.
आंख को छोड़कर उनके चेहरे का बड़ा हिस्सा कैंसर से प्रभावित था और बचने की दर केवल 10 फीसदी थी.

नोसी के मुंह, ओंठ, गाल, जबड़े की हड्डी और जीभ का 90 फीसदी हिस्सा कैंसर से प्रभावित था और पिछले चार साल से न तो वह खा पा रहा था और न ही बोल पाता था.

गुड़गांव स्थित पारस अस्पताल में ऑपरेशन करने वाले सर्जनों की टीम की अगुवाई करने वाले राकेश दुरखुरे ने कहा, ‘‘दुनिया में अपनी तरह का यह छठा मामला है. पांच महीने पहले जब नोसी ने संपर्क किया तो उसकी स्थिति दहला देनेवाली थी. हर जगह अपने बेटे के इलाज के बारे में मनाही के बाद उसकी मां सारी उम्मीदें छोड़ चुकी थी.’’

डॉक्टर ने कहा, ‘‘यह युवक चार साल से न तो बोलने में सक्षम था, न खा पाता था न चबा पाता था. ड्राप से किसी तरह उसकी मां उसे आहार देती थी.’’

मौत का जोखिम जुड़ा होने के कारण भारत और विदेश के कई अस्पतालों ने उसका इलाज करने से मना कर दिया था. दुरखुरे ने तीन चरण में सर्जरी की और अंतिम सर्जरी के लिए कुल छह महीने का समय लगेगा.

डॉक्टर ने कहा, ‘‘हमने उसकी सर्जरी तीन चरण में की और आखिरकार उसकी आवाज लौटाने में सफल रहे. अब छह महीने के बाद सर्जरी की जाएगी.’’

ऑपरेशन के पहले चरण में कैंसर के खतरे को कम करने के लिए चार सत्र में कीमोथेरेपी की गयी. सन के लिए नाक के सामने के छेदों को भरा गया और संक्रमण रोकने के लिए एंटीबायोटिक्स की भारी मात्रा दी गयी.


उन्होंने कहा, ‘‘दूसरे चरण में हमने गाल, ऊपरी जबड़ा, निचले जबड़े की हड्डी और आधी जीभ को हटाया. हमारी टीम ने दो परतों- मुंह की त्वचा के लिए छाती की त्वचा और चेहरे के लिए जांघ की त्वचा का इस्तेमाल किया. अगली सर्जरी छह महीने के बाद की जाएगी जब उसके मुंह और ओंठ को हटाया जाएगा.’’

चार वर्षों में पहली बार पिछले सप्ताह नोसी के दांतों की सफाई हुयी. डॉक्टर ने कहा, ‘‘वह भावुक हो गया और रोने लगा.’’ अब बोलने में सक्षम हो चुके नोसी एक नयी जिंदगी की आशा के साथ अगले सप्ताह अपने देश जाएंगे और अगली सर्जरी के लिए फिर आएंगे.

11 साल के बच्चे के खिलाफ एक शिशु के अपहरण का मामला दर्ज

Rohtak News Live
रोहतक में पुलिस ने एक शिशु का अपहरण करने और फिरौती के तौर पर उसके पिता से 3 लाख रूपये की मांग करने के आरोप में 11 साल के एक स्कूली बच्चे के खिलाफ मामला दर्ज किया है.
जिस शिशु का अपहरण करने का आरोप 11 वर्षीय बच्चे पर लगा है उसकी उम्र ढाई साल है.
शनिवार को आरोपी को किशोर अदालत में पेश किया गया जहां से उसे हिसार स्थित बाल सुधार घर भेज दिया गया.
शिवाजी कालोनी पुलिस के अनुसार, आरोपी ने शिशु को प्ले स्कूल से यह कह कर उठाया कि उसके अभिभावकों ने उसे शिशु को घर लाने के लिए भेजा है.
आरोपी उसे ले कर एक सुनसान जगह गया और उसके पिता को फिरौती के लिए फोन कर उनसे तीन लाख रूपये मांगे.
शिशु के पिता एक निजी फाइनेंस कंपनी में एकाउंटेंट हैं. उन्होंने तत्काल पुलिस को सूचित किया. पुलिस ने अपहरणकर्ता का पता लगाने के लिए चार दल गठित किए.
आरोपी के मोबाइल फोन की लोकेशन के आधार पर पुलिस उस तक पहुंच गई और शिशु को उसके कब्जे से छुड़ा कर उसके परिवार के पास पहुंचाया.

मारपीट के मामलों में पांच गिरफ्तार

रोहतक. पुलिस ने मारपीट के अलग-अलग मामलों में पांच युवकों को गिरफ्तार किया है। मंगलवार को अदालत में पेशी के बाद उन्हें जमानत मिल गई। इसमें सदर पुलिस द्वारा मायना निवासी रघबीर व दीपक, महम पुलिस ने माड़ौदी निवासी रोहताश, माड़ौदी रांगड़ान निवासी ओमपाल व दल

हादसों में चार की हुई मौत और 4 ने खाया जहर

रोहतक. जिले में अलग-अलग मामलों में चार लोगों की हादसों में मौत हो गई वहीं, चार ने जहर खा लिया। इस संबंध में सांपला, महम, शिवाजी कालोनी व सदर पुलिस कार्रवाई कर रही है।

रविवार सुबह करौंथा निवासी 79 वर्षीय श्रीकृष्ण सड़क पार कर रहा था। ट्रक की चपेट में आने से मौत हो गई। वहीं, सुनारिया गांव निवासी राजपाल पानी की बाल्टी लेकर सीढिय़ों से चढऩे लगा तो पैर फिसलकर नीचे आ गिरा। उसे गंभीर हालत में पीजीआई में ले जाया गया, जहां उसकी मौत हो गई। दोपहर रुड़की गांव निवासी 14 वर्षीय साहिल तालाब में डूब गया। शाम करीब छह बजे ग्रामीण शव को निकाल कर पीजीआई लेकर पहुंचे। इस संबंध में सांपला पुलिस कार्रवाई कर रही है।
इसके अतिरिक्त करौंथा के नजदीक ढाबे के पास अज्ञात वाहन ने 48 वर्षीय व्यक्ति को कुचल दिया, जिसकी शिनाख्त नहीं हो सकी है। शव को पीजीआई के डेड हाउस में रखवाया गया है। उधर, पाड़ा मोहल्ला निवासी सुनीता, निंदाना निवासी प्रदीप, गांधी कैंप निवासी विनोद व गद्दी खेड़ी निवासी निशा ने जहरीला पदार्थ निगल लिया। चारों को पीजीआई में दाखिल कराया गया है।

'लालच' में अंधे ससुर ने बहु के बेडरूम और बाथरूम में लगागे कैमरे

सिरसा.  सोमवार देर रात को गांव तलवाड़ा खुर्द के पास बाइक पर आ रहे एक दंपति से एक सफेद रंग की स्कॉर्पियो गाड़ी में आए आधा दर्जन लोगों ने मारपीट की। दोनों को घायल कर आरोपी मौके से फरार हो गए।
बाद में मौके पर पहुंचे दंपति के रिश्तेदारों ने उनको सामान्य अस्पताल में भर्ती करवाया। घायल दंपति का कहना है कि उनके परिवारिक लोग ही उनके जान के दुश्मन बने हुए हैं और मामले की सूचना पुलिस को दी गई है। घायल युवती ने अपने सुसरालजनों पर गंभीर आरोप लगाए हैं। 
कहते हैं तेरे पति की पढ़ाई पर बहुत पैसे खर्च हुए: लोकेश
मेरी शादी तीन साल पूर्व हनुमानगढ़ के रहने वाले विक्रम सिंह से हुई है। मुझे एक डेढ़ साल का बेटा भी है जिसका नाम शिवा है। मेरे पति को छोड़कर ससुरालवाले मुझे पिछले तीन सालों से तंग करते हैं। उन्होंने हमारे बैडरूम, बाथरूम व कमरे के बाहर भी सीसी कैमरे लगवा रखे हैं। कोई ना कोई वीडियो फुटेज देखता ही रहता हैं। मेरे पति ने एकबार सीसी कैमरे तोड़ भी दिए थे मगर फिर से लगवा लिए। वे चाहते हैं कि मैं मायके से पैसे उनको लाकर देती रहूं।


पिता से मांगे हैं 6 लाख
मेरे पिता से 6 लाख रुपये मांगे हैं कहते हैं कि हमने विक्रम की पढ़ाई पर काफी खर्च किया है। मेरे पति अभी बेरोजगार हैं वहीं खेतीबाड़ी का भी बंटवारा नहीं हुआ। सोमवार सुबह मेरी फुटेज को देखकर फिर झगड़ा हुआ तो देर शाम मैं अपने पति व बेटे सहित बाइक पर फिर हनुमानगढ़ टाउन से मेहनाखेड़ा अपने मायके आ रही थी। 

गीजर में छोड़ दिया था करंट
रास्ते में रात 9 बजे तलवाड़ा खुर्द के पास पीछे से ससुरालवाले सफेद रंग की स्कॉर्पियो गाड़ी लेकर आए और उनको रोक कर मारपीट शुरू कर दी। उसके पति व उसके भी हाथ पर चोट लगी है। मैंने पापा को फोन किया और उन्होंने रात साढ़े 12 बजे के करीब सिविल अस्पताल में भर्ती कराया। मेरा ससुर इलेक्ट्रीकल जेई है जिसमें पिछली सदिर्यों में मेरे गीजर में करंट छोड़ दिया था ताकि मैं मर जाऊं। मेरा पति मेरे साथ है बाकि ससुरालवाले हमें पैसों के लालच में नीचा दिखाना चाहते हैं। मेरी ससुरालवालों ने बहुत हरॉशमेंट की है मगर अब चुप नहीं रहूंगी।

‘मामले की जांच कर रहे हैं’
ऐलनाबाद थाना प्रभारी दलीप सिंह ने कहा कि पुलिस के पास दंपति से मारपीट करने का मामला आया है। मामला परिवारिक सा लग रहा है। घायलों के बयान दर्ज करने के बाद केस दर्ज किया जाएगा। अभी मामले की जांच कर रहे हैं।

बीए की छात्रा से पहले किया दुराचार फिर कर दिया नहर के हवाले

यमुनानगर. बीए की एक छात्रा से दुराचार कर आरोपी ने पीडि़ता को पश्चिमी यमुना नहर में धक्का दे दिया। आसपास के लोगों ने छात्रा को किसी तरह से बाहर निकाला। उन्होंने पीडि़ता को उसकी मौसी के घर नाहरपुर पहुंचाया। परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने पीडि़ता का मेडिकल कराया।

इसमें दुराचार की पुष्टि हुई है। इसके बाद जठलाना पुलिस ने छह के लोगों के खिलाफ दुराचार व षडय़ंत्र का मामला दर्ज कर लिया है। इस मामले में फिलहाल कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है। पुलिस ने विशेष टीम गठित कर आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए यूपी भेज दी है।

जिला सहारनपुर के गांव औलरी निवासी 19 वर्षीय एक युवती निजी कॉलेज से बीए की पढ़ाई कर रही है। छह जुलाई को वह अपनी मौसी के घर नाहरपुर आई थी। यहां से मु\'जफरनगर के गांव जंदेड़ी निवासी उमाशंकर अपने पांच अन्य साथियों के साथ उसे शादी का झांसा देकर अपहरण कर अपने साथ ले गया। आरोपी छात्रा को पहले हरिद्वार लेकर गए। वहां कई दिन तक उसके साथ दुराचार किया।
विरोध करने पर मारपीट की गई और उसे जान से मारने की धमकी दी गई। पीडि़ता ने बताया कि उससे शादी के फर्जी दस्तावेज पर साइन करवाए गए। उसे झांसा दिया जा रहा था कि कोर्ट मेरिज कर रहे हैं, लेकिन कई दिन तक अदालत की कार्रवाई न होते देख पीडि़ता को शक हो गया। जब उसने इस संबंध में आरोपी से पूछताछ की उसने योजनाबद्ध तरीके से छात्रा को नहर में धक्का दे दिया। यह सोच कि वह डूबकर मर जाएगी, आरोपी वहां से फरार हो गया।


आसपास के लोगों ने उसे किसी तरह से बचा लिया। आरोपी रिश्ते में पीडि़ता के भाई का साला बताया जा रहा है। पहले पीडि़ता इस मामले की शिकायत लेकर यूपी के सहारनपुर जिला के ननौता थाना गई। लेकिन वहां सुनवाई न होने के बाद उसने मामले की सूचना यमुनानगर के जठलाना थाने में दी। पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी है। थाना प्रभारी निर्मल सिंह का कहना है कि आरोपियों को शीघ्र गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

Rohtak News नाबालि‍ग लड़कि‍यां बार में पी रही थीं शराब, साथ में थे 6 लड़के...










गुडग़ांव में जिला प्रशासन की विशेष टीम ने रविवार शाम विपुल अगोरा मॉल स्थित क्लब-18 बार में 9 नाबालिगों को शराब पीते पकड़ा। इनमें 6 लड़के व 3 लड़कियां हैं। बार का चालान कर दिया गया है। छापे के दौरान कुल 25 लोग बार में मौजूद थे। बार का कोई कर्मचारी मौके पर मौजूद नहीं होने के कारण स्टॉक रजिस्टर चेक नहीं किया जा सका। टीम ने साउथ प्वाइंट मॉल स्थित राइनो क्लब, सेवन्थ डिग्री माइक्रो ब्रेवरीज, बज्ज इन व मीडिया कैफे का भी निरीक्षण किया। 
 
14 जुलाई को एमजी रोड स्थित बज्ज इन बार में 100 बच्चों को शराब परोसने का मामला सामने आने के बाद प्रशासन ने विशेष टीम बनाई है। इस मामले में एक्साइज एंड टैक्सेशन डिपार्टमेंट ने केस बनाकर चंडीगढ़ स्थित विभाग के कलेक्टर को भेज दिया है।

पाकिस्तानियों ने सचिन-गांगुली संग की थी बेहूदगी,क्या जानते हैं आप?

Rohtak News..  भारत और पाकिस्तान के मुकाबले हमेशा रोमांचक होते हैं। इस जंग में कोई भी टीम हारना नहीं चाहती। जितना उत्साह खिलाड़ियों में होता है उससे कई गुना ज्यादा एक्साइटमेंट दर्शकों के अंदर होता है। लेकिन कभी-कभी यही जोश खेल भावना को तार-तार भी कर जाता है।
क्रिकेट वर्ल्ड में पाकिस्तानी मैदानों को खेलने के लिहाज से सबसे खतरनाक माना जाता है। 2009 में श्रीलंकाई टीम पर आतंकी हमले से पहले भी कई बार पाकिस्तान में मेहमान खिलाड़ियों को बदसलूकी झेलनी पड़ी है।
सितंबर 1997 में टीम इंडिया को भी पाकिस्तानियों की बदतमीजी का शिकार होना पड़ा था। लेकिन तब हमारे शेर पीठ दिखाकर भागे नहीं थे, पाकिस्तानियों को सबक सिखाकर ही घर लौटे थे।
30 सितंबर 1997। कराची के नेशनल स्टेडियम में भारत और पाकिस्तान के बीच सीरीज का दूसरा वनडे मुकाबला हो रहा था। मेजबान कप्तान सईद अनवर ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया। 
ओपनर शाहिद आफरीदी ने कप्तान के साथ मिलकर टीम को अच्छी शुरुआत दी। अनवर के 18 रन बनाकर आउट होने के बाद आफरीदी ने एजाज अहमद के साथ टीम का स्कोर आगे बढ़ाया।
आफरीदी हमेशा की तरह आक्रामक अंदाज में खेल रहे थे। महज 56 गेंदों में 9 चौके व 1 छक्का लगाते हुए उन्होंने 72 रन बना लिए थे। धवल कुलकर्णी ने जब उन्हे आउट किया तो कराची स्टेडियम में बैठे दर्शक उत्तेजित हो उठे।
मैदान पर पाकिस्तानी खिलाड़ी खेल रहे थे तो बाउंड्री पार बैठे दर्शक एक अलग ही तरह के खेल में लगे हुए थे। दर्शकों ने भारतीय फील्डरों पर फब्तियां कसना शुरू कर दीं। गंदी-गंदी गालियां जब भारतीय खिलाड़ियों के कानों में पड़ीं तो उन्होंने इसकी शिकायत फील्ड अंपायरों से की।
अंपायर मियान मोहम्मद असलम और सलीम बदर ने मेहमान टीम के कप्तान सचिन तेंडुलकर की बात मानते हुए मैच रैफरी रंजन मदुगले को दर्शकों के व्यवहार से अवगत करवाया।
चेतावनी मिलने के बाद दर्शक कुछ देर तक तो शांत बैठे, लेकिन इंजमाम उल हक की बल्लेबाजी ने उनके जोश को फिर से दोगुना कर दिया। इंजमाम मोइन खान के साथ मिलकर टीम का स्कोर 300 पार पहुंचाने की तैयारी कर रहे थे।

48वें ओवर में दर्शकों ने अपनी सीमाएं लांघते हुए सौरव गांगुली पर पत्थर फेंका। सौरव चुप रहने वालों में से नहीं थे। उन्होंने तुरंत इसकी शिकायत अंपायरों से की।
 वें ओवर तक पाकिस्तान 4 विकेट पर 265 रन बना चुका था। तभी कप्तान सचिन तेंडुलकर ने वॉकआउट करने का फैसला सुना दिया। अपने खिलाड़ियों के साथ हो रही उस बदसलूकी से सचिन बहुत नाराज थे। 
मैच रैफरी मदुगले ने उनसे पूछा कि क्या वे मैच आगे खेलना चाहते हैं? सचिन ने मैदान छोड़ने की जगह पत्थर का जवाब बल्ले से देने की ठानी। उन्होंने कहा कि उनकी टीम बल्लेबाजी करेगी।

कप्तान सचिन सौरव गांगुली के साथ ओपनिंग के लिए उतरे। दोनों बल्लेबाजों ने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करते हुए पहले विकेट के लिए 71 रन जोड़ लिए।
अजहर महमूद ने सचिन को तो 21 रन के स्कोर पर आउट करने में सफलता हासिल कर ली, लेकिन गांगुली डटे रहे।
गांगुली ने विनोद कांबली के साथ मिलकर मैच विनिंग साझेदारी निभाई। दोनों बल्लेबाजों ने दूसरे विकेट के लिए 98 रन जोड़े।गांगुली ने 11 चौके लगाते हुए 96 गेंदों में 89 रन बनाए। कांबली ने भी अपना कमाल दिखाते हुए 7 चौकों से सजी 53 रन की पारी खेली।
इन दोनों धुरंधरों के आउट होने के बाद रॉबिन सिंह ने सबा करीम के साथ मिलकर टीम को जीत दिलाई। पाकिस्तान द्वारा दिए 266 रन के टार्गेट को भारतीय टीम ने 3 गेंदें शेष रहते ही हासिल कर लिया। 
उस 4 विकेट की जीत ने यह दिखा दिया कि टीम इंडिया किसी भी परिस्थिति में खेल सकती है। भारतीय टीम के अलावा यदि किसी और टीम पर पत्थरबाजी हुई होती तो शायद वे मैच आगे खेलने से ही इंकार कर दिए। लेकिन सचिन और गांगुली ने ऐसा नहीं किया। उन्होंने वॉकआउट भी किया और मैच जीतकर पाकिस्तान को करारा जवाब भी दे दिया।
सौरव गांगुली को किफायती गेंदबाजी और 89 रन की मैच विनिंग पारी के लिए मैन ऑफ द मैच दिया गया।

निजी जिंदगी में ऐसे हैं विराट कोहली

खेल डेस्क. दिल्ली हो या ऑस्ट्रेलिया, घर हो या विदेश, हर मोर्चे पर रनों की बरसात कर नए सुपरहीरो बन रहे हैं विराट कोहली। उनके परफॉर्मेंस में कंसिस्टेंसी देखते हुए सेलेक्टर्स ने उन्हें वीरेंद्र सहवाग, गौतम गंभीर और सुरेश रैना जैसे सीनियर्स से आगे रखते हुए उप-कप्तानी सौंपी। 24 साल के विराट इस जिम्मेदारी को भी बखूबी निभा रहे हैं।
क्रिकेट वर्ल्ड में यदि किसी यंग आइडल का उदाहरण देना हो तो विराट कोहली का नाम सबसे आगे आता है, लेकिन उनकी ऑफ द फील्ड हरकतें उन्हें परफेक्ट यूथ आइकन नहीं बनने देतीं। यह मत सोचिए कि विराट कोहली नशे में टल्ली होकर होटलों में झगड़े करते हैं या फिर लड़कियों से छेड़छाड़ करते हैं, लेकिन उनका बिंदास अंदाज उन्हें सचिन तेंडुलकर और राहुल द्रविड़ की कैटेगरी में एंट्री नहीं देता।
विराट खुले दिमाग के बिंदास लड़के हैं। अश्लील टी-शर्ट पहनने में उन्हें कोई झिझक महसूस नहीं होती। साथ ही मैदान पर अपने इमोशन्स दिखाने में भी वे पीछे नहीं रहते।

Rohtak News चौके-छक्के लगाकर मैदान पर रचते हैं इतिहास... पर निजी जिंदगी में ऐसे हैं विराट


Rohtak News रिपोर्टर ने सल्लू से पूछा कैट पर सवाल, बदले में मिली मां-बहन की गालियां

सलमान खान इन दिनों अपने रिलेशनशिप के बारे में जवाब देने के मूड में बिल्कुल भी नहीं हैं। ऐसा लग रहा है कि उनसे कोई भी सवाल ना पूछा जाए, यही बेहतर होगा।
पिछले दिनों जब उनकी वर्तमान गर्लफ्रेंड लुलिया वेंचर की कुछ तस्वीरें मीडिया में आ गई थीं जिनमें वो अपने पति के साथ थीं तो ये बात भी सलमान को नागवार गुजरी थी। इसके बाद अभी हाल ही में सलमान की फिल्म 'मेन्टल' के सेट पर किसी ने उनसे उनकी पूर्व-प्रेमिका कैटरीना कैफ के बारे में कुछ पूछ लिया था तो उसकी तो शामत ही आ गई थी।
दरअसल कुछ दिनों पहले ही कैट की कुछ तस्वीरें रणबीर के साथ लीक हो गई थीं जिनमें कैटरीना बिकिनी में थीं और वो रणबीर के साथ श्रीलंका में छुट्टियां मनाने गई हुई थीं। इसके बाद रणबीर और कैट के बारे में काफी सारी अफवाहें भी उड़ी थीं। लेकिन यहीं बातें जब सलमान से पूछी जाने लगीं तो उनका गुस्सा बर्दाश्त से बाहर हो गया।

Rohtak News इस बार बनेगा ऐसा ' छक्का' कि सारी पंगेबाजी भूल जाएगा बदमिजाज पाकिस्तान

क्रिकेट के मैदान पर भारत और पाकिस्तान का मुकाबला मतलब टैंक और गोले की बजाय बॉल और बैट की जंग। खेल से ज्यादा आन और बान की जंग और मुकाबला जब वर्ल्ड कप का हो तो फिर खिलाड़ियों का हौसला और जज्बा किसी किसी रणबांकुरे से कम नहीं होता।
वर्ल्ड कप 2015 में टीम इंडिया का आगाज पाक के साथ फिर ऐसी ही जंग से होगा। आईसीसी ने इस जंग-ए- तारीख का ऐलान भी कर दिया। फरवरी की 15 तारीख इस जंग की गवाह बनेगी।
पाकिस्तानी खिलाड़ियों की बदजुबानी और हरकतों के बाद भी अब तक हुए वर्ल्ड-कप के पांच मुकाबलों में फतह टीम इंडिया ने ही हासिल की है और इस बार टीम इंडिया जीत का छक्का बनाने को बेकरार है।

Jul 30, 2013

Rohtak News गीतांजलि मर्डर: सीजेएम गर्ग पर दहेज हत्या का केस भी दर्ज

चंडीगढ़. गुडग़ांव के चीफ ज्युडिशियल मजिस्ट्रेट (सीजेएम) रवनीत गर्ग की पत्नी गीतांजलि की मौत के १२वें दिन पुलिस ने रवनीत गर्ग समेत अन्य के खिलाफ दहेज हत्या का मुकदमा भी दर्ज कर लिया।गुडग़ांव के पुलिस कमिश्नर आलोक मित्तल ने बताया कि गीतांजलि के भाई प्रदीप अग्रवाल ने 21 जुलाई को सप्लीमेंटरी शिकायत देकर कहा था कि उन्होंने रवनीत के परिवार को समय-समय पर दहेज दिया। पुलिस ने दहेज में दिए सामान की लिस्ट मांगी थी जिसके बाद रविवार शाम को गीतांजलि के परिवार ने कुछ दस्तावेज उपलब्ध कराए।इसके बाद रविवार रात प्रदीप के बयान दर्ज कर दहेज हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया गया। इस मामले में रवनीत गर्ग और उनके माता-पिता के अलावा चचेरी बहन हिना और सगे भाई नवदीप गर्ग को भी आरोपी बनाया गया है। गौरतलब है कि गीतांजलि का शव 18 जुलाई की शाम को गुडग़ांव सिविल लाइंस परिसर में मिला था। उसे तीन गोलियां लगी थी जो रवनीत गर्ग के रिवाल्वर से चली थी।19 जुलाई को पुलिस ने गीतांजलि के भाई प्रदीप की शिकायत पर रवनीत गर्ग, उनके पिता व चंडीगढ़ डिस्ट्रिक्ट कोर्ट के पूर्व सेशन जज के.के. गर्ग और मां रचना गर्ग पर हत्या का केस दर्ज किया था।उधर, सीबीआई ने गीतांजलि की मौत की पहेली सुलझाने के लिए क्राइम ब्रांच की विशेष टीम बना दी है। गृह मंत्रालय से मंगलवार तक नोटिफिकेशन मिल जाने की उम्मीद है जिसके बाद सीबीआई बुधवार तक एफआईआर दर्ज कर सकती है।गीतांजलि की हत्या करने वालों पर कार्रवाई की मांग को लेकर नई दिल्ली में जंतर-मंतर पर सैकड़ों लोगों ने प्रदर्शन किया। गीतांजलि के परिवार के साथ खड़े होकर राजनीतिक व सामाजिक संगठनों ने दोषियों को फांसी की सजा देने की मांग की। प्रदर्शन में चंडीगढ़, पंचकूला, अम्बाला व दिल्ली के लोग शामिल हुए। 

Rohtak News जब जानेंगे इस तस्वीर के पीछे की सच्चाई तो हिल जाएगा आपका विश्वास!

हरियाणा. प्रदेश के सरकारी स्कूलों में सोमवार को आयरन फोलिक एसिड की गोलियां बांटी गईं। इस बार हालांकि बच्चों के बीमार होने की घटनाएं अपेक्षाकृत काफी कम आईं। लेकिन यमुनानगर, कुरुक्षेत्र, कैथल, हिसार समेत कई जगहों पर काफी बच्चों ने तरह-तरह के बहाने बनाकर आयरन गोलियां खाने से मना कर दिया। अब नेशनल रूरल हैल्थ मिशन(एनआरएचएम) इन बच्चों को एक-दो दिन बाद गोलियां खिलाने की रणनीति बनाई है। हिसार में अधिकांश छात्राओं ने सोमवार का व्रत बताकर गोलियां खाने से मना कर दिया। जबकि कुछ स्कूलों में बच्चों को गोलियां इसलिए नहीं खिलाई जा सकीं क्योंकि वहां मिड-डे मील में खीर बनी थी। दूध के साथ बच्चों को आयरन की गोली खिलाना मना है। कैथल में करीब 13000 बच्चों ने इसलिए गोलियां नहीं खाईं क्योंकि उनके पापा-मम्मी ने उन्हें गोली खाने मना कर दिया था। अन्य जगहों पर भी बच्चों ने कहीं भूखे पेट होने का बहाना बनाया तो कहीं पहले से ही बीमार होने का फिर भी सोमवार को 113 बच्चे बीमार हो गए।पानीपत  इसराना के बांध गांव के राजकीय मिडल स्कूल में सोमवार को मिड-डे मील के बाद एएनएम की मौजूदगी में 7वीं ओर 8वीं के बच्चों को गोलियां खिलाई गई। ४५ बच्चों को उल्टी लगनी शुरू हो गई और कई बच्चे बेहोश हो गये। सूचना के एक धंटा बाद पहुंची एम्बुलैस तब जाकर सभी को पानीपत सिविल अस्पताल में भर्ती करवाया गया। ग्रामीणों ने स्कूल के सामने नारेबाजी की।फतेहाबाद  सोमवार को 12 बजे राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में आयरन की गोलियां बांटते समय निरीक्षण किया। छात्राओं को आयरन की गोलियां बांटने की से पहले एएनएम बार-बार छात्राओं को यही कहती दिखाई दी 'ले बेटा! आंख बंद करके फटाक से खा जा कुछ नहीं होगा'। स्कूल में 1320 छात्राओं में से 1247 छात्राओं ने आयरन की गोलियां खाईं। इनमें से कोई बीमार नहीं पड़ा।सिरसा:  सिरसा में अभिभावकों ने बच्चों को गोली खिलाने से इनकार कर दिया। भास्कर टीम कई स्कूलों में पहुंची, लेकिन कहीं भी गोली नहीं खिलाई गई। अध्यापकों ने कहा कि जब अभिभावक नहीं चाहते तो गोली कैसे खिलाएं।अम्बाला : पसियाला के गवर्नमेंट सीनियर सेकेंडरी स्कूल में तो स्कूल प्रबंधन समिति, अभिभावक-अध्यापक एसोसिएशन की मीटिंग बुलाई गई और गोली के फायदे बताए गए। अभिभावकों ने सवाल उठाया कि गोली खाने से तबीयत क्यों खराब हो जाती है? काफी समझाने के बाद अभिभावक गोली खिलाने को राजी हुए।हिसार : सरकारी स्कूलों में सोमवार को बहुत से बच्चों ने आयरन टेबलेट नहीं खाई। कारण भी ऐसा बताया कि स्कूल प्रबंधन बच्चों को गोलियां नहीं दे सका। सुबह स्कूल पहुंची छात्राओं के माथे पर टीके लगे थे। आधी छुट्टी के बाद शिक्षकों ने उन्हें टेबलेट खाने को कहा तो छात्राओं ने सोमवार का व्रत होने की बात कही। छात्राओं ने कहा कि उन्होंने सुबह से कुछ नहीं खाया है और सावन के सोमवार के सारे व्रत रख रही हैंं। इसलिए इस सोमवार तो क्या, अगले महीने में आने वाले तीन सोमवारों 5, 12 और 19 अगस्त को भी वे गोलियां नहीं खा सकतीं।नारनौल : राजकीय कन्या उच्च विद्यालय मंढाना केंद्र के तहत नजदीकी 9 स्कूलों के  528 बच्चों को सोमवार आयरन की गोली खिलाई गई। इसे खाने के बाद 30 बच्चों ने सिर दर्द और पेट दर्द की शिकायत की। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने तत्काल बीमार बच्चों का उपचार किया, उसके बाद उन्हें घर भेज दिया गया।...लेकिन एनआरएचएम के एमडी बोले-सोमवार को टेबलेट खाने से तबीयत बिगडऩे की घटनाएं नहीं के बराबरसोमवार को भी आयरन की गोलियां खाने के बाद पानीपत में 45, करनाल में 7, रेवाड़ी में 5, गुडग़ांव में 24, नारनौल में 30 और कैथल के दो गांवों में 38 बच्चों ने तबीयत खराब होने की शिकायत की। लेकिन, एनआरएचएम के एमडी राकेश गुप्ता ने कहा कि सोमवार के बीमार होने की नहीं के बराबर शिकायतें मिली हैं। इनमें ज्यादातर पेट दर्द की हैं जो सामान्य सी बात है। उल्टी और दस्त की शिकायतें बहुत ही कम मिली हैं।

Rohtak News रोहतक की रामगोपाल कालोनी से लापता इंजी. के छात्र का शव हरिद्वार में मिला

Rohtak News... शहर की रामगोपाल कालोनी से पांच दिन से लापता 19 साल के इंजीनियरिंग के छात्र अभिजीत नांदल का शव हरिद्वार में रेलवे स्टेशन पर पटरियों पर मिला है। संदिग्ध हालात में पोते की मौत से आहत 73 वर्षीय सेवानिवृत कर्नल सुरेंद्र नांदल सोमवार को एसपी से मिले और साजिश के तहत हत्या की आशंका जताई है। एसपी ने अर्बन एस्टेट पुलिस को जांच के आदेश दिए हैं।नांदल ने बताया कि पांच साल पहले उसके बेटे विशाल की मौत हो गई। अब बेटे के परिवार की देखभाल वे ही कर रहे हैं। उसका पौत्र 19 वर्षीय अभिजीत 24 जुलाई को बाइक लेकर मोरखेड़ी स्थित कालेज जाने की बात कहकर निकला, लेकिन वापस नहीं लौटा। उसने बाइक पानीपत बस अड्डे पर छोड़ दी। 25 जुलाई की सुबह अभिजीत के मोबाइल नंबर से एसएमएस आया कि वह हरिद्वार पहुंच गया है। कॉल करके पूछा कि वहां क्यों व कैसे पहुंचा तो कोई जवाब नहीं मिला। न ही एसएमएस का जवाब दिया। अनहोनी की आशंका के चलते वे एसपी से मिले और पूरे मामले से अवगत कराया। पुलिस जांच पड़ताल कर ही रही थी कि हरिद्वार जीआरपी पुलिस ने सूचना दी कि अभिजीत का शव रेलवे स्टेशन के नजदीक पटरियों के बीच क्षतविक्षत हालत में मिला है। परिवार के लोग हरिद्वार पहुंचे, जहां पोस्टमार्टम के बाद शव हासिल किया। डाक्टरों ने इस बात का खुलासा नहीं किया कि अभिजीत ने आत्महत्या की है या उसकी हत्या की गई है। अर्बन एस्टेट पुलिस मामले की जांच कर रही है।एसएमएस का जवाब नहीं, मौत की कॉल आई : रिटायर्ड कर्नल नांदल ने बताया कि अभिजीत का एसएमएस मिलने के बाद उसने दो बार मैसेज किया। बेटा, मैं बेटे विशाल को खो चुका हूं, अब तुम्हें नहीं खोना चाहता। 73 साल की उम्र में कहां जाऊंगा? लौट कर आ जाओ। पोते के जवाब के इंतजार में कर्नल की बूढ़ी आंखें पथरा गई हैं। एसएमएस तो नहीं आया, मौत की कॉल जरूर आ गई। rohtak news

Rohtak News सावधान! भारी पड़ सकता है एटीएम पर सहायता लेना

Rohtak News..
सावधान! एटीएम पर पैसे निकालने जाएं तो किसी अनजान व्यक्ति से सहायता न लें। शहर में शातिर गिरोह सक्रिय है जो सहायता के नाम पर ठगी कर लोगों की जेब ढीली कर रहा है। इसी अंदाज में गिरोह ने लाढ़ोत निवासी रामभज के खाते से 76 हजार रुपए उड़ा लिए। पुलिस ने गिरोह के दो सदस्यों झ\'जर जिले के गांव भराण निवासी अजय व जलदीप उर्फ कालू को गिरफ्तार किया है। सोमवार को उन्हें अदालत में पेश किया, जहां से दो दिन के रिमांड पर लिया गया है।मशीन खराब कर बनाते हैं शिकार: पुलिसिया पूछताछ में अजय व जलदीप ने बताया कि योजना के तहत वे एटीएम पर पहुंचकर मशीन के की-बोर्ड में वॉल पिन डाल देते हैं और बाहर आ जाते हैं। जब तक पिन बटनों के बीच में फंसी रहेगी, पैसे नहीं निकल सकते। कोई भी उपभोक्ता पैसे निकालने के लिए अंदर जाता है और पैसे न निकलने की सूरत में वे उपभोक्ता की शक्ल व उम्र के हिसाब से अनुमान लगाकर उसकी सहायता करने की बात कहते हैं। इसके बाद मशीन में एटीएम कार्ड डालकर उपभोक्ता को कहते हैं कि खुद कोड नंबर डायल करें, ताकि उसे किसी तरह का शक न हो। इस दौरान अंगुलियों की हरकत से कोड नंबर जान लेते हैं। पिन फंसी होने के कारण पैसे नहीं निकलते हैं। वे स्वयं प्रयास करने की बात कहकर उपभोक्ता का कार्ड खुद रख लेते और पुराना कार्ड उसे थमा देते हैं। इसके बाद पिन हटाकर पैसे निकाल ले जाते हैं।मॉल में 36 हजार की खरीदारी के बाद काबूशॉपिंग कार्ड से 36 हजार रुपए के कपड़े खरीदना दोनों आरोपियों को महंगा पड़ गया। बैंक खाते की जांच करते हुए पुलिस की एक टीम मेडिकल मोड़ पर पहुंची और सीसीटीवी कैमरे की फुटेज खंगाली। इसके बाद शोरूम की फुटेज को एटीएम केंद्र में लगे सीसी कैमरे की फुटेज से मिलाया गया। मिलान के बाद एसपी ने केस की फाइल स्पेशल स्टाफ को सौंप दी। एएसआई दिलबाग सिंह ने गहराई से जांच-पड़ताल करते हुए देर रात दोनों को दबोच लिया।. Rohtak News

Rohtak News बास्केटबॉल में मॉडल टाउन छाया

मॉडल टाउन स्थित शहीद कैप्टन दीपक शर्मा राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में लड़कियों की जिलास्तरीय स्कूली खेल प्रतियोगिता में रोमांचक मुकाबले हुए। बास्केटबॉल में आयु वर्ग 14 में मॉडल टाउन स्थित कैप्टन दीपक शर्मा राकवमावि प्रथम और पठानिया स्कूल दूसरे स्थान पर रहा। आयु वर्ग 17 में राकवमावि किलाई प्रथम व पठानिया स्कूल द्वितीय रहा। आयु वर्ग 19 में राकवमावि लाखनमाजरा पहले और किलोई दूसरे स्थान पर रहा। कबड्डी स्पर्धा में राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय, जसिया ने पहला व राकवमावि मकड़ौली ने दूसरा स्थान प्राप्त किया।वालीबॉल में चिड़ी विजेतावालीबॉल में आयु वर्ग-19 में मॉडल टाउन का सरकारी स्कूल पहले व चिड़ी स्कूल दूसरे स्थान पर रहे। आयु वर्ग-14 व 17 में राकवमावि चिड़ी ने पहला और मॉडल टाउन के सरकारी स्कूल ने दूसरा स्थान हासिल किया। जिला खेल प्रवक्ता जगबीर हुड्डा ने बताया कि 17 व 19 आयु वर्ग में वालीबॉल, 14, 17 व 19 आयु वर्ग में बास्केटबॉल व 14 आयु वर्ग में कबड्डी प्रतियोगिताएं हुई। जिला खेल प्रवक्ता जगबीर हुड्डा ने बताया कि जिलास्तरीय प्रतियोगिता में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली टीमें रा\'यस्तरीय प्रतियोगिता में भाग लेंगी। उन्होंने बताया की जिन खिलाडिय़ों के पास जन्म प्रमाण पत्र होंगे, वही स्पर्धा में भाग ले सकेंगे। इसमें 26 से 29 अगस्त तक बास्केटबॉल प्रतियोगिता करनाल में होगी। इसी प्रकार 8 से 11 अगस्त तक रा\'यस्तरीय कबड्डी प्रतियोगिता कुरुक्षेत्र में व वालीबाल प्रतियोगिता 14 से 17 अगस्त तक यमुनानगर में खेली जाएगी। इस मौके पर राजकुमार पीटीआई, दिलबाग, फूलपति, ममता पीटीआई व नवीन मौजूद रहे।

Rohtak News घेवर खाने से गांधरा के एक ही परिवार के चार लोग बीमार

गांधरा गांव में सोमवार को घेवर खाने से एक ही परिवार के चार लोग गंभीर रूप से बीमार पड़ गए। सभी को उपचार के लिए देररात डेढ़ बजे पीजीआई में भर्ती कराया गया है। डॉक्टरों की टीम ने बताया कि सभी ने पेट में दर्द और उल्टी की शिकायत बताई है। गांधरा निवासी सोमवीर ने बताया कि वह सोमवार को रोहतक की एक प्रसिद्ध दुकान से घेवर खरीद कर घर ले गया। घेवर खाने के बाद मां, बहन, भाई और पत्नी को उल्टी और पेट में दर्द होने लगा। सभी को तुरंत ही गांव के ही एक चिकित्सक के पास ले जाया गया, लेकिन वहां पर फायदा नहीं हुआ। इसके बाद सभी को पीजीआई में भर्ती कराया गया। डॉक्टरों ने बताया कि सभी की तबीयत गंभीर बनी हुई है। खबर लिखे जाने तक कोई पुलिस कार्रवाई नहीं हो पाई थी।

Rohtak News एमडीयू उत्तरपुस्तिका घोटाला-!-अदालत के फैसले के 6 दिन बाद बीटेक के छात्रों को राहत

भास्कर न्यूज -!- रोहतकउत्तरपुस्तिका घोटाले में बिना छेड़छाड़ वाली 2120 उत्तरपुस्तिकाओं का परीक्षा परिणाम छह महीने बाद सोमवार शाम को एमडीयू द्वारा घोषित कर दिया गया। इस परीक्षा परिणाम में बीटेक तीसरे और पांचवे सेमेस्टर की कक्षाओं की उत्तरपुस्तिकाएं शामिल रहीं। छात्रों के लंबे संघर्ष के बाद परिणाम आ सका। प्रभावित छात्रों का कहना है कि समय पर रिजल्ट आने के चलते अब वे गेट ((ग्रेजुएट एप्टीट्यूड टेस्ट इन इंजीनियरिंग)) का फार्म भर सकेंगे। यदि थोड़ी और देरी होती तो उनका एक साल खराब हो जाता। एमडीयू के परीक्षा नियंत्रक डॉ. बीएस सिंधु ने बताया कि सोमवार शाम को नायसा एजेंसी द्वारा परिणाम वेबसाइट पर डाला गया।19 बार अधिकारियों से मिले छात्रघोटाला सामने आने के बाद बीटेक के छात्र परिणाम घोषित करवाने के लिए 19 बार एमडीयू अधिकारियों से मिले। छात्रों का कहना है कि हर बार उन्हें आश्वासन दिया गया कि जल्द ही परीक्षा परिणाम घोषित कर दिया जाएगा। आखिर परेशान होने के बाद जब प्रभावित छात्रों द्वारा कोर्ट जाने की चेतावनी दी गई तो एमडीयू प्रशासन ने छात्रों को अदालत से मंजूरी लेने की दुहाई दी। 23 को मंजूरी मिलने के ६ दिन बाद परिणाम घोषित किया गया।छात्र बोले, थैंक्यू भास्कर परिणाम घोषित होने के बाद बीटेक के छात्रों राहुल डांगी, सुमित राठी, अजय हुड्डा, प्रीतम, निशांत, विकास कांतीवाल, अमर बत्तरा व विशाल ने फोन कर थैंक्यू भास्कर कहा। उन्होंने धन्यवाद करते हुए कहा कि उनकी आवाज को उठाने में भास्कर का सहयोग सराहनीय रहा।

Rohtak News सुनारिया के किसान ने खाया जहर, पुलिस को भी नहीं पता क्यों किया ऐसा

रोहतक. सुनारिया गांव के किसान 50 वर्षीय प्रेम सिंह ने जहर खाकर आत्महत्या करने का प्रयास किया। समय रहते उसे पीजीआई पहुंचाया गया, जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। किसान ने यह कदम क्यों उठाया, इस बारे में पुलिस पूरी तरह से खामोश है।सुबह पुलिस को सूचना मिली कि सुनारिया निवासी प्रेम सिंह को जहर खाने के चलते पीजीआई में दाखिल कराया गया है। शिवाजी कालोनी थाने से एएसआई राकेश सिंह मौके पर पहुंचे, जहां पीडि़त ने बयान दिया कि उसने सल्फॉस की गोली खाकर आत्महत्या का प्रयास किया। समय रहते परिवार के लोगों ने उसे पीजीआई में दाखिल कराया। पुलिस ने प्रेम के खिलाफ आत्महत्या का प्रयास करने का केस दर्ज किया है।कारणों पर जांच अधिकारी खामोश: जांच अधिकारी एसआई राकेश कुमार का कहना है कि प्रेम सिंह ने खुद जहर खाने की बात कही है। प्रेम ने यह कदम क्यों उठाया, इस पर जांच अधिकारी खामोश हो गए।

Rohtak News खिडवाली से कालेज में दाखिला लेने गई युवती लापता

खिडवाली गांव से कालेज में दाखिला लेने गई 18 साल की युवती संदिग्ध हालात में लापता हो गई है। परेशान परिजन सुबह सदर थाने में पहुंचे और पूरे मामले से अवगत कराया। पुलिस ने केस दर्ज कर युवती की तलाश शुरू कर दी है। महिला एएसआई देवी सिंह ने बताया कि खिडवाली से युवती के परिजन थाने में पहुंचे और बताया कि शनिवार को सुबह नौ बजे लड़की 5 हजार रुपए की नकदी व कागजात लेकर कालेज में दाखिला लेने गई। देर शाम तक वापस नहीं लौटी तो परिजनों को चिंता हुई। कई जगह तलाश किया, लेकिन कामयाबी नहीं मिल सकी।

Rohtak News हादसों में चार की हुई मौत और 4 ने खाया जहर

रोहतक. जिले में अलग-अलग मामलों में चार लोगों की हादसों में मौत हो गई वहीं, चार ने जहर खा लिया। इस संबंध में सांपला, महम, शिवाजी कालोनी व सदर पुलिस कार्रवाई कर रही है।रविवार सुबह करौंथा निवासी 79 वर्षीय श्रीकृष्ण सड़क पार कर रहा था। ट्रक की चपेट में आने से मौत हो गई। वहीं, सुनारिया गांव निवासी राजपाल पानी की बाल्टी लेकर सीढिय़ों से चढऩे लगा तो पैर फिसलकर नीचे आ गिरा। उसे गंभीर हालत में पीजीआई में ले जाया गया, जहां उसकी मौत हो गई। दोपहर रुड़की गांव निवासी 14 वर्षीय साहिल तालाब में डूब गया। शाम करीब छह बजे ग्रामीण शव को निकाल कर पीजीआई लेकर पहुंचे। इस संबंध में सांपला पुलिस कार्रवाई कर रही है।इसके अतिरिक्त करौंथा के नजदीक ढाबे के पास अज्ञात वाहन ने 48 वर्षीय व्यक्ति को कुचल दिया, जिसकी शिनाख्त नहीं हो सकी है। शव को पीजीआई के डेड हाउस में रखवाया गया है। उधर, पाड़ा मोहल्ला निवासी सुनीता, निंदाना निवासी प्रदीप, गांधी कैंप निवासी विनोद व गद्दी खेड़ी निवासी निशा ने जहरीला पदार्थ निगल लिया। चारों को पीजीआई में दाखिल कराया गया है।

Rohtak News आधार कार्ड बनाने वाले युवक ने की अश्लील हरकत, काबू

रोहतक -!-विशाल नगर में आधार कार्ड बनाने वाले युवक मुरादपुर टेकना निवासी सुमित को पड़ोस की महिला की तरफ अश्लील इशारा करना महंगा पड़ गया। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर रविवार को अदालत में पेश किया, जहां से जमानत मिल गई। पीडि़ता ने शिकायत दी कि वह अपने मकान की छत पर खड़ी थी। तभी सामने मुरादपुर टेकना निवासी सुमित सामने वाले मकान की बालकॉनी में आया और अश्लील इशारे करने लगा। महिला ने अपने पति को युवक की हरकत के बारे में बताया। दंपति नया बस अड्डा पुलिस चौकी में पहुंचा और शिकायत दर्ज कराई।

Rohtak News बेटी बोली, पापा जल्दी आओ, मम्मी झूल रही है

कृष्णा कालोनी की बंद गली का आखिरी मकान। साढ़े तीन साल की प्रिया नीचे से ऊपर चौबारे में गई और दरवाजा खोल कर अंदर झांका तो चीख उठी। रोती हुई नीचे आई और गली में खड़े अपने पापा से बोली मम्मी झूल रही है। पवन को समझते देर न लगी। ऊपर जाकर देखा तो उसकी 24 वर्षीय पत्नी पूनम फंदे पर झूलती मिली। चाकू से चुन्नी काटकर नीचे उतारा, लेकिन उस समय तक देर हो चुकी थी। विवाहिता ने आत्महत्या क्यों की? यह अभी राज बना हुआ है। उधर, मायके वालों ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अध्ययन के बाद दोबारा नए सिरे से बयान दर्ज कराने की बात कही है।सोनीपत जिले के गांव पबनेरा निवासी संजय ने बताया कि उसकी बहन पूनम की शादी 2007 में कृष्णा कालोनी के पवन कुमार के साथ हुई। उसके दो ब\'चे हैं। तीन साल की लड़की व डेढ़ साल का लड़का। सुबह करीब आठ बजे सूचना मिली कि पूनम ने फांसी लगाकर जान दे दी है। वह परिवार सहित रोहतक पहुंचा और अंदर जाकर देखा तो पूनम का शव बैड पर मिला। मामले की सूचना इंदिरा कालोनी चौकी में दी गई। चौकी प्रभारी एसआई बालकिशन मौके पर पहुंचे और शव को कब्जे में लेकर पंचनामा किया। इसके बाद शव को पीजीआई के डेड हाउस ले जाया गया, जहां पोस्टमार्टम के दौरान खुलासा हुआ कि पूनम ने फांसी लगाकर आत्महत्या की है। इसके बाद पुलिस ने उसके मायके वालों के बयान दर्ज किए। मृतका के भाई ने कहा कि पूनम ने आत्महत्या क्यों की? इस बारे में जांच पड़ताल कर रहे हैं। सोमवार को दोबारा बयान दर्ज कराएंगे। इसके बाद पुलिस ने शव परिजनों को सौंप दिया।

Jul 29, 2013

ब्‍लाउज के लि‍ए छात्राओं की पिटाई, प्रिंसि‍पल ने फाड़े लड़कियों के कपड़े

सासाराम. चौखंडी स्‍थि‍त कन्‍या मध्‍य वि‍द्यालय में स्‍कूल की प्रिंसि‍पल और छात्राओं के बीच जमकर हाथपाई हुई। छात्राओं का आरोप था कि प्रिंसि‍पल परीक्षा शुल्‍क के रूप में जबरदस्‍ती सबसे ब्‍लाउज का कपड़ा और नकदी की मांग कर रही हैं। मौके पर पहुंची पुलि‍स ने प्रिंसि‍पल के पास से सैकड़ों ब्‍लाउज के कपड़े बरामद कि‍ए। छात्राएं इतने गुस्‍से में थीं कि अधि‍कारि‍यों के सामने ही वह प्रिंसि‍पल से भि‍ड़ गईं। हालांकि प्रिंसि‍पल ने स्‍टाफ का बचाव करते हुए सभी छात्राओं को न सिर्फ दौड़ा-दौड़ा कर पीटा, बल्‍कि उनके कपड़े तक फाड़ दि‍ए। मामले में आरोपी शि‍क्षि‍का ने इसे स्‍कूल की पुरानी परंपरा बताया। 

जब पति के मौत की खबर देने पहुंची पुलिस तो अंदर था खौफनाक नजारा

जयपुर। शहर के शास्त्री नगर में पुलिस कांस्टेबल ने दिल दहलाने वाली घटना को अंजाम दिया। इस कांस्टेबल ने पहले तो अपनी पत्नी आशा देवी (33), बेटी खुशी (11) व अनु (6) और एक माह के बेटे को गला रेतकर मार डाला, फिर सरकारी क्वार्टर को बाहर से बंद कर पंजाब भाग गया। वहां 4 दिन बाद अंबाला कैंट में ट्रेन के आगे कूदकर खुद ने भी जान दे दी।वारदात के पीछे गृहक्लेश को कारण बताया जा रहा है। कांस्टेबल विजय कुमार चौधरी (3५) राजस्थान पुलिस अकादमी के बी-ब्लॉक स्थित क्वार्टर नंबर 14 में परिवार सहित रहता था और चार माह से ट्रांसपोर्ट नगर थाने की पीसीआर में तैनात था।वह मूलत: अलवर जिले के मांजरा-मुंडावर का रहने वाला था। पुलिस कमिश्नर बीजू जॉर्ज जोसफ ने बताया कि कांस्टेबल ने वारदात को बुधवार रात अंजाम दिया। वह बिना बताए 25 जुलाई से ड्यूटी से नदारद चल रहा था।

Rohtak News चोरी के मामलों में चार गिरफ्तार

रोहतक -!- जिला पुलिस ने चोरी के अलग-अलग मामलों में चार युवकों को गिरफ्तार किया है। रविवार को अदालत में पेशी के बाद उन्हें जेल भेज दिया गया। इसमें अर्बन एस्टेट पुलिस द्वारा बोहर निवासी विपल उर्फ सुल्तान, गोसपुर ((उत्तरप्रदेश)) निवासी रवि व फतेहपुरी कालोनी निवासी मुकेश व शहर पुलिस ने कंसाला निवासी अनिल को काबू किया है।

Hang them, says mother of Delhi biker killed in police firing

 19-year-old youth was killed and another injured on Sunday when the police opened fire during an attempt to stop a large group of bikers from performing dangerous stunts in the high-security area of the national capital in the wee hours.The police claimed that the group of bikers turned violent when they were asked to stop their stunts and started pelting stones between 2 and 2.15 am near WindsorPalace in New Delhi district, injuring some policemen, following which the cops fired warning shots but the bikers did not relent.An inspector fired a bullet to puncture a motorcycle's rear tyre, but at that very instance the biker did a stunt and the bullet hit the victim Karan Pandey, who was riding pillion, in the back, a senior police officers said.Punit Sharma, who was riding the bike, was also injured in the incident, they said. Both of them were rushed to Ram Manohar Lohia hospital, where Pandey was declared dead.Although cops claimed that the killing of the youth was an accident, his family members and others questioned whether the police could have had employed other options.Pandey's mother accused the cops of high-handedness and demanded the death penalty for the guilty police personnel."They don't fire at terrorists and criminals. My son was not a thief or a dacoit. The police has wronged as they don't have the right to kill a child. Cops who killed him should be hanged," said Pandey's mother Manju.Questioning the police version, she claimed her son didn't even know how to ride a motorbike and demanded that a post-mortem be done by a team of doctors."My son doesn't even know how to ride a motorcycle and we also don't have a motorbike at home. He also doesn't indulge in drugs. If he was indulging in hooliganism or had misbehaved with them, they could have lathicharged or arrested him, but they shouldn't have fired at him. He was my only son," she said.A magisterial probe is likely to be ordered as is generally the norm in such incidents, official sources said.The police officer said, "A police control room call was received that 30-35 bikers were performing stunts opposite Gol Dakhana. When two PCR vans reached WindsorPalace, opposite Le Meridian hotel, the bikers ganged up and started pelting stones at the police party during which the PCR vans were damaged and some policemen were injured."When the youths overlooked several warnings and aerial shots fired by the police. inspector Rajneesh Parmar of the police control room fired from his service revolver in a bid to puncture a motorcycle's rear tyre, but just at that very instance the biker did a stunt and the bullet hit the victim, Karan Pandey, who was riding pillion, in the back."Sharma was treated for injuries and he is out of danger, doctors treating him said."Rider Punit Sharma tested positive for alcohol," claimed Rajan Bhagat, public relation officer, the Delhi police.Kusumlata, Punit's mother, said, "The police should not have fired. These were young children. Children do mistakes, but it gives no right to the police to claim someone’s life."Meanwhile, cops have released CCTV footage of the streets of New Delhi showing several bikers performing stunts late in the night.Pandey’s post-mortem will be carried out on Monday.In an effort to curb youths from performing risky motorcycle stunts around India Gate, the Delhi police had carried out a late night drive in the area, slapping fines on 84 motorcycle riders and impounding eight bikes early this month.The crackdown came after a number of incidents were reported in which stunt junkies either lost their lives or injured others. Even a police constable was seriously injured in a similar incident recently. 

Cooks feel 'risk not worth Rs 1,000 paid per month'

Neelbad was a poor village, till the moneyed residents of Bhopal began to buy land there to build farmhouses. There is nothing to indicate that this was once a village of farmers. Located just 10 km from Bhopal, it is all set to be assimilated into the Madhya Pradesh capital.The poor of Neelbad send their children to the Government Middle School. It's housed in a solid single-storey building. Some classes have tables and benches; in others, the students sit on mats. The loos are filthy. Lunch is prepared every day for the 200 or so students who turn up. Earlier this week, one of the four cooks employed by the school ran away after the mid-day meal tragedy at a village in Chhapra in Bihar where insecticide in the food killed 23 children. Other cooks too feel the 'risk is not worth the Rs 1,000 they are paid every month'. If they too bolt, there will be no free lunch in the school; attendance, already at 50 per cent, may plummet to 10 per cent, teachers fear.Schools, in cities, towns and villages, visited by Business Standard reporters in Uttar Pradesh, Madhya Pradesh, Delhi, Punjab, Karnataka and Tamil Nadu after the Chhapra incident show that the national mid-day meal programme, under which 120 million children across 1.2 million schools in India are served food every working day and for which the government earmarked Rs 13,215 crore in this year's Budget, suffers a serious crisis of credibility. Quality controls are few, hygiene is often poor. Nobody is ready to guarantee the quality -- cooks, teachers or principals.

Putting meal horror behind, survivors just want to go home

Sujit Kumar, Upendra Kumar Prasad, Nisha Kumari and Kajal Kumari are some of the many children who fell sick after consuming a meal laced with insecticide in their school at Gandaman village in Bihar's Saran district on July 17.All of them are out of danger but still under treatment."I will soon return to my village. I heard people talking about the deaths of several children after eating mid-day meals in my school," said Upendra, 8, while playing in the children's ward of the Patna Medical College and Hospital.Upendra and other survivors are still being administered Atropine, an antidote for Organo-Phospharous poisoning.Upendra, along with over two dozen sick children, were rushed to the PMCH from Saran after consuming the poisonous meal that day."Two children died on the way to the hospital and two died during treatment," a hospital official informed rediff.com.Pano Devi is the mother of Nisha, 5, and one of the cooks of the doomed school kitchen.She has lost two of her children -- Rohit, 4 and Suman, 11 -- in the tragedy.Nisha, informs Pano Devi, is doing well now and can’t wait to go back homeShe is still trying to grapple with the fact that a meal prepared by her and other cooks killed so many children, including two of her own."I fail to understand how and why it happened," she said in a choked voice.PMCH superintendent Amarkant Jha Amar said the hospital has decided to gift new clothes to the children on the day of their discharge."We want to give them a warm send-off by gifting them new clothes and sweets," he told rediff.com.According to him, the hospital administration has ordered for new clothes for the 18 girls and six boys admitted there.

Rohtak News स्कॉर्पियो ने बुजुर्ग को 20 मीटर तक घसीटा, मौत

दिल्ली-हिसार हाईवे पर सांपला स्थित एक पेट्रोल पंप के पास शनिवार को स्कार्पियो गाड़ी ने बाइक सवार बुजुर्ग को पीछे से टक्कर मार दी और उसे घसीटती हुई करीब 20 मीटर तक ले गई। इससे बुजुर्ग की मौत हो गई। पुलिस ने पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों को सौंप दिया। वहीं, अज्ञात वाहन चालक के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है। सुबह करीब आठ बजे नाहरा जिला सोनीपत निवासी करीब 65 वर्षीय महेंद्र सिंह दिल्ली से सांपला की ओर आ रहा था। पीछे से स्कार्पियो गाड़ी ने जबरदस्त टक्कर मार दी और एक एकड़ तक उसे घसीटता चला गया। बताया गया कि बाइक बंपर में उलझ गई और सांपला बहादुरगढ़ बाईपास तक उलझी रही। महेंद्र सिंह गंभीर रूप से घायल हो गया। वहीं, गाड़ी चालक गाड़ी सहित फरार हो गया। राहगीरों ने उसे सांपला सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में दाखिल कराया, जहां इलाज के दौरान उसने दम तोड़ दिया।

Rohtak News अमेरिका जाने से 1 दिन पहले बैंक मैनेजर के बेटे ने की आत्महत्या

आदर्श नगर में बैंक मैनेजर के बेटे 25 वर्षीय कुणाल मलिक ने शनिवार शाम अपने घर में फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। उसने यह कदम क्यों उठाया, इस बारे में परिवार के लोग व पुलिस खामोश है। सिविल लाइन पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों के हवाले कर दिया।जांच अधिकारी प्रकाशचंद ने बताया कि आदर्श नगर निवासी विजय मलिक बैंक ऑफ इंडिया में मैनेजर हैं। उनके बड़े बेटे कुणाल का अमेरिका स्थित इंजीनियरिंग कालेज में दाखिल हुआ है। 29 जुलाई को उसे दिल्ली से न्यूयार्क की फ्लाइट पकडऩी थी। शनिवार शाम परिवार के सभी सदस्य नीचे कमरे में बैठे हुए थे। कुणाल ऊपर पहुंचा और पंखे के हुक में रस्सी डालकर फंदा लगा ली। काफी देर बाद भी जब कुणाल नीचे नहीं आया तो परिजनों ने ऊपर जाकर देखा। कुणाल का शव फंदे से लटका मिला। तुरंत मामले की सूचना पुलिस को दी गई। पुलिस मौके पर पहुंची और शव को नीचे उतारकर पंचनामा किया। साथ ही पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों के हवाले कर दिया।

16 Years Old Girl Raped At Singhana Village, Jind, Haryana

JIND: A 16-year-old girl was allegedly raped by a youth at Singhana village, police said on Saturday.Ramesh, a resident of Singhana village, forcibly took the girl to a secluded location and raped her on Friday night, they said.

December 2012 Delhi gang rape case

The 2012 Delhi gang rape case involves a rape and murder that occurred on 16 December 2012 in Munirka, a neighbourhood located in the southern part of New Delhi, when a 23-year-old female physiotherapy intern[2] was beaten and gang raped in a bus in which she was travelling with her male companion. There were only six others in the bus, including the driver, all of whom raped the woman. The woman died from her injuries thirteen days later while undergoing emergency treatment in Singapore.[3]The incident generated widespread national and international coverage and was condemned by various women's groups, both in India and abroad. Subsequently, public protests against theGovernment of India and the Government of Delhi for not providing adequate security for women took place in New Delhi, where thousands of protesters clashed with security forces. Similar protests took place in major cities throughout the country.All the accused were arrested and charged with sexual assault and murder. The accused driver, Ram Singh, died in police custody on 11 March 2013 in the Tihar Jail.[4] According to some published reports, the police say Ram Singh hanged himself, but defense lawyers and his family suspect he was murdered.[5] As of July 2013, the rest of the accused remain on trial in a fast-track court; the prosecution completed its evidence on 8 July.[6] Incident The victims, a 23-year-old woman and a male friend, were on their way home on the night of 16 December 2012 after watching the film Life of Pi in Saket in South Delhi.[7][8] They boarded a chartered bus at Munirka for Dwarka that was being driven by joyriders at about 9:30 pm (IST). There were only six others in the bus, including the driver. One of the men, a minor, had called for passengers telling them that the bus was going towards their destination.[3][9] The woman's friend became suspicious when the bus deviated from its normal route and its doors were shut. When he objected, the group of six men already on board, including the driver, taunted the couple, asking what they were doing alone at such a late hour.[10]When the woman's friend tried to intervene, he was beaten, gagged and knocked unconscious with an iron rod. The men then dragged the woman to the rear of the bus, beating her with the rod and raping her while the bus driver continued to drive. Medical reports later said that the woman suffered serious injuries to her abdomen, intestines and genitals due to the assault, and doctors said that the damage indicated that a blunt object (suspected to be the iron rod) may have been used for penetration.[8] That rod was later described by police as being a rusted, L-shaped implement of the type used as a wheel jack handle.[11] According to the International Business Times, a police spokesman said that the minor was the most brutal attacker and had "sexually abused his victim twice and ripped out her intestines with his bare hands."[12] According to police reports the woman attempted to fight off her assailants, biting three of the attackers and leaving bite marks on the accused men.[13] After the beatings and rape ended, the attackers threw both the victims from the moving bus. Then the bus driver allegedly tried to drive the bus over the woman, but she was pulled aside by her male friend. One of the perpetrators later cleaned the vehicle to remove evidence. Police impounded it the next day.[13][14]The partially clothed victims were found on the road by a passerby at around 11 pm (IST). The passerby phoned theDelhi Police, who took the couple to Safdarjung Hospital, where the female victim was given emergency treatment and placed on mechanical ventilation.[15] She was found with injury marks all over her body, and only five percent of her intestines remaining inside of her abdomen. A doctor at the hospital later said that the "rod was inserted into her and it was pulled out with so much force that the act brought out her intestines also. That is probably the only thing that explains such severe damage to her intestines.”[16] Reactions Google India's home page on 31 December with a virtual candle in memory of the woman.[115]Members of the Indian parliament demanded severe punishment for the perpetrators. The Leader of the Oppositionin the Lok Sabha, Sushma Swaraj, stated: "The rapists should be hanged".[116]Sonia Gandhi visited the Safdarjang Hospital and met doctors on duty in the anaesthesia and surgery departments for an update on the woman's health.[117]Bahujan Samaj Party chief, Mayawati, said that proper investigation was required, and that "action should be so strict that no one should dare to act in such a manner again".[116]Jaya Bachchan said that she was "terribly disturbed" over the incident, and felt "ashamed" sitting in the House, feeling "helpless" for "not being able to do anything".[117]Meira Kumar, Speaker of the Lok Sabha, told reporters a "new law should be brought in and must get passed to ensure the safety of women." She went on to say: "The laws at present are not enough, we need stricter laws."[118][119]Sheila Dikshit, Chief Minister of Delhi, said that she did not have the courage to meet the victim and described Delhi as a "rape capital" in interviews.[120] She said that senior police officials should be held accountable for the failure to take adequate measures to stop such incidents. Five fast-track courts have been established to process the current cases.[121]On 24 December 2012, in his first official reaction after the incident, Prime Minister Manmohan Singh appealed for calm, stressing that "violence will serve no purpose". In a televised address, he assured that all possible efforts would be made to ensure the safety of women in India. Singh expressed empathy, saying: "As a father of three daughters I feel as strongly about the incident as each one of you".[122] As a tribute to the female victim, the prime minister cancelled all his official events to celebrate the new year.[123] The Chief Minister of Uttar Pradesh, Akhilesh Yadav, announced a package of financial assistance 2 million (US$34,000) to the family of the woman and offered a government job to a family member.[124] A cabinet meeting presided over by Chief Minister of Delhi, Sheila Dixit, decided to provide financial aid of 1.5 million (US$25,000) and a government job to one member of the family.[125]Speaking out against the protesters, president Pranab Mukherjee's son Abhijit Mukherjee argued that the women protesters did not appear to him to be students saying,"What's basically happening in Delhi is a lot like Egypt or elsewhere, where there's something called the Pink Revolution, which has very little connection with ground realities. In India, staging candle-lit marches, going to discotheques...I can see many beautiful women among them – highly dented-painted...[but] I have grave doubts whether they're students..."[126] Spiritual guru Asaram Bapu provoked criticism from the public[127] by saying that the victim was also to blame for her own assault because she could have stopped the attack if she had "chanted God's name and fallen at the feet of the attackers".[128] International reaction The American embassy released a statement on 29 December, offering their condolences to the woman's family and stating "we also recommit ourselves to changing attitudes and ending all forms of gender-based violence, which plagues every country in the world".[129] The female victim was posthumously awarded one of the 2013 International Women of Courage Award of the US State Department. The citation stated that "for millions of Indian women, her personal ordeal, perseverance to fight for justice, and her family’s continued bravery is helping to lift the stigma and vulnerability that drive violence against women."[130]In Paris, people participated in a march to the Indian embassy where a petition was handed over asking for action to make India safer for women.[131]UN Secretary General Ban Ki-moon stated, "Violence against women must never be accepted, never excused, never tolerated. Every girl and woman has the right to be respected, valued and protected".[132]UN Women called on theGovernment of India and the Government of Delhi "to do everything in their power to take up radical reforms, ensure justice and reach out with robust public services to make women's lives more safe and secure".[133]In the wake of remarks against India in western media, Jessica Valenti, writing in The Nation, argued that such rapes are also common in the United States, but US commentators exhibit a double standard in denying or minimising their systemic nature while simultaneously attacking India for an alleged rape culture.[134] Author and activist Eve Ensler, who organised One Billion Rising, a global campaign to end violence against women and girls, said that the gang rape and murder was a turning point in India and around the world. Ensler said that she had travelled to India at the time of the rape and murder and that after"having worked every day of my life for the last 15 years on sexual violence, I have never seen anything like that, where sexual violence broke through the consciousness and was on the front page, nine articles in every paper every day, in the center of every discourse, in the center of the college students’ discussions, in the center of any restaurant you went in. And I think what's happened in India, India is really leading the way for the world. It's really broken through. They are actually fast-tracking laws. They are looking at sexual education. They are looking at the bases of patriarchy and masculinity and how all that leads to sexual violence."[135]

Four Indian Americans win top science and maths awards

Four Indian-American professors are among 13 mathematicians, theoretical physicists and theoretical computer scientists selected for the Simons Investigators awards for their cutting edge research.The four professors -- Kannan Soundararajan, Rajeev Alur, Salil P Vadhan and Senthil Todadri -- will receive $100,000 a year for five years for long-term research, with the possibility of renewal for five additional years.The awards for 2013 were announced by Simons Foundation, a New York-based non-profit organisation with a mission to advance the frontiers of research in mathematics and basic sciences.Soundararajan, a professor of mathematics at Stanford University, "is one of the world's leaders in analytic number theory and related areas", the Foundation said in a statement.The India-born professor represented the country at the International Mathematical Olympiad in 1991 and won a silver medal. A Sloan Foundation Fellow, Soundararajan has an undergraduate degree from University of Michigan and a PhD from Princeton."His work is focused on understanding the zeros and value distribution of L-functions, and on analysing the behaviour of multiplicative functions," it said.Two of the three computer science awards were given to Indian-Americans Alur and Vadhan.Alur, the Zisman Family Professor in the department of information and computer science at the University of Pennsylvania, "is a top researcher in formal modelling and algorithmic analysis of computer systems"."A number of automata and logics introduced by him have now become standard models with great impact on both the theory and practice of verification," the Foundation said.Alur has bachelor and PhD degrees in computer science from IIT-Kanpur and Stanford University.Vadhan, the Vicky Joseph Professor of Computer Science and Applied Mathematics at Harvard University, was recognised for his "original and influential papers on computational complexity and cryptography".He has a PhD in applied mathematics from MIT and a certificate of advanced study in mathematics from Churchill College at Cambridge University.Todadri, a professor of physics at MIT and Distinguished Research Chair at the Perimeter Institute of Physics, was one of six Simons grant-winners in that discipline."Senthil Todadri's work...on Z2 topological order in models of spin liquid states provided key insights and initiated the systematic investigation of gauge structures in many-body systems, now a vital subfield of condensed matter physics," the Foundation said.Todadri has a PhD from Yale and an undergraduate degree from IIT-Kanpur.

Biker killed in police firing in New Delhi

One young biker was killed while another was injured in police firing in the wee hours in New Delhi on Sunday, police sources said.The incident occurred between 2.00 am and 2.15 am at Windsor Place of New Delhi when a group of bikers were involved in a confrontation with police officials trying to stop them from performing dangerous stunts on the roads.Karan Pandey was killed when a bullet fired by the police in an attempt to puncture the tyre of the bike he was riding, hit him in his back, police officials said.Pandey was riding pillion on Punit Sharma's bike, who was injured in the incident. Both of them were rushed to Ram Manohar Lohiya hospital, where Pandey was declared dead.Sharma was found to be drunk when tests were carried out at the hospital.A police patrolling van reached Windsor Place after there were reports that some 30 young bikers were performing dangerous stunts. When the policemen instructed them to stop, the bikers started pelting stones at them, which damaged the police vehicle.Some warning shots were fired in the air to disperse the bikers. But when the group still continued their stunts a police official tried to puncture the tyre of one of the bikes, which accidentally hit Pandey on his back.Some policemen were also injured in the incident.

555 'fake encounters' reported in last four years: Govt

Even as Central Bureau of Investigation probes the Ishrat Jahan and Sadiq Jamal alleged fake encounter cases, at least 555 such alleged extra judicial killings have been reported in the country, including 138 in Uttar Pradesh, in the last four years.According to Union home ministry statistics, a total of 555 cases of alleged fake encounters by police, defence and paramilitary forces were registered by the National Human Rights Commission since April 1, 2009 till February 15, 2013.Out of the 555 alleged fake encounter cases, 144 cases have been solved and the remaining 411 are either being probed by the police or are before courts for trial or have been termed as unresolved.Uttar Pradesh recorded the highest number of alleged fake encounters in last four years -- 138, of which 30 have been taken place in 2009-10, 40 in 2010-11, 42 in 2011-12 and 26 in 2013 (till February).

Girl shot dead by stalker in Bengal; 3 held

A teenaged girl was on Sunday shot dead outside her home in Jalpaiguri district allegedly by a stalker who was arrested along with his associates within hours of the crime, police said.The assailants came on a motorbike and shot the Std XI girl as she was returning home from private tuitions.The girl, who was shot in the head outside her house at Subhas Colony in Falakata, died on the spot.Following the attack, locals held a demonstration demanding that the culprits be immediately arrested.The girl's father, Kanu Dutta, lodged an FIR stating that she was shot by one Tapas Das, alias Khudu, who had been stalking her for quite some time.Taking up the matter, police first arrested two persons in Falakata itself -- Gopal Acharya and Bijit Dutta, who are known accomplices of Tapas.After interrogating the two, police picked up Tapas from Siliguri, about 100km from Falakata.Police said Tapas is a historysheeter and has been previously charged in murder and extortion cases. 

Ceasefire violation: BSF lodges protest with Pak Rangers

Border Security Force has lodged a strong protest with Pakistan Rangers over ceasefire violation in forward areas of Poonch and Kathua districts along the Indo-Pak border, in which a BSF jawan and a civilian were injured.In the sixth case of ceasefire violation, the Pakistani troops had resorted to unprovoked firing along the Indo-Pak border on Saturday.They also targeted Indian posts along LoC in Poonch."We have lodged a strong protest with Pakistan Rangers today, over firing and ceasefire violation, at a flag meeting on International Border in Pansar forward belt of Hiranagar," a senior BSF officer said.However, the officer said that Pakistani troops denied their role in the firing."Pakistan Rangers denied their involvement in firing during the meeting when the BSF raised the issue with them," he said, adding "this is their usual reply that they do not know about the incident".A team of BSF officers, led by Assistant Commandant J S Pundir, held a flag meeting with Pakistan Rangers at Border Pillar number 15 in Pansar Post along the IB in Samba district on Sunday.

Jul 28, 2013

Woman molested on Mumbai train, accused arrested

A 23-year-old woman was attacked in the ladies compartment of a local train on Saturday morning by a man who tried to strangulate her when she resisted a rape attempt.The 28-year-old man was arrested by the Government Railway Police on charges of molesting and attempting to murder the woman after she cried out for help when the train stopped at a station.According to GRP, the victim had boarded the train at 5.41 am from Mumbai Central station and was headed towards Dadar for work. The victim was in the second-class ladies compartment."The accused got into the compartment at Mahalaxmi station and after seeing the victim alone misbehaved with her and attempted to rape her. When the victim removed her mobile to call for help, the accused tried to strangulate her," senior inspector GRP Rajendra Trivedi said.When the train pulled into the next station, Lower Parel, the victim cried out for help after which commuters standing on the platform and GRP personnel nabbed the accused. "The accused identified as Devraj Hanumant Kanapa was inebriated at the time of the incident. He is a resident of suburban Kurla and is a mason. The accused has been taken for medical tests after which he would be produced before a magistrate court for remand," Trivedi said.He has been charged under the Indian Penal Code Sections 307 (attempt tomurder) and 354 (outraging modesty of a woman). Asked as to why there was no police official present in the ladies compartment, which is mandatory as per rules, Trivedi said inquiry is being conducted. "A constable attached with GRP Borivili, who was supposed to be on duty in the train, has been suspended for deriliction of duty," he said.Preliminary investigation has also revealed that Devraj has two cases of chain snatching registered against him in Kalyan.

Mid-day meal scare continues: Over 50 kids fall ill in MP, Goa

At least 35 students fell ill after consuming mid-day meal in a government primary school at Bhandi village in Balaghat, Madhya Pradesh official sources said on Saturday.The incident took place on Friday when children complained of stomach ache and vomiting after eating 'poha' served in the midday meal at the school. The children were rushed to district hospital for treatment, they said. The condition of all of them was reported to be out of danger.Students, aged between 5 and 10, said that tobacco-like smell was emanating from the food served to them after which senior officers, including the block education officer and Tehsildar, reached there to probe the matter, officials said. Food and water samples have been sent for testing and the exact reason could be ascertained only after receiving the report, they added. PTI CORR AS DKAlso, in Goa at least 19 students of a government-aided high school fell ill after eating the mid-day meal. While a girl was hospitalised at a primary health centre in Tuem, nearly 40 km from Panjim, rest of the students of the Kamleshwar High School were discharged after initial treatment, they said.The girl suffered bouts of vomiting after consuming the meal while others felt uneasy, the officials said. Though the girl is reported to be out of danger she is under observation. "It is yet to be ascertained whether the incident happened due to food poisoning," an official said. The affected kids are students from Std V to Std VII, he said.Initial reports said that a spider was found in the meal but the official dismissed them as a "rumour". The job of serving the mid-day meal was assigned to a non-government organisation, Brahmanandacharya Self Help Group. The concerned NGO has also been serving the meal to 13 primary schools and eight secondary schools, officials said. This is the second such incident which has hit the state during this week.Earlier this week, around 22 students from St Joseph High School were referred to the hospital due to suspected food poisoning after eating the mid day meal.

Teen gang-raped in Jammu and Kashmir, 2 held

Two persons were arrested in connection with the alleged gang rape of a minor girl in Kishtwar district of Jammu and Kashmir, police said.The incident took place on the intervening night of July 24 and 25 when the 15-year-old girl was abducted and gang-raped by four youths in Bhatkot village of the district, they said. Later, after the girl returned home and informed her family members about her ordeal, they lodged a complaint against the accused.The duo, identified as Ranjeet Singh and Sanjeet Kumar, was arrested on Friday, police added.

Bihar: No food for 10L students as teachers boycott cooking

As over 10 lakh students continued to be deprived of mid-day meals due to primary school teachers boycotting food-cooking duties for the third consecutive day in Bihar on Saturday, the government held "positive" talks with the agitators to end the logjam.Free cooked food could not be served in about 5,000 government schools in the state due to boycott as a result of which nearly 10 lakh students were deprived of the mid-day meal, sources in state's education department said.The government held talks with representatives of primary teachers to end the boycott.Though, there was no immediate result, the teachers' representatives said they would hold their meeting on Monday and convey the decision to the government.Brajnandan Sharma, Bihar Primary School Teachers Association President told PTI, "Talks were held in positive environment. We will put the government appeal to withdraw the boycott before the primary teachers at a meeting on July 29 and accordingly convey the decision to the government."Director Primary Education, A K Chaudhary, who conducted talks on behalf of the government, said he told the teachers' representatives that it was not possible to make alternative arrangements for efficient running of such a gigantic programme "overnight", which he said they shared.Chaudhary said he told the teachers to come out with a proposal in support of their demand, including keeping teachers away from cooking food for mid-day meal scheme, and the government would look into it.Mid-day meal scheme is in operation in 70,000 schools across the state benefitting 1.30 crore children. Chief Minister Nitish Kumar had on Friday shared the primary teachers concern that their primary task is teaching but said making alternative arrangements for such a large number of schools would need time.

8 meals for only Rs 20? Assam CM doesn't think so!

Assam Chief Minister Tarun Gogoi on Saturday distanced himself from Agriculture Minister Nilomoni Sen Deka's remark -- that eight meals cost a total of Rs 20 in the state -- saying it was his personal view.During a week, which saw various leaders in the country make embarrassing comments on the price of a meal and then withdraw them, Deka, who is also the horticulture and food processing minister, had on Friday reportedly said that eight people can have a proper meal for Rs 20."I have never said that I will get a meal for Rs 2. I do not know why he (Deka) said it and with what context. This was his personal view," Gogoi told reporters.The CM said the cost of a meal will vary according to the price of food items available."If we provide rice, daal and other items for just Re 1 each, then the cost will be less," Gogoi said.On the ongoing poverty debate, he said the state government will go by the Planning Commission's definition as it varies at different places across the country.Earlier, Congress spokesperson Raj Babbar and Union Minister Farooq Abdullah, after triggering a huge controversy, on Friday expressed regret over their respective remarks that one can have food for Rs 12 and Re 1.Babbar's regret came after the Congress distanced itself from his remarks and those of his party colleague Rashid Masood -- who said meals were available in Delhi for Rs 5.Congress' Communication Department in-charge Ajay Maken had said, "We do not agree with Rs 12 and Rs 5 statement of some leaders."The meal remarks made by Babbar earned widespread ridicule, with opposition parties dubbing these as "absurd", "foolish" and "illogical".

Navy wife swapping scandal: Complainant arrested for fraud

The woman, whose complaint of wife swapping rocked the naval base in Kochi in April, was on Saturday arrested by Delhi police for allegedly committing a forgery by procuring a credit card in the name of her estranged husband.Police arrested Sujata Sahoo from her residence in South Delhi under sections 420 (cheating), 468 and 471 (forgery) and Emblem and Name (Prevention of Improper Use) Act, a Delhi police spokesman said.Kamini Jaiswal, counsel for Sahoo in the wife swapping case, has denied the charges and said it was an attempt to malign her client.She accused the Delhi police of torturing Sahoo.Jaiswal said that her client was dragged from her house and beaten."As a result of this, she has received injuries and the police have not been ensuring a proper medical check-up," Jaiswal alleged.She said that her client had been informing her about the repeated threats received by her and warnings about dire consequences if she did not withdraw her complaint, in which she has named senior naval officials.According to Delhi police, Sahoo was arrested from Jia Sarai after State Bank of India's IIT branch complained that she was trying to procure a credit card in the name of her estranged husband, Ravi Kant, using his forged PAN card and employment letter of the Indian Navy.The bank, according to Delhi police, has videographed everything pertaining to the alleged procurement of the credit card.Defence Minister A K Antony had promised to take strong action if anybody was found guilty in the alleged wife swapping case.Sahoo had also filed a case of dowry harassment under Section 489A against her husband and the case has been transferred to Kochi.

Jul 27, 2013

Please Save Your Country

"हँसते-हँसते जो फाँसी वाले तख्तों पर झूल गए,हमें हनी सिंह याद रहा पर भगत सिंह को भूल गए।कल जब कुछ देशभक्त हुतात्मा चन्द्र शेखर आज़ाद और बालगंगाधर तिलक का जन्मदिन मना रहे थे,तब इलेक्ट्रोनिक मीडिया इंग्लैंड के राजकुमार के जन्म की खुशियाँ मना रहा था, मीडिया वालों ने उस अंगेज के बच्चे के शरीर के अलग-अलग हिस्सों का वजन तक बता दिया,पर किसी भी न्यूज़ चैनल नेँ जो खुद को लोकतंत्र का चौथा स्तम्भ बताते फिरते है,एक पल के लिए भी नहीं बताया की 23 जुलाई को हिंदुस्तान बचाने वाले क्रांतिवीरों का जन्म हुआ था। प्रधानमंत्री कार्यालय से लेकर संसद भवन के किसी भी गलियारे में आज़ाद और तिलक का जिक्र नहीं हुआ। 23 मार्च को भी कुछ ऐसा ही महसूस हुआ था

Aligarh Muslim University lifts ban on jeans, eating out for girls

The administration of the Aligarh Muslim University has withdrawn its order, issued earlier this week, that asked the students residing in one of its women's hostels to wear "proper and decent-looking dresses, i.e. salwar kameez with dupatta, both in or outside the hostel".The notice, issued by the Provost of the Abdullah Hall, also asked the women to keep only one mobile phone and avoid eating out by making sure they enter the details of their movement in a register kept outside the hostels. The order also included pointers on how to keep the rooms clean, save energy, not use electric appliances like heaters inside their rooms and not to “involve in any illegal activity” that is “unbecoming” of university students.The new set of diktats was directed specifically at undergraduate students of the Women’s College living in the Abdullah Hall of the Aligarh Muslim University and did not include other women students. The university had said that students not adhering to these new rules would attract punitive action, including a fine of up to Rs 500.The new rules were cleared by AMU Provost Dr Ghazala Parveen.Well known social activist Annie Raja on Saturday described the new dress code as condemnable and utter nonsense. “This is nothing but curtailing the freedom of the girls. It is condemnable and utter nonsense.""First of all, who will decide that a particular dress is decent or not? It is their (female students) right as to what they want to wear and what not. This proves that girls are used as commodities. In the name of protection and safety, they (the university authorities) are pushing them (students) back to the ancient age," claimed Raja."We are not providing them with an environment to come up and empower themselves. Instead of restricting the girls, the boys should be given a strong message about their behavior towards girls," Raja said further.