" " Live Hindi News from Haryana, Property Investment is Better: November 2013

Nov 30, 2013

शाहरुख के घर जाएंगे सलमान खान? 

अब कुछ ऐसी स्थितियां बन रहीं हैँ कि सलमान खान को शाहरुख के घर जाना पड़ सकता है। यहां मामला पूरी तरह से प्रोफेशनल है। सलमान, शाहरुख के घर चाय पीने नहीं बल्कि अपनी अगली फिल्म के सिलसिले में आएंगे। दरअसल यह मामला सलमान की नई फिल्म जय हो से जुड़ा हुआ है। इस फिल्म के पोस्ट प्रोडक्‍शन और स्पेशल इफेक्ट्स का काम शाहरूख की कंपनी रेड चिलीज कर रही है। यह पहली बार होगा जब शाहरुख की कपंनी सलमान के लिए कोई काम कर रही है। इस कंपनी का ऑफिस शाहरुख के घर मन्नत के ही एक हिस्से में है। आमतौर पर कोई भी कलाकार अपने इफेक्ट्स देखने के समय खुद स्टूडियों में मौजूद होता है। ऐसे में सलमान खान का वहां आना बहुत स्वाभाविक है। अब देखना यह है कि सलमान, अपनी फिल्म के लिए शाहरुख के बंगले का रूख करते हैं या नहीं। हालांकि अब दोनों ही सार्वजनिक मंचों से एक-दूसरे को अपना दोस्त बता रहे हैं।

हत्या कर शव खेत में जलाया

रोहतक। गांव ककराना में वीरवार रात अज्ञात हमलावरों ने एक युवक की हत्या कर शव को खुर्द बुर्द करने की नीयत से जलाने का प्रयास किया। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और शव को अपने कब्जे में ले लिया। शव जला होने के कारण उसकी शिनाख्त नहीं हो सकी। पुलिस ने शव को पीजीआई के शव गृह में रखवा दिया है और इस संबंध में अज्ञात हमलावरों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। एफएसएल की विशेष टीम ने भी घटनास्थल का निरीक्षण किया। पुलिस के अनुसार शुक्रवार सुबह खेतों में जाते वक्त ग्रामीणों ने एक युवक का शव पड़ा हुआ देखा। इसी बीच सूचना मिलने पर कलानौर पुलिस मौके पर पहुंची और शव को अपने कब्जे में ले लिया। पुलिस ने घटनास्थल का बारीकी से मुआयना किया, परंतु इस संबंध में पुलिस को कोई जानकारी नहीं मिली। मृतक का चहेरा झुलसा होने के कारण उसकी पहचान नहीं हो सकी। पुलिस का कहना है कि हो सकता है कि युवक की हत्या किसी और स्थान पर की गई हो और शव को खुर्द-बुर्द करने की नीयत से यहां जलाया गया हो। कलानौर थाना प्रभारी नरेंद्र कुमार ने बताया कि शव की शिनाख्त के लिए आसपास के लेागों से पता किया जा रहा है।

मोदी की रैली में ब्लास्ट करने वाले हरियाणा में छुपे! 

बिहार के गया और पटना में भाजपा के पीएम पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी की रैली में ब्लास्ट करने के आरोपी आतंकी हरियाणा में छुपे हो सकते हैं। आतंकियों को तलाश कर रही एनआईए ने हरियाणा पुलिस से संपर्क कर 12 आतंकियों के बारे में हरियाणा के सभी पुलिस कप्तानों को फोटो और विवरण भेजा है। इन आतंकवादियों पर पांच से दस लाख रुपये तक का इनाम घोषित किया गया है। एनआईए के पुलिस अधीक्षक ने कहा कि आतंकियों के बारे में जानकारी देने वाले व्यक्ति की पहचान गुप्त रखी जाएगी। इधर हरियाणा पुलिस ने भी आईएनए से मिली सूचनाओं के आधार पर राज्य से सभी जिलों में एसपी को विशेष दिशानिर्देश जारी किए हैं। 27 अक्तूबर, 2013 को पटना में नरेंद्र मोदी की रैली के दौरान एक के बाद एक कई धमाके हुए थे। इस घटना की जांच गृह मंत्रालय ने एनआईए को सौंपी, जिसने पूरे मामले में इंडियन मुजाहिदीन के 12 आतंकवादियों को वांछित घोषित किया है। एनआईए के पुलिस अधीक्षक विकास वैभव ने हरियाणा के सभी पुलिस कप्तानों को ई-मेल भेजकर वांछित आतंकियों के बारे में जानकारी उपलब्ध कराई है। ये हैं इनामी आतंकवादी एनआईए की तरफ से मोहम्मद इकबाल, डॉ. शहनवाज आलम, अरीज खान उर्फ जुनेद, मोहम्मद साजिद, मोहम्मद खालिद और मिर्जा साहब बेग पर दस लाख रुपये का इनाम घोषित किया गया है। साथ ही मोहम्मद तहशीन अख्तर, मोहम्मद रियाज उर्फ भटकल, मोइसीन इस्माइल चौधरी, अमीर अजा खान व पाकिस्तान निवासी जैवेद उर्फ अहमद भी वांछित हैं। हरियाणा के शहरों में लगेंगे आतंकियों के पोस्टर एनआईए के पुलिस अधीक्षक विकास वैभव ने बताया कि एनआईए ने आतंकियों के बारे में सूचना देने के लिए दो विशेष नंबर 09634447345 और 011-23438236 जारी किए गए हैं। रोहतक जिला पुलिस प्रवक्ता वेद नैन ने बताया कि इस बारे में एनआईए से सूचना मिली है। वांछित आतंकवादियों के फोटो भी मिले हैं। इस बारे में सभी थाना प्रभारियों को भी अवगत करा दिया गया है। साथ ही थानों के बाहर व अन्य सार्वजनिक स्थानों पर इन आतंकवादियों के फोटो लगाए जाएंगे।

दुकान से निकाली नकदी, पकड़ा गया 

हरियाणा में चरखी दादरी की पूर्ण मार्केट में एक युवक एक दुकान के गल्ले से नकदी निकालकर भागने लगा। दुकानदार ने अन्य लोगों की सहायता से चोर का पीछा कर उसे कुछ दूरी पर ही पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया। जानकारी के अनुसार स्थानीय पूर्ण मार्केट स्थित प्रेम मोबाइल कम्यूनिकेशन पर दुकानदार वहां खड़े ग्राहकों को मोबाइल दिखा रहा था। तभी एक युवक ने दुकान का गल्ला खोलकर उसमें से नकदी निकाल ली और भाग निकला। दुकानदार ने तुरंत शोर मचाकर अन्य दुकानदारों को घटना की जानकारी दी और चोर का पीछा शुरू कर दिया। आरोपी युवक को दुकानदारों ने रोज गार्डन के पास दबोच लिया और उसकी जमकर धुनाई करने के बाद पुलिस के हवाले कर दिया।

Nov 26, 2013

Www.dreamcityrohtak.blogspot.com

अपराध जांच शाखा भी करेगी जांच 

रोहतक। संापला थाना के अंतर्गत गांव रुड़की में हुए दीपक हत्याकांड की जांच सांपला पुलिस के साथ-साथ अपराध जांच शाखा को भी सौंपी गई है। पुलिस अधीक्षक ने आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए तीन टीमों का गठन किया है। पुलिस ने इस मामले में सोमवार को चार लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की, परंतु हमलावरों के बारे में कोई जानकारी नहीं मिली । शनिवार देर रात गांव रुड़की निवासी दीपक की गांव के ही गणेश व गांव बुटाना निवासी मोनू ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। जांच में पता चला कि दस नवंबर को दीपक और गणेश के बीच रैली में जाते वक्त किसी बात को लेकर झगड़ा हो गया था। इसी का बदला लेने के लिए दोनों ने योजनाबद्ध तरीके से दीपक की हत्या की है। पुलिस ने इस संबंध में मृतक के भाई के बयान पर मामला दर्ज किया था। पुलिस अधीक्षक ने सांपला थाना प्रभारी से पूरे मामले की स्टेटस रिपोर्ट ली और आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस द्वारा की गई कार्रवाई के बारे में पता किया। साथ ही पुलिस अधीक्षक ने मामले की जांच अपराध जांच शाखा को भी करने को कहा है। अपराध जांच शाखा की एक टीम ने गांव बुटाना व रुडकी में आरोपी के घर पर दबिश दी। साथ ही पूछताछ के लिए चार लोगों को हिरासत में लिया, परंतु हमलावरों के बारे में कोई सुराग नहीं मिला। सांपला थाना प्रभारी हरिराम ने बताया कि हमलावरों के बारे में पुलिस को अहम सुराग हाथ लगे हैं और जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। पुलिस की तीन टीमें अलग-अलग स्थानों पर भेजी गई है।

Nov 25, 2013

बाइकर्स ने झपटी महिला के गले से सोने की चेन 

हरियाणा में सोनीपत के गांव सिसाना में दो बाइकर्स एक महिला के गले से सोने की चेन झपट के फरार हो गए। महिला ने पुलिस को इसकी शिकायत दी। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। सिसाना निवासी देवी पत्नी संदीप ने पुलिस को दी शिकायत में कहा है कि रविवार सुबह वह अपनी सास के साथ खेतों से घर आ रही थी। इस दौरान एक बाइक पर सवार दो युवक आए और उसके गले सोने की ढाई तोले चेन झपट कर फरार हो गए। पुलिस ने अज्ञात चेन स्नेचरों के खिलाफ मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है।

मामूली कहासुनी में युवक की गोली मारकर हत्या

गांव रुड़की में दो युवकों ने मामूली कहासुनी की रंजिश में एक युवक दीपक की गोली मारकर हत्या कर दी। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और शव को अपने कब्जे में ले लिया। साथ ही डीएसपी और एफएसएल की विशेष टीम ने घटनास्थल का मुआयना किया। पुलिस ने मृतक के भाई के बयान पर रुड़की निवासी गणेशी और मोनू के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर पुलिस ने कई स्थानों पर दबिश दी, परंतु उनके बारे में कोई सुराग नहीं मिला। शनिवार देर रात गांव रुड़की निवासी दीपक खाना खाने के बाद बाहर घूमने गया था। इसी दौरान गांव रुड़की निवासी गणेशी व अपने मामा के घर रुड़की में रहने वाला बुटाना निवासी मोनू आया और आते ही दीपक पर फायरिंग शुरू कर दी। दीपक को चार गोलियां लगी और मौके पर ही उसकी मौत हो गई। घटना के बाद दोनों हमलावर वहां से फरार हो गए। सूचना मिलते ही सांपला थाना प्रभारी हरिराम घटनास्थल पर पहुंचे और शव को अपने कब्जे में ले लिया। पुलिस ने मृतक के भाई प्रदीप के बयान पर केस दर्ज कर लिया है। गोहाना रैली में जाने को लेकर हुआ था झगड़ा गांव रुड़की निवासी दीपक हत्याकांड में जांच पड़ताल के दौरान खुलासा हुआ कि दस नवंबर को गांव बुटाना निवासी मोनू व गणेशी के साथ दीपक की कहासुनी हो गई थी। वे गोहाना रैली में जा रहे थे। उस दौरान जीप में बैठने को लेकर उनका झगड़ा हो गया था। गिरफ्तारी के लिए बनाई तीन टीमें गठित दीपक हत्याकांड में एसपी राजेश दुग्गल ने आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए सांपला थाना प्रभारी के नेतृत्व में तीन टीमों का गठन किया है। साथ ही अपराध जांच शाखा को भी आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए कहा गया है। रविवार सुबह पुलिस ने आरोपियों के परिजनों को हिरासत में लेकर पूछताछ की।

Nov 21, 2013

चिट्ठी लिख अमेरिका मानेगा अपनी गलतियां 

अमेरिका और अफगानिस्तान के बीच उस समझौते की उम्मीदें बढ़ गई हैं जिसके तहत अगले साल के अंत तक विदेशी सेनाओं की वापसी के बाद भी अमेरिकी सेनाएं अफगानिस्तान में रह सकेंगी। इस समझौते को संकट में पड़ता देख अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन कैरी ने दखल दिया और अफगान प्रतिनिधियों की बैठक यानी लोया जिरगा के नाम एक पत्र भेजने की पेशकश की है जिसमें अमेरिका अफ़ग़ानिस्तान में अतीत में की गई अपनी ग़लतियों को स्वीकार करेगा। लोया जिरगा में अमेरिका और अफ़ग़ानिस्तान के बीच होने वाले सुरक्षा समझौते पर विचार होना है। अफ़ग़ानिस्तान और अमेरिका सुरक्षा का ऐसा दस्तावेज तैयार करने में जुटे हैं जो दोनों ही पक्षों को स्वीकार्य हो। अगर ये समझौता नहीं हो पाया तो अमेरिका को भी अगले साल अफ़ग़ानिस्तान से हटना होगा। 'जान जोखिम में होने पर' इस समझौते पर कई महीनों से बातचीत जारी है, लेकिन उसका कोई नतीजा नहीं निकल सका है। अफ़ग़ानिस्तान ख़ास तौर पर चाहता है कि इस समझौते में अमेरिकी सेनाओं को अफगान घरों में घुसने का अधिकार नहीं होना चाहिए। अकबर खान बाबर, लोया जिरगा सदस्य  के मुताबिक "अगर इस समझौते पर हस्ताक्षर नहीं हुए तो अफगानिस्तान वैसे ही संकट का सामना करेगा जो 12 साल पहले था। देश में गृह युद्ध होगा और मुश्किलें बढ़ेंगी।" लेकिन अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन कैरी के ताजा प्रस्ताव के बाद अफगानिस्तान का रुख़ नरम हुआ है। राष्ट्रपति हामिद करजई ने कैरी के इस प्रस्ताव को मान लिया है कि अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा बाक़ायदा पत्र लिख कर स्वीकार करेंगे कि अतीत में अफ़ग़ानिस्तान में अमेरिका से ग़लतियां हुई हैं। साथ ही वो आग्रह करेंगे कि अमेरिकी सैनिकों को 'जान जोखिम होने पर' अफगान घरों में घुसने का अधिकार दिया जाए। बीबीसी संवाददाता के अनुसार ये पत्र मिलने के बाद समझौते को तीन हज़ार सदस्यों वाले लोया जिरगा में रखा जाएगा जो गुरुवार से शुरू हो रहा है। 'गृह युद्ध का खतरा' करज़ई ने समझौते को लेकर कुछ मुद्दे उठाए हैं। एक अन्य सदस्य ताहिरा अमीरज़ादा की राय है, "मुझे लगता है कि अफगानिस्तान को इस समझौते पर हस्ताक्षर करने की जरूरत है क्योंकि हमारा देश गंभीर स्थिति में है।" अमेरिका महीनों पहले ही इस समझौते को पक्का कर लेना चाहता था ताकि वो 2014 में अफ़ग़ानिस्तान में युद्धक अभियान ख़त्म होने की स्थिति को लेकर अपनी योजना बना सके। लेकिन ये समझौते हो भी गया तो कई और मुद्दे अनसुझले रहेंगे, मसलन इस बात को लेकर अब भी मतभेद हैं कि 2014 के बाद अफगानिस्तान में रहने वाले अमेरिकी बल अगर कोई अपराध करते हैं तो वो किसके अधिकार क्षेत्र में होगा। बहरहाल अमेरिकी विदेश विभाग की प्रवक्ता जेन साकी का कहना है कि दोनों पक्षों के बीच बातचीत में लगातार प्रगति हो रही है।

अमेर‌िका-ईरान की मोहब्बत के लिए चुंबन अभियान 

अमेर‌िका और ईरान के रंजिश भरे रिश्तों का सिलसिला दशकों से चल रहा है। दोनों मुल्कों की अदावत को मोहब्बत में बदलने के लिए अमेर‌िका में पढ़ रहे दो ईरानी छात्रों ने एक अनोखी कोशिश की है। ये दोनों छात्र अमेर‌‌िकियों और ईरानियों से दोनों मुल्कों के बेहतर रिश्तों के लिए शांति के एक हज़ार चुंबन जुटाने की अपील कर रहे हैं। उनकी कोशिश ने एक अभियान की शक्ल ले ली है। निमा देहघानी और बेहज़ाद ताबिबियान ने इस अभियान की शुरुआत चार नवंबर को की थी। इसी दिन 1979 को तेहरान स्थित अमेर‌िकी दूतावास पर हमले की कार्रवाई की गई थी। ईरान की जनसभाओं में कट्टरपंथी इस तारीख़ का ज़िक्र "अमरीका की मौत" के दिन तौर पर करते रहे हैं। लेकिन इसकी जगह इन छात्रों की वेबसाइट और फ़ेसबुक पेज पर लोगों से अपील की गई है कि वे दोनों मुल्कों के बेहतर ताल्लुकात के लिए चुंबन दें और तस्वीरें पोस्ट करें। उन्होंने कहा है, "अदावत के 34 साल बहुत होते हैं। बहुत हो गया। चलो आगे बढ़ते हैं।" नए दौर की शुरुआत इस हफ्ते दो दिन के भीतर ही अमेर‌‌िकियों और ईरानियों की तरफ से उन्हें 300 से ज्यादा तस्वीरें मिलीं और कई संदेश भी। कुछ के मज़मून इस तरह थे, "चलो, नए दौर की शुरुआत एक चुंबन से करते हैं", "ईरान के लोगों को अमरीकियों से मोहब्बत है", "चलो, सब कुछ भुलाकर चुंबन करते हैं।" शायद सबसे शालीनता के साथ कहा गया इक संदेश कुछ यूँ था, "30 साल के अविश्वास के बाद अब ये वक़्त हाथ मिलाने का है।" ये दोनों छात्र एक सांस्कृतिक कार्यक्रम भी चलाते हैं, जिसे 'नेटफ़ॉर्मेंस' कहा जाता है। ये कार्यक्रम नौजवान ईरानियों और बाक़ी दुनिया के बीच के फ़ासले ख़त्म करने की बात करता है। ईरान में जींस पर लगे प्रतिबंध को लेकर दिए गए इसराइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के बयान के जवाब में हाल ही में उन्होंने एक ऑनलाइन 'जींस पार्टी' का आयोजन कर खूब सुर्खि़याँ बटोरीं।

पेरिस में गोलीबारी, पुलिस को हमलावर की तलाश 

फ्रांस की राजधानी पेरिस में दो जगहों पर गोलीबारी की घटनाओं के बाद पुलिस को हमलावर की तलाश है। सोमवार को समाचार पत्र 'लिबरेशन' के कार्यालय और फ्रांसीसी बैंक सोसाइटी जनरल के बाहर गोलीबारी की घटना हुई। पुलिस को आशंका है कि यह संदिग्ध बंदूकधारी एफिल टावर की तरफ जा सकता है। समाचार पत्र लिबरेशन में हुए हमले में 27 वर्षीय एक फोटोग्राफर घायल हुआ है। हमलावर वहां से फरार होने में कामयाब रहा। पुलिस इस व्यक्ति की तलाश कर रही है और उसे शक है कि शुक्रवार को समाचार चैनल बीएफएमटीवी पर हुए हमले में भी इस व्यक्ति का हाथ है। पुलिस ने पेरिस के सभी प्रमुख मीडिया संस्थानों के बाहर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है। लिबरेशन ने कहा है कि संदिग्ध की तस्वीर बीएफएमटीवी के हमलावर से मिलती जुलती है। हमले की आशंका बताया जा रहा है कि संदिग्ध की उम्र 40 से 45 साल के बीच है, उसके बाल मुंडे हैं और वो काफी मोटा है। पेरिस में बीबीसी संवाददाता क्रिस्चिन फ्रेसर ने बताया कि एक पुलिस हैलीकॉप्टर चैंप्स एलिसीज इलाके के चक्कर लगा रहा है और ये संदेह जताया जा रहा है कि बंदूकधारी हमलावर एफिल टॉवर की ओर बढ़ सकता है। यह अटकल भी लगाई जा रही है कि वह मैट्रो में जा सकता है। स्थानीय प्रशासन लोगों से घरों में रहने की अपील कर रहा है। हमारे संवाददाता ने बताया कि पुलिस का कहना है कि संदिग्ध हमलावर शांत और आश्वस्त है और हर बार वो हमला करने के बाद भागने में कामयाब रहा है। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि बंदूकधारी स्थानीय समय के अनुसार सुबह दस बजकर 15 मिनट पर लिबरेशन के पेरिस कार्यालय पहुंचा और उसने गोलीबारी शुरू कर दी। घायल की हालत गंभीर हमलावर फिलहाल पुलिस की गिरफ्त से दूर है और उसकी तलाश जारी है। उसने एक फोटोग्राफर को सीने और पेट में गोली मारकर घायल कर दिया और उसके बाद भाग गया। लिबरेशन ने कहा है कि मौके से तीन दागे हुए कारतूस मिले हैं। लिबरेशन के डिप्टी एडिटर फैब्रिस टैसल ने बताया है कि घायल की हालत काफी गंभीर है। लिबरेशन ने यह भी बताया है कि हमला करने के दौरान बंदूकधानी ने कुछ भी नहीं कहा। इसके करीब दो घंटे बाद फ्रांसीसी बैंक सोसाइटी जनरल ने पुष्टि की कि एक आदमी ने उसके मुख्यालय के बाहर गोलीबारी की है, हालांकि इस घटना में कोई भी घायल नहीं हुआ। बैंक के बाहर हुई गोलीबारी की घटना के एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि 'मैंने एक काफी तेज़ आवाज सुनी और देखा कि खाकी कोट और टोपी में एक आदमी हाथ में बंदूक लिए चला आ रहा है।' प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि दोबारा गोलीबारी होने पर चारों तरफ घबराहट फैल गई और वह आदमी गलियों में कहीं गुम हो गया। पुलिस का कहा है कि बंदूकधारी ने ला डिफेंस के पास नानटेरे में एक कार का अपहरण किया और चैंप्स एलिसीज चलने के लिए ड्राइवर पर दबाव डाला। वहां वो एक मैट्रो स्टेशन के पास उतर गया।

गूगल ने पीओके को दिखाया पाकिस्तान का हिस्सा 

सरकार ने शनिवार को इंटरनेट सर्च कंपनी गूगल को पीओके को पाकिस्तान का हिस्सा दिखाने पर नोटिस जारी किया है। दूरसंचार और सूचना प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री सचिन पायलट ने कहा कि भारतीय सूचना टेक्नोलॉजी अधिनियम के तहत भारतीय मानचित्र और इसकी सीमाओं से किसी भी तरीके की गलती को लेकर कार्रवाई हो सकती है। गूगल से इस गलती को तुरंत सुधारने को कहा गया है। गूगल सर्च को दिखाने के लिए एक खास टूल, गूगल इनसाइट में भारत के कुछ हिस्से को पाकिस्तान का दिखाया गया है। आईबीएन ने जब गूगल से इस बाबत पूछताछ की तो उन्होंने इस पर सफाई देते हुए कहा कि हमने संबंधित विभाग को इसे तुरंत ठीक करने के लिए कह दिया है। वहीं सचिन पायलट ने आईटी विभाग को इस तरीके से जुड़ी सभी कंपनियों का सर्वे करने के लिए कहा है। पायलट ने कहा कि सरकार गूगल के जवाब का इंतजार कर रही है और उसके बाद ही 'सही समय पर सही कार्रवाई' करेगी। ऐसी ही एक गलती गूगल ने 2005 में की थी जब गूगल अर्थ ने भारतीय उप महाद्वीप के मानचित्र में पीओके को पाकिस्तान का हिस्सा बता दिया था। पिछले साल गूगल के सेटेलाइट चित्रों ने अरुणाचल प्रदेश के कुछ इलाकों को चीन के हिस्से के रूप में दिखाया दिया था। पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने भारत के संवेदनशील इलाकों के हाई रिज्योलूशन इमेज दिखाने पर अपनी चिंता जाहिर की थी, जिसके बाद गूगल ने इसे हटाने की रजामंदी भरी थी।

इश्कजादे हैं मोदी, उस लड़की में उनकी निजी दिलचस्पी' 

गुजरात में एक आर्किटेक्ट युवती की जासूसी करने से जुड़ा मामला नरेंद्र मोदी के लिए सिरदर्द बनता जा रहा है। इसे लेकर उन पर हमला बोलने वाले शब्दबाण छोड़ते वक्‍त शुचिता का जरा ख्याल रखने के मूड में नहीं हैं। कांग्रेस ने दिल्ली में जहां अपनी दिग्गज महिला नेताओं को मोदी पर हमला करने के लिए मैदान में उतार दिया है, वहीं गुजरात में भी पार्टी ने उनके खिलाफ विरोध-‌प्रदर्शन शुरू कर दिए हैं। लेकिन इस बीच गुजरात कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने मोदी पर तीर छोड़ते वक्‍त सारी हदें लांघ दीं। जाहिर है, कांग्रेस यह मौका हाथ से नहीं जाने देना चाहती। पढ़ें, साहेब, युवती और जासूसी पर सियासी संग्राम तेज गुजरात कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अर्जुन मोढवाडिया ने एक चैनल से बातचीत में कहा, "वह साहेबजादे तो हैं ही, साथ ही इश्कजादे भी हैं। दरअसल, उस लड़की में मोदी की निजी दिलचस्पी है, इसलिए उसकी जासूसी कराई गई।" पढ़ें, मोदी के बचाव में लड़की का पिता, कहा जांच जरूरी नहीं यह मामला दिनोंदिन गर्माता जा रहा है। राष्ट्रीय महिला आयोग ने मोदी को नोटिस जारी कर सवाल उठाया कि आखिर युवती की जासूसी कराने की जरूरत क्यों पड़ी, जिसके लिए पूरी सरकारी मशीनरी लगा दी गई थी। मोदी के बचाव में उतरी भाजपा का कहना है कि महिला के पिता ने मोदी से उसकी सुरक्षा सुनिश्चित करने को कहा था, क्योंकि गुजरात के वरिष्ठ आईएएस ‌अधिकारी प्रदीप शर्मा उसे तंग कर रहे थे। शर्मा ने इन आरोपों को सिरे से खारिज किया है।

'हमारे लिए सीता की तरह हैं सोनिया गांधी' 

भाजपा ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को विदेशी कहा तो केंद्रीय जल संसाधन मंत्री हरीश रावत ने उनकी तुलना सीता से कर दी। हरीश रावत इन दिनों मध्यप्रदेश में कांग्रेस के चुनाव प्रबंधन की कमान संभाले हुए हैं। मध्य प्रदेश में चुनाव प्रचार के दौरान भाजपा के विज्ञापनों में विदेशी खेत और सड़कों की तस्वीर लगाने पर भी कांग्रेस ने आपत्ति जताई थी। भाजपा ने इसका जवाब देते हुए कहा था कि उन्होंने तो केवल तस्वीरें ही विदेशी लगाई हैं, कांग्रेस की तो कमान ही विदेशी महिला के हाथ में है। इस बयान का जवाब देते हुए भोपाल में हरीश रावत ने बुधवार को सोनिया गांधी की तुलना सीता से कर डाली। रावत ने कहा कि हमारे यहां मान्यता है कि कोई भी स्त्री जहां शादी कर लेती है वो वहीं की निवासी मानी जाती है। उसे उतना ही सम्मान दिया जाता है जितना उस जगह की अन्य स्त्रियों को मिलता है। उन्होंने कहा कि सीता भी तो पड़ोसी देश नेपाल की रहने वाली थीं, पर जब भारत में उनकी शादी हुई तो उन्हें न केवल सम्मान मिला बल्कि आराध्य भी बन गईं।

रेलवे ट्रैक पर कर रहे थे पार्टी, खौफनाक अंजाम 

मंडावली के गणेश नगर में मंगलवार देर रात दो इंजीनियर हरविंदर (26) और हरप्रीत (26) के लिए रेलवे ट्रैक पर मौज-मस्ती करना जानलेवा साबित हुआ। ट्रेन की चपेट में आकर दोनों की मौत हो गई। हादसे में उनके साथ मौजूद दोस्त जसमीत बाल-बाल बच गया। घटना के बाद से वह सदमे में है। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, होटल में खाना खाने के बाद तीनों रेलवे ट्रैक पर चले गए। वे वहां पार्टी करने के अलावा फोटोग्राफी करने लगे। पुलिस को मौके से नमकीन व कोल्ड ड्रिंक की बोतल मिली है। पुलिस के मुताबिक, झील खुरेंजा निवासी हरप्रीत ने बीटेक करने के बाद एमबीए किया था। फिलहाल वह नोएडा की एक नामी कंपनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर था। यहीं का हरविंदर गुड़गांव की एक कंपनी में सोल्यूशन इंजीनियर था। उनका दोस्त जसमीत भी इस इलाके में रहता है और अपने पिता के साथ हार्डवेयर का व्यवसाय करता है। पुलिस ने बताया कि मंगलवार शाम को हरविंदर, हरप्रीत व जसमीत ने गणेश नगर स्थित नजीर होटल पर खाना खाया। देर रात तक होटल पर रहने के बाद तीनों पार्टी करने पास ही गणेश नगर रेलवे ट्रैक पर पहुंच गए। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि तीनों रेलवे ट्रैक पर जोर-जोर से चिल्लाकर मौज-मस्ती कर रहे थे। लोगों ने उन्हें मोबाइल से फोटो खींचते हुए भी देखा। इस बीच देर रात करीब 1:30 बजे गाजियाबाद की ओर से आई तेज रफ्तार ट्रेन ने हरविंदर और हरप्रीत को चपेट में ले लिया। जसमीत ने किसी तरह कूदकर अपनी जान बचाई। हादसे में हरविंदर और हरप्रीत की मौके पर ही मौत हो गई। मंडावली थाना पुलिस जसमीत से पूछताछ कर छानबीन कर रही है। पुलिस इस बात का भी पता लगाने का प्रयास कर रही है कि कहीं तीनों शराब तो नहीं पी रहे थे।

दिग्विजय को कॉलेज में घुसने से रोका तो बवाल मचा

कस्बा सांपला स्थित छोटूराम महिला महाविद्यालय में इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला की युवा चेतना यात्रा को कॉलेज के अंदर आने से रोक दिया गया। कॉलेज के मुख्य गेट पर ताला लगा दिया, जिसको लेकर इनेलो कार्यकर्त्ताओं ने जमकर बवाल मचाया। कॉलेज परिसर में भाषण सुनने आई छात्राओं को पुलिसकर्मियों ने कक्षाओं में अंदर भेज दिया। बाद में दिग्विजय सिंह ने कॉलेज के बाहर से भाषण दिया। दिग्विजय सिंह ने कहा कि कांग्रेस पूरी तरह से तानाशाही पर उतर आई है और जनता की आवाज को लाठी व गोली के दम पर बंद करवानी चाहती है। बुधवार सुबह करीब दस बजे इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला के नेतृत्व में युवा चेतना यात्रा सांपला स्थित सर छोटूराम महिला महाविद्यालय पहुंची। कॉलेज प्रबंधन ने पहले ही मुख्य गेट पर ताला लगवा दिया और पुलिस बल को तैनात करवा दिया। इनसो व इनेलो कार्यकर्त्ताओं ने गेट खुलवाने का प्रयास किया, परंतु पुलिसकर्मियों ने गेट खोलने से इंकार कर दिया। कक्षाओं से छात्राएं कॉलेज परिसर में एकत्रित होने लगी तो पुलिसकर्मियों ने उन्हें वापिस भेज दिया। यह देख कार्यकर्त्ता भड़क गए और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी शुरू कर दी। गेट न खुलता देख दिग्विजय सिंह ने बाहर से भाषण देना शुरू  कर दिया। इस दौरान दिग्विजय सिंह ने कहा कि सरकार युवा चेतना यात्रा को मिल रहे छात्रों के अपार समर्थन से बौखला गई है और उन्हें अहसास हो गया है कि प्रदेश में सत्ता परिवर्तन होने जा रहा है। इसी बौखलाहट में कांग्रेस ने तानाशाही दिखाते हुए सांपला के राजकीय कॉलेज में उन्हें सुनने आ रही छात्राओं को पुलिस की लाठी के दम पर कक्षाओं बंद करवा दिया। दिग्विजय ने आरोप लगाया कि जो छात्राएं यात्रा को देखने के लिए कॉलेज के गेट पर पहुंची थी, पुलिस कर्मियों ने बल प्रयोग करते हुए उन्हें धक्के मारकर खदेड़ दिया बल्कि पुलिस कर्मियों ने कॉलेज के गेट पर भी ताला लगा दिया। इनसो कर सकता है कॉलेज में जाकर बात : दिग्विजय दिग्विजय ने कहा कि एक तरफ तो सांसद दीपेंद्र हुड्डा विद्यार्थियों के बीच छात्र संघ की बात करते हैं और दूसरी ओर कालेज में छात्राओं पर भाषण सुनने की पाबंदी लगाकर तानाशाही का परिचय दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि इनसो छात्रों एक मान्यता प्राप्त संगठन है और उसे किसी भी शिक्षण संस्था में जाकर विद्यार्थियों से बातचीत करने का संवैधानिक अधिकार प्राप्त है। इसके लिए किसी पूर्वानुमति की जरूरत नहीं है। इस अवसर पर जिला प्रधान सतीश नांदल, युवा प्रधान बलराम मकड़ौली, हलका प्रधान संदीप हुड्डा, इनसो जिला प्रधान प्रदीप देसवाल, जिला प्रवक्ता किशन कौशिक, रविंद्र धनखड़, जितेंद्र बल्हारा, प्रदीप एडवोकेट, फूल कुमार राणा, संजय बल्हारा, सुखविंद्र, उमेश देवी, इनसो सदस्य मनोज देवी, तनवीर और सत्यवान हुमायुंपुर आदि मौजूद थे। वहीं, प्रिंसिपल अशोक खन्ना ने बताया कि सुरक्षा के लिहाज से सुबह नौ बजे मुख्य गेट बंद कर दिया जाता है, जो छुट्टी के वक्त ही खुलता है। कॉलेज में पुलिस आने के बारे में उन्हें कोई सूचना नहीं है।

पिस्तौल दिखाकर लूट ली कार 

हरियाणा के बहादुरगढ़ में थाना क्षेत्र में सेक्टर-9 बाईपास पर तीन बदमाशों ने पिस्तौल दिखाकर कार छीन ली और फरार हो गए। जानकारी के अनुसार रोहतक के मकड़ौली गांव का रहने वाला नवदीप अपनी रीट्ज कार में दिल्ली गया था। वापसी में वह सेक्टर 9 के बाईपास पर पहुंचा तो लघुशंका के लिए कार सड़क किनारे रोक ली। इसी बीच तीन युवक वहां पहुंचे और नवदीप पर पिस्तौल तान दी। इसके बाद युवक गाड़ी लेकर भाग निकले। नवदीप ने पुलिस को इसकी सूचना दी। सूचना मिलते ही थाना शहर प्रभारी अजय धनखड़, सेक्टर-9 चौकी प्रभारी पवन मौके पर पहुंचे और छानबीन शुरू की। आसपास के क्षेत्र में नाकाबंदी की गई लेकिन लुटेरे भागने में कामयाब हो गए। पुलिस ने नवदीप के बयान पर केस दर्ज कर लिया है।

बस ने कुचली तीन परिवारों की खुशियां

पुराने बस अड्डे स्थित पुल के टी-प्वाइंट पर सड़क हादसे में दो युवतियों और युवक की मौत ने परिजनों को झकझोर कर रख दिया है। परिवार बदहवास हालत में है। दोपहर बाद गमहीन माहौल में तीनों की अंत्येष्टि की गई। वहीं हादसे में घायल एक युवती की हालत नाजुक बनी हुई है। मंगलवार को मृतकों के परिजनों को सांत्वना देने के लिए सारा शहर उमड़ पड़ा। विधायक सहित शहर के अन्य लोग मृतकों के परिजनों को सांत्वना देने पहुंचे। शिवाजी कालोनी निवासी अशोक, इंद्रपाल और रमेश एक ही मकान में रहते हैं। सोमवार देर रात शिवाजी कालोनी निवासी अशोक की बेटी साक्षी (20), बेटा शिवम उर्फ हन्नी (17), उसके भाई इंद्रपाल की बेटी ईशा (20) और रमेश की बेटी दीपा (20) बाइक और स्कूटी पर भिवानी रोड स्थित निजी गार्डन से शादी समारोह से लौट रहे थे। जब वे पुल के टी-प्वाइंट के पास पहुंचे तो तेज गति से आ रही राजस्थान की बस ने चारों को कुचल दिया, जिसमें साक्षी, शिवम और दीपा की मौत हो गई। जबकि इंद्रपाल की बेटी ईशा की हालत नाजुक बनी हुई है।  मंगलवार दोपहर बाद तीनों के शव जब पोस्टमार्टम के बाद कालोनी में पहुंचे तो घर में कोहराम मच गया। परिजनों को अभी तक यह विश्वास नहीं हो रहा है कि उनके बच्चे इस दुनिया में नहीं रहे। अशोक व उसकी पत्नी बार-बार बेहोश हो रहे थे, जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं हादसे में घायल इंद्रपाल की बेटी ईशा की हालत नाजुक बनी हुई है। दोपहर बाद गमहीन माहौल में तीनों की अंत्येष्टि की गई। बस कब्जे में, चालक की तलाश शहर पुलिस ने पुल के टी-प्वाइंट पर हादसा करने वाली बस को अपने कब्जे में ले लिया है और चालक के बारे में पता किया जा रहा है। शहर थाना प्रभारी हनुमान प्रसाद ने बताया कि बस चालक गंगानगर का रहने वाला है और उससे संपर्क किया गया है। जल्द ही चालक के बारे में पता चल जाएगा। हादसे के बाद चालक और बस में सवार यात्री मौके से फरार हो गए थे। पुलिस ने इस संबंध में अज्ञात चालक के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

Nov 19, 2013

रूस में विमान दुर्घटना, 50 लोगों की मौत 

अधिकारियों का कहना है कि रूस के शहर कजान के हवाई अड्डे पर एक यात्री विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने से उसमें सवार सभी 50 यात्री मारे गए हैं। दुर्घटनाग्रस्त बोइंग 737 विमान ने मॉस्को से उड़ान भरी थी और बताया जाता है कि ये उतरने की कोशिश कर रहा था लेकिन तभी इसमें धमाका हो गया। देश के आपात मंत्रालय का कहना है कि विमान में 44 यात्री और चालक दल के छह सदस्य सवार थे। ये विमान तातरस्तान एयरलाइंस का था और रविवार को स्थानीय समयानुसार शाम 7.20 बजे दुर्घटना का शिकार हुआ। रूसी न्यूज वेबसाइट्स पर जारी यात्रियों की सूची के मुताबिक़, मारे गए लोगों में इरिक मिनीखानोव भी शामिल हैं जो रूसी गणराज्य तातरस्तान के राष्ट्रपति के बेटे हैं। मृतकों में दो बच्चे भी शामिल हैं। हादसा टालने की कोशिश रूसी राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन ने इस हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है।

जर्मनी में 'भयंकर' मूंछों की विश्व चैंपियनशिप 

जर्मनी में सैंकड़ों की तादाद में प्रतियोगी विश्व दाढ़ी एवं मूंछ चैंपियनशिप में हिस्सा लेने के लिए जुटे। इस अनोखी प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए क़रीब 20 देशों से लोग आए। चेहरे के सबसे अच्छे बाल की इस विश्व प्रतियोगिता में हिस्सा लेने आए लोगों की अजीबो-गरीब दाढ़ी-मूंछ दर्शकों के आकर्षण का केंद्र बनी रही। इस प्रतियोगिता के आयोजक ने कहा कि उन्हें उम्मीद से बेहतर प्रतिक्रिया मिली है। वह कहते हैं, "दुनिया के कई देशों से हिस्सा लेने के लिए लोग यहां आए हैं।" एक प्रतियोगी ब्रैंडन बिगिंस का कहना है, "मैंने एक बार अमेरिका में इस तरह की प्रतियोगिता में हिस्सा लिया था और अब मैं अपनी दाढ़ी को दुनिया से रूबरू कराना चाहता हूं। मैं यहां देखूंगा कि मेरी दाढ़ी के लिए दर्शकों की कैसी प्रतिक्रिया मिलती है।" इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए 300 लोग आ चुके हैं जो उम्मीद से कहीं ज्यादा है। इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेने आए निक थॉमस कहते हैं कि उन्हें इस प्रतियोगिता की जानकारी ऑनलाइन और फेसबुक के जरिए मिली। वह कहते हैं, "मैंने सोचा कि मैं इस प्रतियोगिता में शामिल होकर देखूं कि क्या होता है और शायद मैं अपनी दाढ़ी और बढ़ा सकता हूं।"

'आप' की पीसी में हंगामा, केजरीवाल पर स्याही फेंकी

भारत में जहां दिनोंदिन जनसंख्या बढ़ रही है वहीं पारसियों को अपनी आबादी घटने का डर सता रहा है। घटती आबादी के मद्देनजर पारसी समुदाय के दंपत्तियों को अब एक से ज्यादा बच्चे पैदा करने का प्रोत्साहन देने के लिए मासिक भत्ता देने की घोषणा की गई है। बांबे पारसी पंचायत ने यह घोषणा की है। पंचायत का कहना है कि अगर पारसी समुदाय के दंपति दूसरा बच्चा पैदा करते हैं तो 18 साल की उम्र तक उन्हें हर महीने 3000 रुपए का भत्ता मिलेगा। तीसरी संतान पैदा करने पर 18 साल की उम्र तक 5000 रुपए का मासिक भत्ता दिया जाएगा। गुजरात में वलसाड के संजन में आयोजित पारसी सम्मेलन में पारसी पंचायत के अध्यक्ष दिनशॉ पटेल ने यह घोषणा की। मेहता के अनुसार इस सभा में देश-विदेश से तीन हजार पारसी आए थे। सभा में बदलते समय के साथ पारसी समुदाय के सर्वाइवल के विषय पर चर्चा हुई। हर साल इस सभा का आयोजन किया जाता है। मेहता ने कहा कि पारसियों की आबादी हर साल 10 से 15 फीसदी कम हो रही है। इस ट्रेंड को नहीं रोका गया तो वर्ष 2050 तक पारसियों की संख्या 36 हजार तक कम हो जाएगी।

'आप' की पीसी में हंगामा, केजरीवाल पर स्याही फेंकी

आम आदमी पार्टी की प्रेस कॉन्फ्रेंस में सोमवार को जबरदस्त हंगामा हुआ। अन्ना हजारे को अपना गुरु और खुद को भाजपा का कार्यकर्ता बताने वाले एक युवक ने आप संयोजक अरविंद केजरीवाल पर काली स्याही फेंक दी। अन्ना के आंदोलन के दौरान जमा रकम का हिसाब मांगते हुए उसने केजरीवाल को धोखेबाज भी बताया। इस बीच, आप कार्यकर्ताओं ने युवक को पकड़कर बाहर निकाल दिया और उससे हाथापाई भी की। युवक के चेहरे पर हल्की-फुल्की चोट भी आई है। बाद में उसे पुलिस ले गई। अपनी टीम के साथ केजरीवाल मीडिया के सामने अन्ना की चिट्ठी का जवाब दे रहे थे। उसी वक्त अन्ना जिंदाबाद का नारा लगाते हुए एक युवक वहां पहुंचा। उसने काली स्याही की बोतल केजरीवाल की तरफ उछाल दी। स्याही मनीष सिसौदिया की टोपी, केजरीवाल के चेहरे और प्रशांत भूषण के हाथ पर पड़ी। युवक ने केजरीवाल पर अन्ना को धोखा देने का आरोप लगाया। हंगामा इतना बढ़ गया कि कुछ देर के लिए कॉन्फ्रेंस रोकनी पड़ी। युवक ने अपना नाम नचिकेता विष्णु पालेकर बताया। उसने बताया कि महाराष्ट्र के अहमदनगर का रहने वाला है। उसका आरोप था कि आंदोलन के दौरान मिली रकम का केजरीवाल दुरुपयोग कर रहे हैं। युवक को बाहर करने के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस दोबारा शुरू हुई। केजरीवाल ने कहा कि वे युवक की शिकायत नहीं करेंगे। ऐसे लोगों के पीछे काम कर रही ताकतों को पहचानने की जरूरत है। मालूम हो कि रामलीला मैदान से 2011 में जनलोकपाल आंदोलन चलाने वाले अन्ना ने आंदोलन के दौरान जुटाई गई रकम के गलत इस्तेमाल की आशंका जाहिर करते हुए केजरीवाल को एक चिट्ठी लिखी है। इसमें उन्होंने कई सवालों पर सफाई मांगी है। दूसरी तरफ केजरीवाल ने इसका जवाब देते हुए सार्वजनिक जांच की मांग की है। साथ ही ऐलान किया कि अगर किसी तरह की गड़बड़ी मिलती है तो वह दिल्ली चुनाव से हट जाएंगे।

Nov 17, 2013

युवक को चाकू से गोदा

रोहतक। सिविल लाइन थाना के अंतर्गत अनेजा प्रॉपर्टी के पास दो युवकों ने पाडा मोहल्ला निवासी सन्नी को चाकू घोंपकर घायल कर दिया। घायल को पीजीआई में भर्ती कराया गया, जहां उसकी हालत स्थिर बनी हुई है। पुलिस ने दोनों आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस के अनुसार शुक्रवार रात पाडा मोहल्ला निवासी सन्नी बाजार से वापिस घर जा रहा था। जब वह अनेजा प्रॉपर्टीज के कार्यालय के पास पहुंचा तो चिन्योट कालोनी निवासी गुल्ला और सुमित ने पुरानी रंजिश में उसे घेर लिया। उन्होंने सन्नी को चाकू मारकर घायल कर दिया और जान से मारने की धमकी देकर वहां से फरार हो गए। पुलिस ने शनिवार दोपहर को दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।

बेटे को बचाने आए बुजुर्ग की हत्या 

गांव बलंब में बेटे को मारपीट से बचाने आए बुजुर्ग दयाकिशन की तीन लोगों ने पीट-पीटकर और फावड़ा मारकर हत्या कर दी। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए पीजीआई भेज दिया और इस संबंध में मृतक के बेटे के बयान पर तीनों आरोपियों कुलदीप, श्रीभगवान व प्रकाश के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। डीएसपी और एफएसएल की विशेष टीम ने घटनास्थल का निरीक्षण किया। मामला दर्ज होने के बाद से ही आरोपी घर से फरार हैं। पुलिस के अनुसार शुक्रवार देर रात गांव बलंब निवासी दलबीर पुत्र दयाकिशन गली से गुजर रहा था। इसी दौरान कुलदीप उर्फ बच्ची के साथ उसकी कहासुनी हो गई। इस पर कुलदीप, श्रीभगवान व प्रकाश ने उसे पकड़ लिया। झगड़े का शोर सुनकर दलबीर का पिता दयाकिशन भी वहां पहुंच गया और बीच बचाव करने लगा। बताया जा रहा है कि इसी दौरान कुलदीप ने वहां रखा फावड़ा दयाकिशन के सिर पर मारा और अन्य दोनों ने भी उसके साथ मारपीट की, जिससे दयाकिशन लहूलुहान होकर वहीं गिर गया। घटना के बाद तीनों हमलावर वहां से फरार हो गए। परिजनों ने दयाकिशन को पीजीआई में भर्ती कराया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। कलानौर थाना प्रभारी रमेश कुमार ने बताया कि मामूली कहासुनी को लेकर बुजुर्ग की हत्या की गई है। जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

आग लगने से धुआं हुई दो कारें 

हरियाणा के बहादुरगढ़ में जैन मंदिर के सामने अचानक दो गाड़ियों में आग लगने से अफरा तफरी मच गई। सूचना मिलते ही फायर ब्रिगेड मौके पर पहुंची और आग पर काबू पाया। जानकारी के अनुसार सैंट्रो गाड़ी मालिक नीरज और मारुति वैन मालिक ढालू रोजमर्रा की तरह जैन मंदिर के सामने अपनी गाड़ी खड़ी करके गए थे। रात करीब एक बजे अचानक सैंट्रो में आग लग गई। आग ने साथ खड़ी वैन को भी अपनी चपेट में ले लिया। आग लगने के कारणों का पता नहीं चल पाया है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

Nov 14, 2013

नीलाम हुआ गांधी का चरखा और टीपू की तस्वीर 

मोहनदास करमचंद गांधी द्वारा प्रयोग किया गया एक चरखा लंदन में नीलाम किया गया। इस चरखे को गांधी ने पुणे स्थित येरवडा जेल में प्रयोग किया था। नीलामी में इस चरखे के लिए न्यूनतम कीमत 60,000 पाउंड रखी गई थी। समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार गांधी ने इस चरखे का प्रयोग उस समय किया था जब वो भारत के स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान पुणे स्थित येरवडा जेल में बंद थे। बाद में उन्होंने इस चरखे को अमरीकी फ्री मेथडिस्ट मिशनरी रेवरेंड फ्लॉयड ए पफर को उपहार में दे दिया था। पफर को भारत में शैक्षणिक और औद्योगिक क्षेत्र की सहकारी संस्थाओं के प्रवर्तक माना जाता है। गांधी ने पफर को भारत में किए गए उनके कार्यों के लिए यह चरखा उपहारस्वरूप दे दिया था। नीलामी घर के मलॉक के विशेषज्ञ रिचर्ड वेस्टवुड ब्रुक ने कहा, "यह गांधी की सबसे प्यारी चीजों में रहा होगा क्योंकि इसे खुद गांधी ने तैयार किया था। इसका महत्व निर्विवाद है और हमने गांधी से जुड़ी जिन चीजों की भी अब तक नीलामी की है उनमें यह सबसे ज़्यादा मूल्यवान है।" टीपू की तस्वीर मलॉक द्वारा की जाने वाली नीलामी में चरखे के अलावा गांधी एवं भारत से जुड़ी 60 अन्य चीज़ों की नीलामी की गई। इनमें महत्वपूर्ण दस्तावेज, तस्वीरें और किताबें शामिल हैं। इनमें वह पत्र भी शामिल है जिसमें यहूदी नरसंहार के दौरान गांधी ने उनसे 'सत्याग्रह' करने की अपील की थी। ब्रितानी साम्राज्य का विरोध करने के लिए गांधी ने हिन्दूस्तानियों से चरखे पर सूत कात कर अपना कपड़ा खुद बनाने के लिए प्रेरित किया था। पारंपरिक चरखा बहुत भारी और चलाने में कठिन था इसलिए एक ऐसे चरखे की ज़रूरत थी जिसका परिवहन आसान हो। जब गांधी येरवडा जेल में थे तब उन्होंने इस सुविधाजनक चरखे का विकास किया जिसे मोड़कर अपने साथ लेकर चला जा सके। गांधी ने कई बार कहा था चरखा कातना उनके लिए ध्यान करने के समान है। सिख और मैसूर राज्य इस नीलामी में सिख और मैसूर राज्य से जुड़ी हुई कई ऐतिहासिक कई वस्तुओं की नीलामी की गईं। इस सामाग्री में टीपू सुल्तान की उन्नीसवीं सदी का एक चित्र, उनकी बेटी का वर्ष 1837 में बना एक चित्र, महाराजा रणजीत सिंह के आरंभिक काल की जानकी वाला वर्ष 1805 का दस्तावेज और क़ुरान की एक अनोखी लघु प्रति जिसे पहले विश्वयुद्ध में मित्र देशों की तरफ से लड़ने वाले मुस्लिम सिपाहियों के लिए प्रकाशित की गई थी।

इमरजेंसी कॉल के दौरान हंसने पर गई नौकरी 

ब्रिटेन में इमरजेंसी कॉल सेवा 999 पर आई एक कॉल के दौरान हंसने के आरोप में पुलिस ने कॉल हेंडलर को निलंबित कर दिया। एसेक्स पुलिस में कॉल हेंडलर के तौर पर काम करने वाली 38 वर्षीय सू हीने अब अपने निलंबन के ख़िलाफ़ अपील कर रही हैं। दरअसल एक पुरुष ने आपात सेवा नंबर 999 पर कॉल किया था और बताया था कि उनका एक रिश्तेदार शराब पीकर गाड़ी चला रहा था और संभवतः वो दुर्घटना का शिकार हो गया है। कॉल के दौरान फ़ोन करने वाले पुरुष और कॉल हेंडलर हँसे भी थे। विवाद पुलिस का कहना है कि कॉलर के साथ में हंसना ग़ैर पेशेवर रवैया था और सू हीने मामले को सही से समझने में नाकाम रहीं थीं। जबकि सू का कहना है कॉल करने वाला व्यक्ति परेशान था क्यों कि उसका मानना था कि पुलिस को कॉल करने की वजह से उसके रिश्तेदार दिक्कत में पड़ सकते हैं। पाँच साल से कॉल हेंडलर के तौर पर काम कर रही सू हीने का तर्क है कि वे कॉलर के साथ घुलमिलकर उससे घटना के बारे में अधिक जानकारी निकालने का प्रयास कर रहीं थीं। कॉल के दौरान अपने रिश्तेदार की कार का नंबर बताते हुए व्यक्ति अंग्रेजी के अक्षर 'ई' को सही से नहीं बता पा रहा था जिस पर सू ने कहा कि क्या यह 'ईको' है। यह सुनकर कॉलर हंसने लगा और सू भी हंसने लगीं। हालाँकि एसेक्स पुलिस का मानना है कि सू कॉल के दौरान लापरवाह थीं जबकि वे इस आरोप को सिरे से ख़ारिज करती हैं। उनके निलंबन पत्र में एसेक्स पुलिस ने कॉल के दौरान हंसने को ग़ैर-पेशेवर रवैया बताया है। पुलिस का कहना है कि सू को कॉल के बारे में विवरण लिखते हुए इसे 'सड़क दुर्घटना- रोकने में नाकाम' बताना चाहिए था। हालाँकि सू का कहना है कि जब व्यक्ति ने फ़ोन किया तो उसका यही कहना था कि संभवतः दुर्घटना हुई हो। उस समय व्यक्ति के पास सिर्फ़ यही जानकारी थी कि कार को नुकसान हुआ है। और उन्होंने इसी कारण कॉल के विवरण में 'संदिग्ध हालात' लिखा था। लापरवाही एसेक्स पुलिस को यह आपात कॉल 9 नवंबर 2012 को आई थी और सू को दिसंबर में निलंबित कर दिया गया था। जुलाई में उन्हें पद से हटाने का फ़ैसला लिया गया। अब वे इस फ़ैसले के ख़िलाफ़ अपील कर रही हैं। सू का कहना है कि वे इस फ़ैसले से 'बर्बाद' हो गई हैं। नौकरी जाने के कारण सू और उनके पार्टनर को अपना घर बेचने का फ़ैसला करना पड़ा है। इस मामले पर पुलिस प्रवक्ता का कहना है कि बाद में ड्राइवर को गिरफ़्तार कर लिया गया था जो दर्शाता है कि यह कितना गंभीर मामला था। प्रवक्ता के मुताबिक मामले की गंभीरता को देखते हुए ही विभाग के पेशेवर मानक विभाग ने इसकी जांच की। लापरवाही के आरोप के बाद ही उन्हें निलंबित किया गया था

होटल का बिल सिक्कों में चुकाने पर हवालात! 

फ्रांस की राजधानी पेरिस में चीन के दो नागरिकों को अपना होटल का बिल सिक्कों में चुकाने के लिए कुछ देर के लिए हिरासत में रहना पड़ा। पुलिस को उन पर नकली सिक्के चलाने चलाने का संदेह हुआ था, हालांकि ये संदेह गलत साबित हुआ। ये मामला पेरिस के पूर्वी इलाके के एक होटल का है जहां ये चीनी पर्यटक ठहरे हुए थे। जब वो लगातार दूसरी रात का किराया 70 यूरो भी एक-एक यूरो के सिक्कों में चुकाने लगे तो होटल के मालिक को शक हुआ और उसने पुलिस को बुला लिया। ये शक और गहरा गया जब पुलिस को इन दोनों पर्यटकों के कमरे से एक एक यूरो के सिक्कों के रूप में 3,700 यूरो मिले। लेकिन बाद ये सभी सिक्के असली पाए गए। कबाड़ गोदाम से मिले सिक्के इन पयर्टकों का कहना है कि उन्हें ये सिक्के चीन में ऐसे कबाड़ गोदामों से मिले जहां यूरोपीय देशों से कारें आती हैं। इन कारों में अकसर एक यूरो के सिक्के मिलते है जो लोग कार में ही भूल जाते हैं। फ्रांस के अखबार 'ले पैरिसियन' ने एक सूत्र के हवाले से कहा, “पुलिस को शक हुआ कि ये लोग फर्ज़ी सिक्के चलाने की फ़िराक़ में हैं।” लेकिन बाद में बैंक के विशेषज्ञ आए और उन्होंने जांच के बाद सिक्कों को असली पाया। बाद में पता चला कि इन पर्यटकों के कई दोस्त कबाड़ गोदामों में काम करते हैं और उनसे उन्होंने ये सिक्के खरीदे थे। हर साल हज़ारों पुरानी कारें चीन के ऐसे कबाड़ गोदामों को बेची जाती हैं। नष्ट करने से पहले उन्हें अच्छी तरह खंगाला जाता है और उनमें सबसे ज्यादा मिलने वाली चीजों में एक यूरो के सिक्के होते हैं।

71 लाख के सूअर का खुर खाना मंहगा पड़ा 

चीन की सत्ताधारी कम्यूनिस्ट पार्टी के एक नेता पर आरोप है कि उन्होंने पिछले तीन साल में एक रेस्त्रां का 71 लाख रुपए का बिल नहीं चुकाया। पार्टी ने उन्हें इसके लिए निलंबित कर दिया है। चीन की सरकारी मीडिया के अनुसार हेनान प्रांत के एक छोटे से शहर वांगलुओ के सचिव हैन जुनहॉंग ने सूअर का खुर बेचने वाले एक रेस्त्रां से पिछले तीन साल में क़रीब 71 लाख रुपए का खुर खाया और उसका बिल नहीं चुकाया। आख़िरकार रेस्त्रां के मालिक को रेस्त्रां ही बंद करना पड़ा। बात जब पार्टी तक पहुंची तो पार्टी ने अपने नेता पर अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए उन्हें निलंबित कर दिया। इस घटना की चीनी सोशल मीडिया पर ख़ूब आलोचना हुई और इस घटना ने एक बार फिर चीनी नेताओं और अधिकारियों के भ्रष्टाचार में लिप्त होने की बात को उजागर किया। इसी महीने के शुरू में ख़बर आई थी कि जियांग्सू प्रांत में एक मीनार बनाने के दौरान भी भ्रष्टाचार हुआ था। भ्रष्टाचार ग्लोबल टाइम्स अख़बार के मुताबिक़ वांगलुओ के अधिकारियों को जब कभी कोई सरकारी समारोह करना होता था तो इसी रेस्त्रां में उसका आयोजन होता था। रेस्त्रां में बनाए जाने वाला सूअर का खुर चीनी खाने की एक लज़ीज़ डिश मानी जाती है। चीनी सोशल नेटवर्किंग साइट वाइबो पर सबसे पहले इस घटना का किसी ने ज़िक्र किया, जिसके बाद चीन के सरकारी मीडिया ने भी इस ख़बर को प्रकाशित किया। ग्लोबल टाइम्स के अनुसार पार्टी ने इस मामले की जांच के आदेश दिए हैं, लेकिन तत्काल प्रभाव से पार्टी नेता हैन जुनहॉंग को निलंबित कर दिया है। उनके बक़ाया बिल का मामला भी सुलझा लिया गया है। एक दूसरे अख़बार बीजिंग न्यूज़ के अनुसार रेस्त्रां के मालिक गेंग वाइजी ने कहा है, ''मैं बहुत बीमार हूं और मेरा एक छोटा बच्चा है। मेरे ऊपर क़र्ज़ है, मुझे उसे भी चुकाना है।'' चीन के राष्ट्रपति शि जिनपिंग ने पार्टी नेताओं और अधिकारियों के ख़र्च में कटौती का अभियान चलाने के आदेश दिए हैं। इनमें यह भी शामिल है कि किसी भी सरकारी भोज में मेहमानों को चार डिश और एक सूप से ज़्यादा कुछ न खिलाया जाए।

बिस्तर गीला करने पर मां ने बच्चे को गर्म रॉड से दागा 

महाराष्ट्र के पुणे जिले में एक महिला को अपने पांच साल के सौतेले बेटे को कथित तौर पर लोहे की गर्म रॉड से दागने और उसे उल्टा करके टांगने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। बच्चे की गलती सिर्फ इतनी थी कि उसने बिस्तर गीला कर दिया था। पुलिस सूत्रों ने बताया कि मंगलवार को एक सामाजिक कार्यकर्ता ने इस मामले में शिकायत दर्ज कराई। शिकायत के मुताबिक गोलू नाम के इस बच्चे को उसकी बिस्तर गीला करने की आदत से परेशान होकर उसकी सौतेली मां मंजू और उसके पिता विजय ने उल्टा करके टांग दिया। इस दौरान मंजू ने गोलू को लोहे की गर्म रॉड से दागा। पुलिस ने बताया कि आरोपी मंजू और विजय ने गोलू को 9 नवंबर से तीन दिन तक कैद करके रखा। इस दौरान जब उसके चीखने चिल्लाने की आवाजें बाहर आईं तो उनके पड़ोसी इसका कारण जानने उनके घर पहुंचे। उन्होंने बताया कि मंजू को तुरंत मौके से गिरफ्तार कर लिया गया, हालांकि विजय भागने में कामयाब रहा। दोनों के खिलाफ जुवेनाइल एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है। बच्चे को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

खेलमंत्री को नहीं मिला सचिन की विदाई मैच का टिकट 

सर्वकालिक महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर के ऐतिहासिक विदाई टेस्ट मैच का गवाह बनने के केंद्रीय खेल मंत्री के दिली अरमान को बीसीसीआई ने ठेंगा दिखा दिया है। अकूत दौलत वाले बीसीसीआई ने हमेशा की तरह इस बार भी खेल मंत्रालय को रत्ती भर भी तवज्जो न देने की नीति जारी रखते हुए खेल मंत्री जितेंद्र सिंह को मुंबई टेस्ट मैच देखने का न्यौता नहीं भेजा है। बीसीसीआई ने सरकार के शीर्षस्थ खेल महकमे की यह अनदेखी तब कि है जब खुद खेल मंत्री ने सार्वजनिक रूप से सचिन के ऐतिहासिक 200वें टेस्ट मैच को देखने की इच्छा जताई थी। वैसे बीसीसीआई की सरकार के खेल महकमे की यह तौहीन कोई नई बात नहीं है। इस अविस्मरणीय मौके पर ही नहीं बल्कि 2011 में मुंबई में हुए विश्वकप क्रिकेट का फाइनल देखने के लिए भी बीसीसीआई ने तत्कालीन खेल मंत्री अजय माकन को न्यौता नहीं भेजा था। तब माकन ने सोशल मीडिया पर न्यौता न मिलने की टीस जाहिर की थी। तब बीसीसीआई के इस रवैये की काफी आलोचना भी हुई थी। मौजूदा खेल मंत्री जितेंद्र सिंह ने अभी पिछले महीने हॉकी इंडिया के एक समारोह में सचिन के विदाई टेस्ट मैच का गवाह बनने की इच्छा यह कहते हुए जाहिर की थी कि मैच देखने का न्यौता आता है तो वह जरूर लिटिल मास्टर के इस क्षण का हिस्सा बनना चाहेंगे। खेल मंत्री की सार्वजनिक रूप से जाहिर की गई इस इच्छा को बीसीसीआई ने नोटिस लेना भी मुनासिब नहीं समझा। दुनिया के सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर को अंतिम विदाई देने के लिए बीसीसीआई ने तमाम तरह के आयोजन किए हैं। मुंबई में बृहस्पतिवार से शुरू हो रहे सचिन के अंतिम टेस्ट से पहले कई कार्यक्रमों का आयोजन हो चुका है। बीसीसीआई की योजना टेस्ट के बाद भी कई भव्य कार्यक्रम करने की है। इसके लिए बीसीसीआई ने इन आयोजनों के साथ-साथ देश भर के विशिष्ट हस्तियों को सचिन का विदाई मैच देखने के लिए आमंत्रित किया है। समारोह में केंद्रीय संचार और कानून मंत्री कपिल सिब्बल सचिन पर डाक टिकट जारी करने वाले हैं। तो मैच और कार्यक्रम के लिए वर्तमान एवं पूर्व क्रिकेटरों, अमिताभ बच्चन, लता मंगेशकर से लेकर बॉलीवुड की तमाम दिग्गज हस्तियों के साथ मुकेश अंबानी सरीखे तमाम उद्योगपतियों को भी निमंत्रित किया गया है। मगर निमंत्रित होने वाली हस्तियों में न तो खेल मंत्री शामिल हैं और न ही खेल मंत्रालय से जुड़े अधिकारी। आयोजनों और मैच के दौरान शरद पवार, राजीव शुक्ला, अरुण जेटली, अनुराग ठाकुर जैसे राजनीतिज्ञ जरूर मौजूद रहेंगे मगर वे अतिथि नहीं बल्कि बीसीसीआई के कर्ताधर्ता के रूप में। 

पत्नी को जबरन जहर खिलाया 

रोहतक। गांव भाली आनंदपुर में एक युवक पर अपनी पत्नी के साथ मारपीट करके उसे जबरन जहर खिलाने का आरोप लगा है। विवाहिता को पीजीआई में भर्ती कराया गया है, जहां उसकी हालत नाजुक बनी हुई है। इस संबंध में पुलिस ने विवाहिता के बयान पर उसके पति के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस के अनुसार गांव भाली आनंदपुर निवासी गीता पत्नी सुखबीर को परिजनों ने संदिग्ध परिस्थितियों में अचेत हालत में पीजीआई में भर्ती कराया। मेडिकल पुलिस चौकी द्वारा सूचना देने पर सदर पुलिस पीजीआई पहुंची और गीता के बयान दर्ज किए। गीता ने पुलिस को बताया कि उसके पति सुखबीर ने शराब पीकर उसके साथ मारपीट की और बाद में उसे जबरन जहर खिला दिया। मामला दर्ज होने के बाद से ही आरोपी घर से फरार है।

जाटों को आरक्षण की कोई जरूरत नहीं 

एक ओर जहां उत्तर भारत में जाटों द्वारा नौकरियों में आरक्षण हासिल करने की जंग लड़ी जा रही है, वहीं अखिल भारतीय आदर्श जाट महासभा के राष्ट्रीय प्रवक्ता इसके पक्ष में नहीं है। अखिल भारतीय आदर्श जाट महासभा के राष्ट्रीय प्रवक्ता एवं चाणक्य सेना के संयोजक दीपक राठी ने कहा कि जाटों को आरक्षण की कोई जरूरत नहीं है। आरक्षण से देश में किसी जाति का कोई भला नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि इस देश में छह दशक से आरक्षण लागू है। आरक्षण देश में सिर्फ सस्ती लोकप्रियता हासिल करने का लॉलीपॉप है।   वे बुधवार को मैना पर्यटक केंद्र में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि देश में आरक्षण खत्म करके सामाजिक सद्भाव, आपसी भाईचारे व विकास के लिए देश के हर योग्य नागरिक के लिए पांच साल तक फौज की नौकरी जरूरी होनी चाहिए। फौज ही सही मायने में देश की सेवा करती है। दुनिया के तमाम विकसित देशों में फौज की नौकरी उनके नागरिकों के लिए जरूरी है। उन्होंने कहा कि हरियाणा में आरक्षण के लिए जाटों ने आंदोलन किया, लेकिन जब आरक्षण दिया उसमें वोट की राजनीति के चलते बिश्नोई, त्यागी, रोड एवं सिक्ख जाटों को भी इसमें शामिल कर लिया गया, जबकि उन्होंने आरक्षण मांगा भी नहीं था।

Nov 13, 2013

अमेरिका की घिनौनी हरकत सामने वाले को नई नौकरी 

अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाने वाले एडवर्ड स्नोडेन के वकील का कहना है कि स्नोडेन को नया काम मिल गया है। अमेरिका की ख़ुफ़िया एजेंसी के पूर्व कर्मचारी स्नोडेन जो फ़िलहाल रूस में शरण लिए हुए हैं, वहां की एक प्रमुख निजी वेबसाइट के लिए काम करेंगे। स्नोडेन के वकील ऐनातोली कूचेरेना ने रूसी समाचार एजेंसी रीआ नोवोस्ती को बताया कि ''एडवर्ड नवंबर में काम शुरू करेंगे।''हालांकि सुरक्षा कारणों से उन्होंने उस साइट का नाम नहीं बताया जिसके साथ स्नोडेन काम करेंगे। अमेरिका में टेलीफ़ोन जासूसी का ब्यौरा लीक करने के बाद 30 वर्षीय स्नोडेन जून में अमेरिका से भागकर रूस चले गए थे। फ़ेसबुक की प्रतिद्वद्वी समझी जाने वाली एक लोकप्रिय सोशल नेटवर्किंग साइट वीकॉन्ताक्ते के प्रमुख ने पहले ही स्नोडेन को सार्वजनिक तौर पर नौकरी का एक ऑफ़र दिया था। वीकॉन्ताक्ते के संस्थापक पॉवेल दुरॉव ने अपने वेबपेज पर संदेश डालकर स्नोडेन को कंपनी के सेंटपीटर्सबर्ग स्थित मुख्यालय में डाटा सुरक्षा संबंधी काम करने का न्यौता दिया था। अज्ञातवास स्नोडन के वक़ील वो दस्तावेज़ दिखा रहे हैं जिनके मुताबिक़ वो रूस में रह सकते हैं। रूस में अगस्त महीने से अस्थायी शरण लेकर रह रहे एडवर्ड स्नोडेन के निजी जीवने के बारे में ज़्यादा जानकारी नहीं मिल पाई है। उनकी लीक की हुई जानकारी के चलते अमेरिकी सरकार मुश्किल में है क्योंकि इसमें अमेरिका के वृहद निगरानी कार्यक्रम को सार्वजनिक किया गया है जो रूस, चीन और पश्चिमी साथियों में जर्मनी और ब्राज़ील तक फैला हुआ था। अमेरिका चाहता है कि स्नोडेन को प्रत्यर्पित कर दिया जाए ताकि उस पर आपराधिक मामला चलाया जा सके। स्नोडेन ने एक महीने से ज़्यादा का वक्त मॉस्को हवाई अड्डे पर बिताया था। इस बात की स्पष्ट जानकारी नहीं है कि स्नोडेन मॉस्को में ही हैं या कहीं और। इसी हफ़्ते एक रूसी वेबसाइट ने स्नोडेन की एक तस्वीर प्रकाशित की। अख़बार का कहना है कि फ़ोन से ली गई इस तस्वीर के लिए उसने एक पाठक को 2000 पाउंड चुकाए हैं। इसमें स्नोडेन मॉस्को नदी में नाव से यात्रा करते दिख रहे हैं। फ़ोटो में उन्होने अपना चश्मा नहीं लगाया हुआ है और लाल रंग की क़मीज़ व टोपी लगा रखी है। तस्वीर के पृष्ठभूमि में मॉस्को का क्राइस्ट द सेवियर कैथेड्रल चर्च दिखाई दे रहा है। रूसी भाषा की पढ़ाई कुचेरेना ने ये भी बताया कि स्नोडेन रूसी भाषा बोलना सीख रहे हैं और देश के अन्य शहरों समेत क्रेमलिन व दूसरे संग्रहालय भी जा चुके हैं। कुचेरेना ने कहा ''वह पहले ही रूसी शब्दों और हमारी संस्कृति की जानकारी में बहुत आगे निकल चुके हैं। फ़िलहाल रूस में उनकी जो रूचि है, रूसी नागरिकों का उनके प्रति जो रवैया है, प्यार है, उसे देखते हुए मुझे नहीं लगता कि वो इस वक्त किसी और देश जाने की इच्छा रखते हैं।'' कुचेरेना ने स्नोडेन का वर्तमान पता तो नहीं बताया लेकिन इतना ज़रूर कहा कि वे देश की सबसे बड़ी वेबसाइट में सूचना प्रौद्योगिकी में काम करेंगे। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने हाल ही में एक इंटरव्यू में कहा था कि स्नोडेन रूस में अपने आपको सुरक्षित महसूस कर सकते हैं। हालांकि समाचार एजेंसी एपी से बातचीत में उन्होने कहा कि उन्हें वह अजीब इंसान लगा।

महंगाई से परेशान लोगों ने लूट लीं 5 लाख की स‌ब्जियां 

सुरसा के मुंह की तरह रोजाना बढ़ रही महंगाई से परेशान लोग अब लूटपाट पर उतर आए हैं। आसमान छूती सब्जियों की कीमतों से गुस्साएं लोगों ने मालदा जिले में तीन बाजारों में सब्जियों को ही लूट लिया। लोग करीब 5 लाख रुपये के आलू और सब्जियां लूटकर ले गए। इस बीच सब्जी विक्रेताओं ने सुरक्षा नहीं उपलब्ध कराने पर हड़ताल पर जाने की धमकी दी है। इन दिनों पश्चिम बंगाल की बाजारों में आलू 60 रुपये और प्याज 80 रुपये किलो बिक रहा है। इसके अलावा याम 45 रुपये, कच्चा केला 60 रुपये प्रति दर्जन बिक रहा है। हालांकि बंगाल में आलू इस बार की तरह कभी इतना महंगा नहीं रहा है लेकिन इस बार आम आदमी की सब्जी कहे जाने वाला आलू का स्वाद भी कड़वा हो गया है। पुलिस के अनुसार, मंगलवार को धरमपुर, अचिनटोला और बालूपुर बाजार में लोगों ने सब्जियों की लूटपाट की। रोजाना सब्जियों की बढ़ती कीमतों से गुस्साएं लोगों के इस कदम से घबराई सरकार ने ऐहतियाती कदम उठाने शुरू कर दिए हैं। इससे पहले सोमवार को ग्रामीणों ने मालदा में सोवानगर हाट में लूटपाट की थी। ग्रामीणों ने यह कदम आलू विक्रेताओं के सरकार द्वारा निर्धारित 13 रुपये प्रति किलो आलू बेचने से इनकार किए जाने के बाद उठाया था। मंगलवार को धरमपुर में लोगों ने सब्जियों की लूटपाट की। आलू की बेलगाम होती कीमतों को देखते हुए ममता बनर्जी ने खुद कृषि विपणन मंत्रालय का जिम्मा संभाल लिया है। सरकार की ओर से उचित मूल्य की दुकानें खोलकर 13 रुपये किलो आलू बेचा जा रहा है। सरकार ने पड़ोसी राज्यों ओडिशा और झारखंड को आलू की सप्लाई बंद कर दी है। इसको लेकर इन राज्यों के साथ रिश्तों में भी तनाव उत्पन्न हो गया है।

एक और गलती: अब ये क्या कह गए नरेंद्र मोदी 

गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी एक के बाद एक तथ्यों की गलतियां कर रहे हैं। मंगलवार को गांधीनगर में एक सभा को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि स्टेचू ऑफ लिबर्टी विश्व की सबसे बड़ी मूर्ति है। मोदी ने कहा कि हमने निर्णय लिया है कि हम विश्व की सबसे बड़ी मूर्ति के रूप में स्टेचू ऑफ यूनिटी बनाएंगे। अभी विश्व की सबसे बड़ी मूर्ति अमेरिका में स्टेचू ऑफ लिबर्टी है। हालांकि ये बात और है कि मोदी के ही नेतृत्व वाली ट्रस्ट जिसके द्वारा स्टेचू ऑफ यूनिटी का निर्माण कराया जा रहा है, उसकी वेबसाइट पर बताया गया है कि विश्व की सबसे बड़ी मूर्ति चीन में स्थित 'स्प्रिंग बुद्ध' (153 मीटर) है। दूसरे नंबर पर जापान की उसिकू दा‌इबूस्तू (120 मीटर) और तीसरे नंबर पर अमेरिका की स्टेचू ऑफ लिबर्टी (92 मीटर) है।

राजीव गांधी पर CBI के पूर्व प्रमुख का संगीन इल्जाम 

ऐसे वक्‍त जब राजनीतिक दलों की फंडिंग को लेकर बवाल मचा हुआ है, एक नई किताब में दावा किया गया है कि राजीव गांधी ने प्रधानमंत्री पद पर रहते हुए एक बेहद विवादित फैसला किया था। किताब में कहा गया है कि राजीव गांधी चाहते थे कि सैन्य साजो-सामान की आपूर्ति करने वालों से मिला कमिशन यानी दलाली इकट्ठी की जाए और इस फंड का इस्तेमाल 'कांग्रेस के उन खर्च के लिए किया जाए, जिनसे बचा नहीं जा सकता।' हाल में रिलीज किताब 'अननोन फैसेट्स ऑफ राजीव गांधी, ज्योति बसु एंड इंद्रजीत गुप्ता' सीबीआई के पूर्व निदेशक डॉ. ए पी मुखर्जी ने लिखी है। उन्होंने यह दावा 1989 में राजीव के साथ हुई बातचीत पर आधारित है। देश भर में जुटाया गया पैसा संयोग से राजीव उस वक्‍त बोफोर्स तोप से जुड़े घोटाले में फंए गए और सत्ता से भी बेदखल हुए। मुखर्जी ने लिखा है, "राजीव गांधी को यह साफ पता था कि ज्यादातर सैन्य डीलरों की ओर से ‌कमिशन नियमित रूप से दिया जाता है, जिसकी एकाउंटिंग ठीक से नहीं होती। वह चाहते थे कि इस तरह का पैसा एकत्र कर एकाउंटिंग की जाए।" उन्होंने लिखा है, "इसके बाद देश भर में पार्टी के सभी नेताओं ने बड़े पैमाने पर पैसा एकत्र करना शुरू कर दिया।" मुखर्जी के मुताबिक राजीव को पता लगा था कि ज्यादातर सैन्य खरीदों में बड़े पैमाने पर कमिशन दिया जा रहा है। कई बार इनमें कुछ मंत्रियों, मध्यस्‍थों और नौकरशाहों की मिलीभगत शामिल रहती थी। सीबीआई के पूर्व निदेशक के मुताबिक राजीव ने इस समस्या पर अपने करीबी लोगों और सलाहकारों के साथ विचार किया। इसमें यह सलाह दी गई कि मध्यस्‍थों को दिए जाने वाले कमिशन पर पाबंदी लगा दी जानी चाहिए, लेकिन सैन्य सामग्री के आपूर्तिकर्ता से मिलने वाली दलाली को पार्टी के लिए इस्तेमाल करने की सलाह दी गई।

सट्टेबाजी को कानूनी दर्जा देने के हक में द्रविड़ और CBI 

आईपीएल में 66,000 करोड़ रुपए की सट्टेबाजी के अनुमानों के बीच सीबीआई निदेशक रंजीत सिन्हा का कहना है कि इसे कानूनी जामा पहनाने में कोई नुकसान नहीं है। साथ ही जेंटलमैन गेम के 'मिस्टर क्लीन' रहे राहुल द्रविड़ का कहना है कि अगर सट्टेबाजी को कानूनी बनाए जाने से देश में खेलों में भ्रष्टाचार रुक सकता है, तो इस बारे में कदम बढ़ाया जाना चाहिए। जांच एजेंसी के सम्मेलन में एक सवाल पर सिन्हा ने कहा कि यदि राज्यों में लॉटरी, पर्यटन स्थलों पर जुआ घर, काले धन के बारे में स्वैच्छिक जानकारी देने के लिए सरकारी योजनाएं हो सकती हैं, तो सट्टेबाजी को कानूनी जामा पहनाने से क्या नुकसान होने वाला है। सिन्हा ने कहा कि इन सभी गतिविधियों पर नजर रखने के लिए विभिन्न एजेंसियां हैं, फिर भी इन्हें कानूनी छूट दी गई है। उन्होंने कहा कि किसी चीज पर प्रतिबंध की मांग करना आसान है, लेकिन उसे लागू करना बहुत मुश्किल है। जब राहुल द्रविड़ से यह सवाल किया गया कि क्या वह भी इसके पक्ष में हैं, तो उन्होंने कहा, "अगर इससे भ्रष्टाचार कम करने में मदद मिलती है, तो मैं इसके पक्ष में हूं।" भारतीय क्रिकेट टीम की कप्तानी कर चुके द्रविड़ ने कहा, "भारतीय खेलों में ईमानदारी से जुड़े मामले हैं, जिन पर तुरंत कानूनी दखल देने की जरूरत है। इनमें उम्र से जुड़ा फर्जीवाड़ा, जानबूझकर कमतर प्रदर्शन करना, डोपिंग और सट्टेबाजी में खिलाड़ियों का शामिल होना हैं।"

अब रोहतक की गल‌ियों में घूमती नहीं दिखेगी गायें 

अब आपको शहर में लावारिस पशु घूमते हुए नजर नहीं आएंगे। नगर निगम की हाउस की हुई बैठक में गौशाला बनाने का प्रस्ताव पास किया गया है। इसके अलावा एजेंडे में रखे हुए 21 प्रस्ताव में से अधिकतर प्रस्ताव ध्वनिमत से पारित किए गए। हाउस में पार्षदों के भारत भ्रमण के प्रस्ताव को भी सर्वसम्मति से पारित कर दिया गया। सोमवार को नगर निगम की पहली साधारण बैठक विकास सदन में हुई। बैठक की अध्यक्षता निगम के आयुक्त एवं जिला उपायुक्त डॉ. अमित अग्रवाल ने की। बैठक में निगम की मेयर रेणु डाबला सहित अधिकतर पार्षद मौजूद रहे। शुरुआत में पार्षदों ने एजेंडे के अनुसार 21 प्रस्ताव रखे। तीन घंटे चली बैठक में प्रस्तावों पर काफी विचार विमर्श हुआ और सबसे पहले शहर में लावारिस पशुओं से निजात के लिए गौशाला बनाने का निर्णय लिया, जिस पर सभी पार्षदों ने अपनी सहमति जताई। जल्द ही निगम गौशाला के लिए जगह चिह्नित करेगा। शहर में लावारिस पशु लोगों के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं। आयुक्त ने पार्षदों की सहमति से नगर निगम की खुद की गौशाला स्थापित किए जाने का प्रस्ताव पारित किया। लावारिस गायों के अलावा बंदर व कुत्तों को पकड़ने के लिए कई पार्षदों ने मांग की, जिसको नगर निगम अधिकारियों ने पूरा करने का भरोसा दिलाया। मेयर के बैठक में देरी से आने पर कई पार्षदों ने विरोध भी प्रकट किया, लेकिन बाद में सब सामान्य हो गया। नगर निगम पार्षदों की तरफ से एजेंडा आयुक्त के समक्ष रखा गया। एजेंडे में कुल 21 प्रस्ताव रखे गए थे, जबकि आधा दर्जन प्रस्ताव ऑन टेबल लाए गए थे। पार्षदों ने एजेंडे में उत्तर व दक्षिण भारत के राज्यों के भ्रमण का प्रस्ताव भी रखा ताकि वहां नगर निगम की कार्यप्रणाली का ज्ञान हासिल किया जा सके। इस प्रस्ताव पर सभी पार्षदों ने सहमति जता दी। बैठक में डिप्टी मेयर अशोक भाटी, अशोक खुराना, अजय टाटू के अलावा डीएमसी वाईएमसी गुप्ता, एटीपी कृष्ण वार्ष्णेय और जेटीओ लक्ष्मण सिंह के अलावा अन्य पार्षद व निगम के अधिकारी मौजूद रहे।

जमीन के लिए छोटे भाई को मार डाला 

सांपला कस्बे में मिस्त्री का काम करने वाले बिहार निवासी मिंटू मेहता की हत्या उसके छोटे भाई ने ही की थी। सांपला पुलिस ने मामले का खुलासा करते हुए सूरत मेहता व लालू शाह को गिरफ्तार किया। पूछताछ के दौरान आरोपी ने स्वीकारा कि बिहार में जमीनी विवाद को लेकर भाइयों में आपसी झगड़ा था और इसी रंजिश के चलते उसने अपने साथियों के साथ मिलकर हत्या की है। पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त लोहे का सरिया व चाकू बरामद कर लिया है बाकी दो आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस संबंधित स्थानों पर छापेमारी कर रही है। डीएसपी शमशेर सिंह दहिया ने बताया कि 31 अक्तूबर को गांव इस्माईला के पास खेत में पुलिस को एक युवक का शव लहूलुहान हालत में पड़ा हुआ मिला था। इसी बीच शव की शिनाख्त सांपला में मिस्त्री का काम करने वाले बिहार निवासी मिंटू मेहता के रूप में हुई। जांच में खुलासा हुआ कि मिंटू मेहता व उसके भाई सूरत मेहता के बीच जमीनी विवाद को लेकर झगड़ा चल रहा था और सूरत मेहता भी रेलवे रोड पर रहता है। पुलिस ने देर रात सूरत मेहता व उसके साथी लालू शाह को हिरासत में लेकर पूछताछ की। सूरत मेहता ने बताया कि 26 अक्तूबर को उसने अपने साथी मनोज, विनोद व लालू शाह के साथ मिलकर अपने भाई की हत्या की और बाद में शव को इस्माईला के पास खेत में फेंक दिया।

Nov 9, 2013

आसारामः पीड़िता को 3 लाख मुआवजा देने का आदेश 

आसाराम यौन शोषण मामले में राजस्थान हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को एक महीने के भीतर नाबालिग पीड़िता को तीन लाख रुपए मुआवजा देने का निर्देश दिया है। अदालत ने यह निर्देश इस मामले की सह आरोपी छिंदवाड़ा स्थित गुरुकुल की वार्डेन संचिता गुप्ता सेवक शिवा की जमानत याचिका पर सुनवाई के दौरान दिए। अभियोजन पक्ष के वकील महिपाल बिश्नोई ने बताया कि सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट की पीठ ने जर्मन टूरिस्ट रेप केस का उदाहरण दिया, जिसकी सुनवाई कोर्ट में केस आने के 16 दिनों के भीतर पूरी हो गई। जस्टिस कंवलजीत सिंह अहलूवालिया ने मामले में दोनों सह आरोपियों की जमानत याचिका पर सुनवाई तब तक लिए स्थगित कर दी जब तक मामले में आरोपियों के खिलाफ दाखिल चार्जशीट अदालत द्वारा संज्ञान में नहीं ली जाती। हाईकोर्ट ने निचली अदालत को यह भी निर्देश दिया कि वह चार्जशीट को 16 नवंबर को संज्ञान में ले। पुलिस जिला और सत्र अदालत में बुधवार को ही आसाराम और चार अन्य आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर चुकी है। अदालत सभी आरोपियों की हिरासत अवधि 16 नवंबर तक बढ़ा चुकी है, इसी दिन चार्जशीट पर बहस शुरू होगी।

सुहैल रिजवीः एक ही दिन में अरबपति बनने वाला भारतीय

भारतीय मूल के सुहैल रिजवी जो ट्विटर में अपने निवेश के कारण एक ही दिन में अरबपति बन गए। सुहैल ने इससे पहले ही एक व्यक्‍ति को काम पर रखा जिसकी जिम्मेदारी थी, कि वह रिजवी के सभी फोटो और निजी जा‌नकारियों को इंटरनेट सर्च से हटा दे। लेकिन रिजवी अचानक से गुरुवार को खबरों की दुनिया में छा गए, जब ट्विटर में 15.6 फीसदी की हिस्सेदारी रखने वाले रिजवी सोशल मीडिया की इस कंपनी के न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज में लिस्ट होते ही 380 करोड़ डॉलर के मालिक बन गए। इसके बाद तो जैसे रिजवी की पूरी जन्म कुंडली ही इंटरनेट पर आ गई। जो कुछ इस प्रकार है। ‌सुहैल रिजवी का जन्म भारत में हुआ था और वह 1971 में 5 साल की उम्र में ही अपने पूरे परिवार के साथ अमेरिका चले गए।  उसके पिता, राजा रिजवी जो एल्सवर्थ कम्यूनिटी कॉलेज में मनोविज्ञान पढ़ाते थे। वहीं पर सुहैल और उनके भाई अशरफ, जो अब हेज फंड मैनेजर हैं, साथ-साथ स्कूल गए। सुहैल रिजवी ने अपनी स्नातक की पढ़ाई पेनसेवेलेनिया विश्वविद्यालय के व्हार्टन बिजनेस स्कूल से की। इसी स्कूल से अनिल अंबानी, आदित्य मित्तल और सचिन पायलट ने अपनी एमबीए की डिग्री ली है। अपने पढ़ाई के दौरान ही रिजवी रियल एस्टेट विश्लेषक का काम करने लगे थे। रिजवी ने इसके बाद एक टेलीकॉम कंपनी शुरू की और बेच भी दी। उसके बाद उन्होंने प्यूर्टो रिको की एक टेलीकॉम कंपनी के लिए हाई एंड इलेक्ट्रॉनिक सामान बनाना शुरू किया, जिसकी सालाना राजस्व 1 करोड़ डॉलर से बढ़कर 45 करोड़ डॉलर तक हो गई। साल 2000 के बाद तो जैसे रिजवी ने जिसे छूआ उसे सोना कर दिया। सबसे पहले उसने इंटरनेशन क्रिएटिव मैनजमेंट नाम की टैलेंट एजेंसी को अपने नियंत्रण में लिया, जिसके पास फिल्म, टीवी, मनोरंजन और पब्लिशिंग के बड़े-बड़े काम थे। इसी कंपनी ने बाद में ह्यूज हेफ्नर के लिए प्लेब्वॉय प्राइवेट लेने का काम किया। रिजवी ने समिट एंटरटेनमेंट में भी हिस्सेदारी खरीदी, जिसके पास 'पैसों की झड़ी' वाली ट्वाईलाइट सीरिज का अधिकार था। पिछले साल ही लायंसगेट ने समिट को 40 करोड़ डॉलर में खरीद लिया, जिस पैसे को रिजवी ने ‌ट्विटर में लगा दिया। इस बीच रिजवी की निवेश कंपनी रिजवी ट्रैवीज ने फेसबुक, स्कैवयर और फ्लिपबोर्ड जैसी टेक्‍नालॉजी कंपनियां में अपना निवेश भी बढ़ा दिया। ट्विटर में निवेश के जरिए रिजवी ने इसके संस्‍थापक और सी‌ईओ, ईवान विलियम्स और जैक डोरजी के अलावा शुरुआती निवेश करने वाले, स्पार्क कैपिटल, बेंचमार्क कैपिटल से भी ज्यादा पैसा बनाया।

विजय सिंह से शादी करेंगी म‌ल्लिका शेरावत 

म‌ल्लिका शेरावत विजय सिंह से शादी करेंगी। अब देखना यह है कि मल्लिका इसकी औपचारिक घोषणा कब करती हैं। मल्लिका शेरावत के रियलिटी शो 'द बेचलरेट इंडिया-मेरे ख्यालों की मल्लिका' में धर्मशाला के विजय सिंह को मिस्टर परफेक्ट चुन लिया है। अब देखना है कि क्या मल्लिका विजय से शादी रचाती हैं या नहीं। पढ़िए यह विशेष स्टोरी बड़ी तो हो गईं पर फिल्मों में कब आएंगी ये स्टार पुत्रियां इस सीरियल के शुरू होने के पहले कहा गया था कि जो इस रियलिटी शो का विजेता होगा मल्लिका उससे शादी करेंगी। हालांकि मल्लिका ने कहा था कि शादी करने से पहले वे मिस्टर परफेक्ट को पहचानेंगी। इस रियलिटी शो के विजेता विजय भी कहते हैं कि 'अब मुझे रीयल लाइफ में मल्लिका का दिल जीतना होगा। हम दोनों धर्मशाला में डेटिंग पर एक-दूसरे को समझेंगे।' यह दोनों अभी धर्मशाला में ही हैं। विजय के पिता अर्जुन ने कहा था कि मुझे खुशी होगी कि मल्लिका शेरावत उनकी बहू बनें। पूरा परिवार विजय के शो जीतने से उत्साहित है।

बिल्ली ने इमरजेंसी कॉल करके बुलाई पुलिस,पर क्यों? 

यूरोपीय देशो में 999 एक ऐसा नंबर है, जिस पर फोन करते ही मदद पहुंच जाती है। उस दिन भी ऐसा ही हुआ। जब 999 पर पुलिस की घंटी बजी तो पुलिस मुस्तैद हो गई। हालांकि दूसरी ओर से कोई आवाज नहीं आई लेकिन पुलिस ने फोन नंबर की डिटेल निकालकर घर का पता मालूम कर लिया। तनख्वाह इतनी ज्यादा थी कि नौकरी छोड़ दी मेट्रो की खबर के अनुसार, घर का पता मालूम करके जब पुलिस वहां पहुंची तो दंग रह गई। दरअसल ये फोन था तो मदद के लिए ही लेकिन किसी इंसान की तरफ से नहीं बल्कि फोन करने वाली एक बिल्ली थी। हुआ कुछ यूं कि ब्रूस नाम की ये बिल्ली घर पर अकेली थी। घर के मालिक काम के सिलसिले में बाहर गए हुए थे और इस ये बिल्ली खुद को घर में अकेला महसूस कर रही थी। हालांकि इस बात का तो पता पुलिस भी नहीं लगा सकी है कि उसे आखिर ये नंबर कैसे मिला और उसने कैसे इसे मिलाया। 16 करोड़ साल से सेक्स कर रहे हैं ये दोनों पुलिस ने वहां पहुंचकर कुछ देर तक घर के मालिक जेम्स कॉकसेज का इंतजार किया और उनके लौटने पर उन्हें पूरा वाकया सुनाया। 'हर टीम में एक ही गुंडा ‌होता है और यहां का गुंडा मैं हूं' कॉकसेज ने बताया कि ब्रूस फोन को लेकर काफी उत्सुक रहती है। यहां तक कि उसे फोन की घंटी सुनना भी काफी पसंद है। वो अक्सर फोन के बटन के साथ छेड़खानी भी करती है।

आठ साल में दूसरी बार मिली भारत को विश्व कप मेजबानी 

भारत को एक बार फिर विश्व कप की मेजबानी मिल गई है। आठ सालों में ऐसा दूसरी बार होगा जब भारत हॉकी विश्व कप का आयोजन करेगा। अंतरराष्ट्रीय हॉकी महासंघ (एफआईएच) ने 2018 में होने वाले हॉकी विश्व कप (पुरुष वर्ग) की मेजबानी भारत को सौंपी है। जबकि इसी साल महिला विश्व कप के लिए इंग्लैंड को मेजबानी मिली है।   एफआईएच के अनुसार हॉकी इंडिया (एचआई) देश में पुरुष हॉकी विश्व कप का आयोजन हासिल करने में सफल रहा है। भारत तीसरी बार इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट की मेजबानी करेगा। 1982 में पहली बार मिली थी मेजबानी इससे पहले भारत ने पहली बार 1982 में मुंबई (तत्कालीन बंबई) में विश्व कप का आयोजन किया था जहां पाकिस्‍तान चैंपियन बना था। इसके बाद दिल्‍ली में 2010 में विश्व कप का सफल आयोजन किया गया। यह टूर्नामेंट ऑस्ट्रेलिया ने जीता था। एफआईएच के अध्यक्ष लियोनार्डो नेगे ने स्विट्जरलैंड के लुसाने में आयोजित एक भव्य कार्यक्रम में भारत और इंग्लैंड को विश्व कप की मेजबानी सौंपने की घोषणा की। नेग्रे ने घोषणा करते हुए कहा, "मैं इंग्लैंड हॉकी और हॉकी इंडिया को उनके हाकी विश्व कप 2018 की मेजबानी हासिल करने के लिए किए गए सफल प्रयास के लिए बधाई देता हूं। दोनों देशा की ओर से मेजबानी हासिल करने के लिए बेहतरीन प्रयास किया गया जिससे हम बहुत खुश हैं। हमें उम्मीद है कि दोनों ही देश इस टूर्नामेंट का सफल आयोजन कर पाएंगे।" पहले महिला विश्व कप होगा

सोनी CP-V3: राह चलते भी मोबाइल होगा फुल चार्ज 

मोबाइल कंपनी न सिर्फ अपने स्मार्टफोन में ज्यादा पॉवर की बैटरी दे रही है, साथ ही, मोबाइल को कभी भी, कहीं भी राह चलते मोबाइल को चार्ज करने वाले पोर्टेबल चार्जर पर भी ध्यान दे रही हैं। सोनी ने स्मार्टफोन को कभी भी, कहीं भी राह चलते मोबाइल को चार्ज करने के लिए अपना पोर्टेबल चार्जर बाजार में उतारा है। सोनी ने पांच खूबसूरत रंगों और कॉम्पेक्ट डिजाइन के साथ CP-V3 यूएसबी पोर्टेबल चार्जर लॉन्च किया है। इसका वजन 84 ग्राम है हलके वजन के इस यूएसबी पोर्टेबल चार्ज आसानी से कहीं भी लेकर चला जा सकता है। क्या आप जानते हैं ट्विटर के हैशटैग की ताकत तकनीकी रूप से देखें तो इसमें 2,800mAh की पॉवर देने की क्षमता है। ये 1.5A पॉवर आउटपुट देता है, कंपनी का दावा है कि इससे स्मार्टफोन काफी तेजी से चार्ज होता है। खुद इस यूएसबी पोर्टेबल चार्जर को बिजली से पूरी तरह चार्ज होने में 3.5 घंटे का समय लगता है। बाजार में इस चलते-फिरते मोबाइल चार्जर की कीमत 1,590 रुपए तय की गई है।

हादसे में घायल थानेदार की भी मौत

रोहतक। सांपला थाना के अंतर्गत गांव बखेता के पास हुए सड़क हादसे में घायल हुए थानेदार तेजा सिंह की भी दिल्ली ले जाते वक्त बहादुरगढ़ के पास मौत हो गई। पुलिस ने बहादुरगढ़ सिविल अस्पताल में शव का पोस्टमार्टम कराकर उसके परिजनों को सौंप दिया। साथ ही पीजीआई में हवलदार के शव का पोस्टमार्टम हुआ और बाद में शव को परिजनों को सौंप दिया। एसपी ने मृतक के परिजनों को सांत्वना दी। वीरवार शाम को गांव बखेता के पास बस और कार के बीच टक्कर हो गई थी। कार में सवार उपनिरीक्षक तेजा सिंह, एएसआई समुद्र सिंह, हवलदार धर्म सिंह घायल हो गए थे और हवलदार धर्म चंद की मौके पर ही मौत हो गई थी। तेजा सिंह की हालत नाजुक होने के कारण उसे देर शाम पीजीआई से दिल्ली के लिए रेफर किया गया था, परंतु रास्ते में ही उसकी मौत हो गई।

आतंकी टुंडा को दिल्ली से रोहतक लाई पुलिस 

दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल द्वारा रोहतक के किला रोड और सब्जी मंडी में हुए बम धमाकों के आरोपी अब्दुल करीम टुंडा को शुक्रवार को कड़ी सुरक्षा के बीच अदालत में पेश किया। अदालत ने आरोपी को 22 नवंबर को दोबारा पेश करने के आदेश दिए। इससे पहले टुंडा को सोनीपत और पानीपत में भी बम धमाकों के मामले में पुलिस पूछताछ के लिए ला चुकी है।   22 जनवरी 1997 में किला रोड व सब्जी मंडी के पास भी दो धमाके हुए थे। इस मामले में पुलिस ने शहर थाना प्रभारी के बयान पर मोहम्मद अमीर व अब्दुल करीम टुंडा के खिलाफ मामला दर्ज किया था। टुंडा पर साजिश रचने व ब्लास्ट कराने का आरोप है। इस मामले में गिरफ्तार आरोपी ने बताया था कि टुंडा के कहने पर ब्लास्ट किए थे। पिछले दिनों टुंडा की गिरफ्तारी के बाद सोनीपत पुलिस ने 1996 में हुए बम ब्लास्ट के मामले में उसे प्रोडक्शन वारंट पर लिया था। पूछताछ के दौरान खुलासा हुआ था कि रोहतक में हुए ब्लास्ट में भी टुंडा का हाथ है। इस वजह से रोहतक पुलिस ने प्रोडक्शन वारंट हासिल करने के लिए दिल्ली अदालत में याचिका लगाई थी। याचिका पर सुनवाई करते हुए अदालत ने उसे 8 नवंबर को रोहतक अदालत में पेश करने के आदेश दिए थे। शुक्रवार को दिल्ली और रोहतक पुलिस की संयुक्त टीम टुंडा को कड़ी सुरक्षा के बीच रोहतक लेकर पहुंची और उसे सीजेएम अश्वनी कुमार की अदालत में पेश किया। अदालत ने आरोपी को 22 नवंबर को दोबारा पेश करने के आदेश दिए। पूरे देश में फैलाया था आतंक दिल्ली पुलिस के मुताबिक देश भर में 1993, 1996, 1997 और 1998 के धमाकों में टुंडा का हाथ था और उसने ही कॉमनवेल्थ खेलों के दौरान भी दिल्ली में धमाका करने की साजिश रची थी। 17 अगस्त को दिल्ली पुलिस की स्पेशल टीम ने टुंडा को गिरफ्तार किया था। इंद्रलाल मल्होत्रा की दुकान के बाहर हुए थे धमाके रोहतक सब्जी मंडी स्थित इंद्रलाल मल्होत्रा की दुकान के बाहर 22 जनवरी 1997 को धमाका हुआ था। इसी दौरान किला रोड पर भी धमाका हुआ था। इस धमाके में छह लोग घायल हो गए थे। मल्होत्रा ने इस बारे में शिकायत दर्ज कराई थी। बाद में मामले की जांच दिल्ली क्राइम ब्रांच को सौंपी गई थी।

Nov 5, 2013

जुआ खेलते पैंतीस लोग गिरफ्तार 

रोहतक। जिला पुलिस ने अलग-अलग स्थानों से जुआ खेलते 35 युवकों को गिरफ्तार किया। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ जुआं अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर अदालत में पेश किया। अदालत ने आरोपियों को जमानत पर रिहा कर दिया। पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि महम पुलिस ने भिवानी स्टैंड स्थित पार्क से सरेआम जुआं खेल रहे वार्ड नंबर चार महम निवासी गगन उर्फ बंटी और मुरारी लाल उर्फ मंगल को गिरफ्तार किया। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से दो हजार रुपये की नकदी और ताश के पत्ते बरामद किए। महम पुलिस ने हुडा स्थित टाउन पार्क से निदाना टिगरी निवासी महेंद्र, वार्ड नंबर आठ निवासी नीरज, वार्ड नंबर नौ निवासी सुभाष, हरीश उर्फ सोनू को जुआं खेलते गिरफ्तार किया। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से 34 हजार रुपये की नकदी बरामद की। कलानौर पुलिस ने जुआं खेलते मोखरा निवासी प्रेम सिंह, फूल कुमार, सुधीर, बलवान, सिंदर, जिले सिंह, जितेंद्र को 37 हजार एक सौ रुपये की नकदी सहित गिरफ्तार किया। शहर पुलिस ने सहगल डेयरी के पास से किला मोहल्ला निवासी रविंद्र, केवल गंज निवासी अनिल कुमार, परीजी मोहल्ला निवासी अविनाश को 26 हजार 785 रुपये की नकदी बरामद की। शिवाजी कालोनी पुलिस ने नई सब्जी मंडी के पास से गांव ब्राह्मणवास निवासी सज्जन, कच्ची गढ़ी मोहल्ला निवासी प्रवीन, पाडा मोहल्ला निवासी अशोक को 7 हजार रुपये की नकदी सहित गिरफ्तार किया। प्रवक्ता ने बताया कि शहर पुलिस ने राजीव कालोनी से जुआं खेलते रामनगर कालोनी निवासी राजेश, शिमली निवासी वीरेंद्र, खिडवाली निवासी दीपक, सुमेर उर्फ शमशेर को 68 हजार 760 रुपये की नकदी सहित गिरफ्तार किया। अपराध जांच शाखा पुलिस ने निगाना निवासी बलवान के मकान पर छापा मारकर से कलानौर निवासी अनिल, महाबीर कालोनी निवासी अजय, तेज कालोनी निवासी जितेंद्र, कच्ची गढ़ी मोहल्ला निवासी प्रदीप, सिंहपुरा निवासी वजीर को एक लाख बीस हजार रुपए की नकदी सहित जुआं खेलते गिरफ्तार किया। कलानौर पुलिस ने निगाना रोड पार्क से सरेआम जुआ खेल रहे डीघल निवासी नरेंद्र, सैंपल निवासी पंकज, अशोक, निगाना निवासी सुखबीर, कलानौर निवासी जोगिंद्र, गुलशन को 40 हजार रुपये की नकदी सहित गिरफ्तार किया।

बंधक बनाकर स्कार्पियो लूटी 

रोहतक। सांपला थाना के अंतर्गत गांव कसरैंटी से तीन युवक हथियार दिखाकर चालक को बंधक बनाकर स्कार्पियो गाड़ी लूटकर फरार हो गए। घटना के बाद पुलिस ने क्षेत्र की नाकेबंदी कर वाहनों की जांच पड़ताल की, परंतु लुटेरों के बारे में कोई सुराग नहीं मिला। वीरवार रात गोपाल कालोनी सोनीपत निवासी राजबीर सिंह अपनी स्कार्पियो को लेकर सांपला जा रहा था। जब वह गांव कसरैंटी के पास पहुंचा तो तीन युवकों ने सड़क के बीचोंबीच खडे़ होकर गाड़ी को रुकवा लिया। कार रुकते ही युवकों ने चालक को हथियारों के बल पर बंधक बना लिया और उसे जान से मारने की धमकी देते हुए उससे पांच हजार रुपये, मोबाइल फोन और कार लूटकर फरार हो गए।

जिस रिपोर्ट पर हुई 'सोने की खुदाई', वही गड़बड़ निकली! 

उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में 'सोने की खुदाई' के लिए एएसआई ने जीएसआई की जिस रिपोर्ट को आधार बनाया, उसी से छेड़छाड़ की बात सामने आई है। भारतीय भौगोलिक सर्वे (जीएसआई) के लखनऊ सेंटर के जियोफिजिक्स डिविजन के विशेषज्ञों ने यह जानकारी दी है। साधु शोभन सरकार का कहना था कि उन्होंने ख्वाब में राजा राव राम बक्‍श सिंह किले के नीचे खजाना गड़ा देखा है। इसी सपने को आधार बनाते हुए एक हजार टन सोने की तलाश में वहां खुदाई की गई, जो 18 अक्टूबर को शुरू हुई। हालांकि, अब तक कुछ हाथ नहीं लगा है। शुरुआती रिपोर्ट तैयार करने वाले जीएसआई के लखनऊ सेंटर के विशेषज्ञों का कहना है कि उन्होंने अपनी रपट में न तो सोने का जिक्र किया था और न ही खुदाई की सिफारिश की थी। हालांकि, उन्होंने यह जरूर बताया कि रिपोर्ट में कंडक्टिव मेटेरियल की मौजूदगी की बात जरूर कही गई थी। उनके मुताबिक सभी धातुएं कंडक्टर होती हैं, लेकिन सभी कंडक्टर धातु नहीं होते। कंडक्टिव मेटेरियल चिकनी मिट्टी (क्ले) और ब्राइन (नमक का पानी) का मिश्रण भी हो सकता है, जो नदी किनारे पाया जाना आम बात है। 31 अक्टूबर को रिटायर होने वाले पूर्व जीएसआई महानिदेशक ए सुंदरमूर्ति ने कहा, "हमारी रिपोर्ट में केवल कंडक्टिव मेटेरियल होने की बात कही गई थी।" उन्होंने बताया कि शुरुआती रिपोर्ट में खुदाई की सलाह भी नहीं दी गई थी। जीएसआई के एक वरिष्ठ अफसर ने बताया कि अब तक ऐसी कोई तकनीक नहीं मिली, जो धातुओं की मौजूदगी का अंदाजा दे सके। एक अधिकारी ने नाम न जाहिर करने की शर्त पर बताया, "सोना मिलने का सवाल ही नहीं था।"

450 करोड़ के मिशन मंगल से जुड़ी 10 हैरत भरी बातें

मंगलयान यानी हमें मंगल ग्रह तक पहुंचाने वाला जरिया। चेन्नई से 80 किलोमीटर दूर श्रीहरिकोटा से करीब ढाई बजे इतिहास लिखे जाने की तैयारी है। और यही यान हमें लाल ग्रह तक ले जाएगा। यूं तो मिशन मार्स को लेकर बीते कई दिनों से चर्चा जारी है, लेकिन आज अंतरिक्ष विज्ञानियों समेत पूरे देश के लिए अहम दिन है। आइए जानते हैं कि इस मिशन की कामयाबी के क्या मायने हैं और इसका मतलब क्या है। 1. मंगलयान। हिंदी के इस शब्द के मायने हैं, हमें मंगल तक ले जाने वाला यान। तमिलनाडु की राजधानी से 80 किलोमीटर दूर श्रीहरिकोटा से इसे 2.38 मिनट पर भेजे जाने की तैयारी है। 2. भारत लाल ग्रह तक पहुंचने की कोशिश करने वाला दुनिया का केवल चौथा मुल्क है। हमसे पहले सोवियत संघ, अमेरिका और यूरोप यह कारनामा कर चुके हैं। 3. यह देश का पहला मंगल मिशन है और कोई भी मुल्क पहली कोशिश में कामयाब नहीं रहा है। दुनिया ने मंगल तक पहुंचने की 40 कोशिश की, लेकिन इनमें से 23 बार वह नाकाम रही। जापान को 1999 और 2011 में चीन को भी असफलता का मुंह देखना पड़ा। 4.स्वदेशी स्तर पर तैयार पोलर सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल (पीएसएलवी) का नया वर्जन, एक्सटेंडेड रॉकेट के साथ मंगलयान को पृथ्वी के आखिरी छोर तक ले जाएगा। इसके बाद सैटेलाइट के ‌थ्रस्टर छह छोटे फ्यूल बर्न वाली प्रक्रिया शुरू करेंगे, जो उसे और बाहरी परिधि में ले जाएगा। और आखिरकार गुलेल जैसी प्रक्रिया से इसे लाल ग्रह की ओर रवाना किया जाएगा। 5. मंगलयान के सफर से जुड़ा कार्यक्रम भी दिलचस्प है। 300 दिन और 78 करोड़ किलोमीटर का सफर कर वह ऑरबिट मार्स में पहुंचेगा और वहां के वातावरण का अध्ययन करेगा। 6. यह यान जब ग्रह के सबसे करीब होगा, तब इसकी दूरी उसके सरफेस से 365 किलोमीटर होगी। और जब सबसे दूर होगा, तो दोनों के बीच फासला 80 हजार किलोमीटर होगा। 7. सवाल उठता है कि इतना खर्च करने के बाद हमें हासिल क्या होगा? मंगलयान पर लगने वाले पांच सौर ऊर्जा से चलने वाले उपकरण यह पता लगाएंगे कि मंगल पर मौसम की प्रक्रिया किस तरह काम करती है। साथ ही वह इस बात की तफ्तीश भी करेंगे कि उस पानी का क्या हुआ, जो काफी पहले मंगल ग्रह पर बड़ी मात्रा में हुआ करता था। 8. मंगलयान मंगल ग्रह पर मीथेन गैस की भी तलाश भी करेगा, जो पृथ्वी पर जीवन को जन्म देने वाली प्रक्रिया में अहम रसायन रहा है। इससे भौगोलिक प्रक्रियाओं को जानने में मदद मिलेगी। 9. कोई भी उपकरण इन सवालों का जवाब देने लायक पर्याप्त आंकड़े नहीं भेजेगा, लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि इन डाटा से यह पता लगेगा कि ग्रह भौगोलिक रूप से कैसे विकसित हुए हैं? ऐसी कौन सी स्थितियां हैं, जो जीवन को जन्म देती हैं और ब्रह्मांड में और जीवन कहां हो सकता है? 10. 2008-09 में इसरो ने चंद्रयान 1 लॉन्च किया था, जिसने पता लगाया कि चांद पर पानी रहा है। मंगलयान को उसी टेक्‍नोलॉजी के आधार पर तैयार किया गया है, जिसे हमने चंद्रयान मिशन के दौरान टेस्ट किया था।

कोलकाता में किस बात पर भड़क गए तेंदुलकर? 

मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर बुधवार को आखिरी बार कोलकाता के ईडन गार्डंस में खेलने उतरेंगे पर वह इस समय बेहद नाराज हैं। वेस्टइंडीज के खिलाफ करियर के अपने 199वें टेस्ट में हिस्सा लेने कोलकाता आए सचिन तेंदुलकर क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बंगाल (कैब) के अधिकारियों द्वारा इस टेस्ट की ‘अत्यधिक’ तैयारियों से निराश हैं। हालांकि कैब के दो संयुक्त सचिव के बयान इस दिशा में विरोधाभासी लग रहे हैं। बच्चों ने किया स्वागत सुजान मुखर्जी जहां कह रहे हैं कि इस मैच को जिस तरह से हौवा बना दिया गया है उससे सचिन परेशान हैं तो वहीं दूसरी ओर सुबीर गांगुली का कहना है कि ऐसा कुछ भी नहीं है और सब कुछ ठीकठाक चल रहा है।   सोमवार सुबह जब टीम इंडिया यहां पहुंची तो बस से सबसे पहले सचिन तेंदुलकर ही उतरे। सचिन के स्वागत के लिए करीब 80 स्कूली बच्चे मौजूद थे जिन्होंने सचिन की फोटो वाली टी-शर्ट पहन रखी थी। मोम की प्रतिमा साथ ही टी-शर्ट के पीछे 199 लिखा हुआ था और यह बच्चे बस से लेकर ड्रेसिंग रूम तक कतारबद्ध खड़े थे। इतना ही नहीं कैब ने ड्रेसिंग रूम के दरवाजे पर सचिन की जैसी प्रतिमा मैडम तुसादे म्यूजियम में लगी हुई है वैसी ही प्रतिमा यहां पर भी लगाई है लेकिन इसमें सचिन का चेहरा साफ नहीं है। सूत्रों की मानें तो सचिन हमेशा से कह रहे हैं कि इस मैच का इतना हौवा नहीं बनाया जाए। वह खेल से बढ़ कर नहीं हैं और उनके साथ ही टीम के 14 और खिलाड़ी भी आए हुए हैं। तामझाम से खुश नहीं मास्टर संयुक्त सचिव मुखर्जी ने कहा, "मैंने खुद सुना है कि इस तरह के तामझाम को लेकर सचिन खुश नहीं हैं। उन्होंने इसी कारण भवानीपुर टेंट में प्रस्तावित फोटो शूट को भी स्थगित कर दिया।" दूसरी ओर, संयुक्त सचिव गांगुली ने कहा, "जिस तरह का वृहत आयोजन यहां किया गया है उससे सचिन और टीम के बाकी खिलाड़ी बेहद खुश हैं।" हालांकि सचिन ने उनकी प्रतिमा बनाने वाले आसनसोल के कलाकार के कहने पर प्रतिमा के साथ खड़े होकर एक फोटो जरूर खिंचवाई।

लालू बन गए माली, दिहाड़ी महज 14 रुपए 

चारा घोटाला मामले में झारखंड की बिरसा मुंडा जेल में सजा काट रहे लालू प्रसाद यादव, अब 14 रुपए रोज की तनख्वाह पर जेल में माली का काम कर रहे हैं। जेल वार्डन ने लालू प्रसाद यादव को माली का यह काम एक हफ्ते पहले ही सौंप दिया था लेकिन लालू यादव ने यह काम 30 अक्टूबर को अपनी जमानत याचिका खारिज होने के बाद शुरू किया। जेल में तीन अन्य लोगों को पढ़ाने का काम सौंपा गया है, जिसमें तीन आईएएस और एक आईआरएस शामिल हैं। जानकारी के मुताबिक लालू यादव अपने काम से खुश हैं। और बाकी के मालियों को काम करने के निर्देश देते रहते हैं। उन्हें यह काम सप्ताह में 7 दिन करना होगा। बिरसा मुंडा जेल में 52 एकड़ की जमीन पर गार्डन बना हुआ है जहां बड़े-बड़े लॉन और सब्जियों की क्यारियां बनाई गई हैं। लालू के साथ काम करने के लिए जदयू के पूर्व रेलवे मिनिस्टर जगदीश शर्मा को लालू के सहयोगी के रूप में नियुक्त किया गया है।

पहली बार मिलिए आमिर की बड़ी हो चुकी बेटी से 

आमिर खान की बेटी बड़ी हो गई है। हम आपको उसकी पहली झलक दिखा रहे हैं। वह दीवाली में आमिर के घर देखी गई। 1965 में जन्में आमिर खान ने अपनी पहली शादी रीना दत्त से की थी। रीना से आमिर को एक बेटा जुनैद और एक लड़की इरा हुई। जुनैद इन दिनों आमिर खान की मुख्य भूमिका वाली फिल्म पीके में राजकुमार हीरानी को असिस्ट कर रहे हैं। उनकी तस्वीरें भी जब तब मीडिया में आया करती थीं। लेकिन बेटी इरा को लोगों ने बहुत कम ही सार्वनजिक रूप से देखा। दीवाली पर आमिर खान के घर हुई सेलिब्रेशन पार्टी में लोगों ने इरा को पहली बार देखा। इरा इस पार्टी में हरी साड़ी पहन कर आई थी। इरा के नैन नक्‍श बिल्कुल अपनी मां रीना दत्ता से मिलते दिखे। इरा अभी अपनी पढ़ाई कर रही है।

क्यूरेटर ने रोहित का दिल तोड़ा, पिच पर जाने से रोका

जब कभी भी कोलकाता में कोई मैच होता है तो पिच क्यूरेटर प्रवीर मुखर्जी किसी ने किसी कारणवश मीडिया की सुर्खियों में आ जाते हैं। इस बार उन्होंने टीम इंडिया के स्टार बल्लेबाज रोहित शर्मा को पिच देखने से रोककर एक नए विवाद को जन्म दे दिया है। सामान्यतया अभ्यास के दौरान दोनों टीम के खिलाड़ियों की इच्छा होती है कि वह पिच देखे। हालांकि मुखर्जी सभी को पिच नहीं देखने देते। मुखर्जी ने ऐसा ही कुछ ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हालिया संपन्न वनडे सीरीज के हीरो रहे रोहित शर्मा के साथ किया और उन्हें पिच देखने से रोक दिया। रोहित शर्मा जब पिच देखने पहुंचे तो वह चारों ओर से घिरा हुआ था और वहां लगे बोर्ड पर लिखा था, ‘केवल कप्तान और कोच ही इसके अंदर आ सकते हैं।’ इसके बाद वहां पहुंचे रोहित को मुखर्जी ने अंदर जाने से रोक दिया। वनडे क्रिकेट में टीम इंडिया के ओपनर रोहित ने हालांकि उनसे किसी तरह की बहस तो नहीं की लेकिन वह उनके बर्ताव से नाखुश जरूर दिखे।

डेबिट-क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करने वालों को जरूरी खबर 

यदि आपने पिछले एक साल में अपने क्रेडिट कार्ड से विदेश में खरीदारी की है, तो दिसंबर से आपको उसके भारत में इस्तेमाल के समय पिन नंबर डालना अनिवार्य होगा। इसी तरह देश में डेबिट कार्ड या एटीएम कार्ड से की जाने वाली खरीदारी पर भी दिसंबर से पिन नंबर लागू करने की व्यवस्था अनिवार्य होने जा रही है। भारतीय रिजर्व बैंक इस व्यवस्था के जरिए क्रेडिट या डेबिट कार्ड के इस्तेमाल में होने वाली धोखाधड़ी में कमी लाना चाहता है। भारतीय रिजर्व बैंक के अगस्त 2013 तक के आंकड़ों के अनुसार पीओएस (प्वांइट ऑफ सेल) मशीन के जरिए क्रेडिट कार्ड से करीब 1,074 करोड़ रुपये की खरीदारी हुई है। जबकि एटीएम या डेबिट कार्ड से 801 करोड़ रुपये की खरीदारी उपभोक्ताओं द्वारा की गई है। ऐसे में देश में बढ़ते कार्ड के इस्तेमाल से उस पर जोखिम बढ़ता जा रहा है। इसी के तहत रिजर्व बैंक ने बैंकों को जून में इस व्यवस्था के लिए ढांचागत तैयारी करने के निर्देश दिए थे। एचडीएफसी बैंक के सीनियर एक्जीक्यूटिव वाइस प्रेसिडेंट पराग राव के अनुसार ‘एक दिसंबर से पिन कार्ड की अनिवार्यता लागू होनी है। जिसके लिए एचडीएफसी बैंक पूरी तरह तैयार है। जहां तक क्रेडिट कार्ड के इस्तेमाल पर पिन की अनिवार्यता की बात है , तो यह उन कार्ड पर इस्तेमाल होगा, जिनके जरिए विदेश में ट्रांजैक्शन किया गया है’। भारतीय रिजर्व बैंक के आंकड़ों के अनुसार अगस्त 2013 की अवधि तक 4.1 करोड़ बार क्रेडिट कार्ड इस्तेमाल हुए हैं। इसी तरह 5.54 करोड़ बार एटीएम या डेबिट कार्ड के इस्तेमाल किए गए हैं। कार्ड के बढ़ते इस्तेमाल को देखते हुए अब सभी बैंकों को यह व्यवस्था एक दिसंबर से लागू करनी है। हाल ही में रिजर्व बैंक ने सितंबर में बैंकों को निर्देश में कहा है कि नई व्यवस्था को लागू करने में अब कोई छूट नहीं दी जाएगी।

गूगल की नई सर्विस! सीखें-सीखाएं पैसे भी कमाएं 

आमतौर पर हमको जब भी कुछ जानने, पढ़ने और समझने की इच्छा होती है तो हम सीधे गूगल बाबा से संपर्क करते हैं। किसी भी विषय पर गूगल सर्च करने पर कई सारे लिंक दिखाई देते हैं। जिनको हम खुद से पढ़कर समझने की कोशिश करते हैं। लेकिन गूगल ने अब एक ऐसी सर्विस की शुरुआत की है जिसके जरिए न सिर्फ आपको विषय की जानकारी मिलेगी, साथ ही अगर आपके मन में उस विषय के संबंध कोई सवाल है तो इस पर आपको एक्सपर्ट लोगों की लाइव राय भी मिलेगी। एप्पल vs गूगल! कौन सा है पैसा वसूल स्मार्टफोन गूगल ने हेल्पआउट्स नाम से एक नई सर्विस शुरू की है। गूगल हेल्पआउट्स के जरिए आप किसी विषय के एक्सपर्ट से लाइव विडियो पर कुछ पूछ और सीख सकते हैं। फिलहाल अभी इस सर्विस के ‌जरिए आप 8 कैटिगरी के अंतगर्त ही सवाल-जवाब कर सकते हैं - आर्ट एंड म्यूजिक कंप्यूटर एंड इलेक्ट्रॉनिक्स कुकिंग एजुकेशन एंड करियर्स फैशन एंड ब्यूटी फिटनेस एंड न्यूट्रिशन हेल्थ होम एंड गार्डन 2,599 रुपए का आईफोन, क्या फायदे का है ये एक तरह से ये एक ट्रेनिंग सेंटर है यहां आप एक म्यूजिक एक्सपर्ट से म्यूजिक सीख सकते है, कप्यूटर्स को अच्छे से समझ सकते है वगैराह सीख सकते हैं। पैसे भी कमाएं इस सर्विस की एक और खास बात ये है कि अगर आप किसी विषय में एक्सपर्ट है और किसी मुद्दे पर खास जानकारी रखते हैं, तो आप भी उसे यहां शेयर सकते हैं और उसके जरिए पैसे भी कमा सकते हैं। यह सर्विस फ्री और पेड दोनों तरह की है। गूगल ने इस सर्विस पर 'मनी बैक गारंटी' भी दी है। अगर आपने 'हेल्पआउट्स' के लिए कुछ भुगतान किया है और 'हेल्पआउट्स' से खुश नहीं है, तो अपने पैसे वापस मांग सकते हैं। ‌कैसे करें इस्तेमाल कोई भी यूजर्स इस सर्विस को सर्च और ब्राउजर सकता है। आप एक्सपर्ट से गूगल हैंगआउट के जरिए बात-चीत कर सकते हैं। किसी भी एक्सपर्ट का चयन आप रेटिंग, प्राइस, रिव्यू और क्वालिफिकेशन के आधार पर कर सकते हैं।

कब सबसे ज्यादा झूठ बोलता है आपका साथी? 

अगर आपको ऐसा लगता है कि आपका साथी आपसे कहीं कुछ छिपा रहा है या झूठ बोलता है तो यह अंदाजा लगाना मुश्किल नहीं है कि वह कब झूठ अधिक बोल सकता है। फेसबुक पर करनी है फ्रेंडशिप तो ऐसे परखें लोग हाल में एक शोध में माना गया है कि लोग सबसे अधिक झूठ दोपहर में बोलते हैं जबकि वे सबसे अधिक पारदर्शी सुबह के समय होते हैं। पुरुषों से इस मामले में बेहतर हैं महिलाएं हॉवर्ड यूनिवर्सिटी की शोधकर्ता मरियम कौचकी के अनुसार, ''शोध में हमने पाया कि भरपूर नींद के बाद सुबह के समय आत्मनियंत्रण और आत्मविश्वास अधिक होता है और दिन बढ़ते-बढ़े यह कमजोर होता जाता है। यही वजह है कि लोग धोखा देने और झूठ बेलने जैसे काम सुबह के बजाय दोपहर में अधिक करते हैं।'' इतना ही नहीं, शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन के आधार पर यह भी माना है कि सुबह आठ बजे से 12 बजे के बीच में लोग अधिक ईमानदार होते हैं जबकि बेइमानी की आशंका 12 से 6 बजे के भीतर लोगों के मस्तिष्क में अधिक प्रबल हो सकती है। शोध के दौरान प्रतिभागियों का दिन के अलग-अलग समय मनोवैज्ञानिक परीक्षण किया गया है।

Nov 1, 2013

मैं ड्रैकुला नहीं, जैसा मुझे दिखाया जा रहा हैः आसाराम 

रेप के आरोपों में फंसे आसाराम ने सर्वोच्च से शिकायत की है कि उनकी छवि बिगाड़ी जा रही है। इसके लिए उन्होंने मीडिया कवरेज पर रोक लगाने की मांग की थी। आसाराम ने शुक्रवार को अदालत में कहा कि उन्हें बच्चों का खून पीने वाले ड्रैकुला की तरह पेश किया जा रहा है और आप‌त्तिजनक खबरें प्रसारित हो रही हैं। उन्होंने मीडिया पर उनके मामले की कवरेज पर रोकने का आदेश देने की मांग की थी लेकिन न्यायालय ने ऐसा कोई आदेश देने से इंकार कर दिया। उन्हें किसी और मंच पर जाने की भी सलाह दी। आसाराम के वकील ने न्यायाधीश पी. सतशिवम की पीठ के सामने कहा कि आसाराम को ड्रैकुला के रूप में पेश किया जा रहा है। इस पर न्यायाधीश ने कहा कि न्यायालय मीडिया को पुलिस और अन्य स्रोतों से मिली रही खबरों को प्रकाशित करने से नहीं रोक सकता। न्यायालय में आसाराम के वकील ने दलील दी कि मीडिया में यह खबर दिखाई जा रही है कि उनकी पत्नी और बेटी उनके पास लड़कियां भेजती थीं। इसके जवाब में न्यायालय ने कहा कि इनका इलाज कुछ और है और सर्वोच्च न्यायालय ही एकमात्र रास्ता नहीं है। कहीं और कर सकते हैं शिकायत न्यायालय ने कहा कि वह अपनी शिकायत लेकर किसी और फोरम के पास भी जा सकते हैं। इसके बाद आसाराम के वकील ने याचिका वापस ले ली। इससे पहले वकील ने यह दलील दी थी कि वह पूरे मीडिया कवरेज पर रोक लगाने की मांग नहीं कर रहे लेकिन दो प्रमुख चैनल एसे हैं जो नियमित तौर पर आसाराम के खिलाफ आपत्तिजनक खबरें प्रसारित कर रहे हैं। आसाराम अपने जोधपुर आश्रम में नाबालिग से दुष्कर्म के मामले में आरोपी है। उन पर और उनके बेटे नारायण साईं पर सूरत की दो सगी बहनों ने भी कई सालों तक दुष्कर्म करने का आरोप लगाया है।

मोदी की रैली से पहले क्यों चिपकाए आतंकी के पोस्टर? 

नरेंद्र मोदी की हुंकार रैली से पहले पटना में हुए सिलसिलेवार बम धमाकों से सबक लेते हुए यूपी पुलिस ने मोदी की बहराइच रैली को लेकर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए हैं। 9 नवंबर को होने वाली इस रैली के लिए बहराइच में कई सार्वजनिक जगहों पर सं‌दिग्‍ध आतंकी तहसीन अख्तर के पोस्टर चिपकाए गए हैं। पटना धमाके का संदिग्‍ध तहसीन अख्तर इंडियन मुजाहिदीन के प्रमुख यासीन भटकल का साथी है। यासीन भी भटकल की तरह 2010 के वाराणसी धमाके में आरोपी है। बहराइच के एसपी मोहित गुप्ता ने कहा, 'पटना धमाके मामले में तहसीन अख्तर का नाम सामने आया है। ऐसे में हमने कई जगहों पर सुरक्षा के लिए अख्तर के पोस्टर चिपकाए हैं। ये पोस्टर बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन, बाजार, सिनेमा हॉल और सरकारी कार्यालयों पर चिपकाए गए हैं।' इसके अलावा रैली स्‍थल (सुखदेव मैदान) पर प्रोविंसल आर्म्ड कंस्टबलरी (पीएसी) के जवान भी तैनात किए जाएंगे। सुखदेव मैदान पर काम करने वाले सभी मजदूरों की पहचान सत्यापित कर उन्हें पहचान पत्र दिए गए हैं। साथ ही रैली स्‍थल और अन्य जगहों पर सीसीटीवी कैमरे भी लगाए जाएंगे। स्‍थानीय भाजपा नेता और विधायक मुकुट बिहारी वर्मा ने कहा कि 16 मजदूरों और करीब आधा दर्जन ठेकेदारों को पहचान पत्र दिए गए हैं। वैसे भी बहराइच नेपाल से सटा इलाका है और बेहद संवेदनशील माना जाता है। इस रैली में विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के हजारों कार्यकर्ता और अयोध्या से साधु-संतों के आने की उम्मीद है।

उड़ते व‌‌िमान में सांप देख या‌त्रियों के छूटे पसीने 

सांप को देखकर अच्छे अच्छों के पसीने छूट जाते और जब यह भयावह जीव विमान में दिख जाए तो यात्रियों की हालत का अंदाजा खुद ब खुद लगाया जा सकता है। इजरायल से लंदन जा रहे यात्रियों ने जब विमान में एक सांप को देखा तो उनके पसीने छूट गए। दरअसल विमान में एक यात्री चोरी छिपे एक सांप लेकर चढ़ गया। यात्री ने इजीजेट की इस उड़ान में सांप को एक कार्ड बोर्ड के बक्से में रख दिया। विमान के उड़ान भरने के बाद चालक दल के सदस्यों को विमान में सांप होने के बारे में पता चला और इसके बाद इसकी सूचना बेडफोर्डशाइर पुलिस को दी गई। इसके बाद विमान के लंदन के लयुटोन हवाई अड्डे पहुंचते ही पुलिस को बुलाया गया। विमान में सांप की मौजूदगी जानकार यात्र‌ियों के होश उड़ गए। हैरानी की बात ये थी कि एक व्यक्ति हवाई अड्डा सुरक्षा को भेदता हुआ विमान में सांप लेकर कैसे चढ़ गया। इस बीच इजीजेट की प्रवक्ता ने कहा कि विमान में यह सांप एक बक्से में रखा रहा और यात्रियों को इससे कोई खतरा नहीं था। उन्होंने कहा हमने इस मुद्दे को हवाई अड्डे के अधिकारियों के समक्ष उठाया है कि एक सांप का सुरक्षा जांच के दौरान पता क्यों नही चला। यात्रियों की सुरक्षा हमारी सबसे पहली प्राथमिकता है।

यहां मोटे होने पर बन जाते हैं 'हीरो' 

अक्सर मोटी काया वाले लोग खुद को उपेक्षित महसूस करते हैं और पतला होने के कई तरीके अपनाते हैं लेकिन एक जगह ऐसी भी है जहां मोटे होने पर हीरो का खिताब मिलता है। लोग मोटापे के लिए जीतोड़ मेहनत करते हैं। इथोपिया के बोडी आदिवासियों में एक प्रतियोगिता आयोजित की जाती है जिसमें प्रतियोगियों को छह महीने के अंदर मोटा होना होता है। इसके बाद सबसे मोटे व्यक्ति को विजेता बनाया जाता है। विजेता को कोई ईनाम नहीं मिलता बल्कि उसे पूरी जिंदगी के लिए हीरो का खिताब दे दिया जाता है। इस प्रतियोगिता में हर घर से एक अविवाहित युवक शामिल हो सकता है। प्रतियोगिता के अंतिम दिन से छह महीने पहले तक प्रतियोगियों को एक अलग जगह रहना होता है। उसे कहीं और जाने और शारीरिक संबंध बनाने की भी मनाही होती है। प्रतियोगी मोटा होने के लिए गाय का खून और दूध मिलाकर पीते हैं। उन्हें दिन में दो लीटर तक यह मिश्रण पीना होता है। गांव की महिला उन तक खाना पहुंचाती है। अंतिम दिन सभी प्रतियोगी एक पवित्र जगह पहुंचते हैं जहां उन्हें सबके सामने चलकर अपना मोटापा दिखाना होता है, सबसे ज्यादा मोटे व्यक्ति को विजेता चुन लिया जाता है। इस दौरान कुछ युवक तो इतने मोटे हो जाते हैं कि उनके लिए चलना भी मुश्किल हो जाता है। जीतने के बाद युवक कुछ समय तक खान-पान ठीक रखकर अपना वजन घटाता है और सामान्य जिंदगी जीने लगता है। फिर घर का कोई नया सदस्य इस प्रतियोगिता में भाग लेता है।

सिर्फ पानी से हो गई दस साल जवां! 

खूबसूरत चेहरे और जवां दिखने के लिए लोग कई कॉस्मेटिक्स प्रॉडक्ट्स पर पैसा और समय दोनों खर्च करते हैं लेकिन अमेरिका में एक महिला ने यह कमाल केवल पानी से कर दिखाया। डेली मेल की खबर के मुताबिक एक महिला ने दावा किया है कि वह रोजाना तीन लीटर पानी एक महीने तक पीकर अपनी उम्र से दस साल तक कम लगने लगी। महिला कहती हैं कि चार हफ्तों तक लगातार यह नियम अपनाकर उनकी जिंदगी बदल गई। 42 वर्षीय सारा ने हर हफ्ते के हिसाब से अपना अनुभव भी साझा किया है। सारा बताती हैं कि उनमें और ऊंट में एक बड़ी समानता है। उन्हें लगता है कि वो बिना पानी पीए लंबे समय तक रह सकती हैं। सारा पूरे दिन में सिर्फ तीन ग्लास पानी पीती थीं और उन्हें लगता था की यह काफी है। कई सालों बाद उन्हें इसके बुरे परिणाम भुगतने पड़े और सिर दर्द व अपच जैसी दिक्कतें होने लगीं। तब सारा ने न्‍यूरोलॉजिस्‍ट और न्यूट्रीशनिस्ट से सलाह ली तो उन्हें शरीर में पानी की कमी को दूर करने के लिए कहा गया। डॉक्टर्स ने उन्हें एक दिन में तीन लीटर पानी पीने की सलाह दी। सारा ने इसे अपनाने का फैसला किया और परिणामों का इंतजार करने लगीं। पहला सप्ताह सारा ने बताया कि पहले हफ्ते में रोज तीन लीटर पानी पीने से उन्हें सिरदर्द कम रहने लगा। उनके शरीर से टॉक्सिक पेशाब के जरिए बाहर निकले रहे थे। वह कई सालों से सुबह योगा तो कर रही थीं लेकिन पानी की कमी से उनका शरीर सख्त हो गया था। अब फिर से शरीर में लचीलापन आ गया। दूसरा सप्ताह धीरे-धीरे उनके चेहरे का रंग भी सुधरने लगा। पहले उनके चेहरे पर झुर्रियां थीं जो अब हल्की हो गई थीं। चेहरे के दाने, आंखों के नीचे काले घेरे कम हो गए थे। सिरदर्द बिल्कुल खत्म हो गया और वजन भी घटने लगा। तीसरा सप्ताह तीसरा हफ्ता खत्म होते-होते सारा के चेहरे की झुर्रियां और काले घेरे पूरी तरह गायब हो चुके थे। यहां तक कि सुबह उठने पर उनकी आंखें रूखी होती थीं और मलनी पड़ती थीं लेकिन अब वो भी बंद हो गया था। सारा की एक ब्यूटी थेरेपिस्ट दोस्त ने बताया कि पानी उनकी त्वचा को रीजनरेट करने में मदद कर रहा है। चौथा सप्ताह सारा बताती हैं कि चार हफ्तों बाद उनके चेहरे पर इतने अधिक बदलाव थे कि भरोसा करना मुश्किल था। वह बिल्कुल अलग दिख रही थीं। उनकी त्वचा मुलायम और चमकदार हो गई थी। साथ ही वजन घट गया था और फिट महसूस कर रही थीं। इतने बेहतर परिणामों के बाद सारा अब सारी जिंदगी इसी रूटीन में पानी पीना चाहती हैं। हालांकि वह बताती हैं कि पहले उनके परिजन इतना ज्यादा पानी पीने से उनके लिए परेशान थे लेकिन अब कोई फिक्र नहीं है।

रामायण को हुए 25 साल, क्या थी खासियत 

टीवी पर धूम मचाने वाले धारावाहिक रामायण को प्रसारित हुए 25 साल हो गए। यह धारावाहिक आज भी याद किया जाता है। हिंदू पौराणिक कथा 'रामायण' पर मशहूर निर्माता निर्देशक रामानंद सागर 1987 में दूरदर्शन पर धाराविक 'रामायण' लेकर आए। टीवी पर इससे पहले रामानंद सागर 'विक्रम और बेताल' नाम का एक धाराविहक बना चुके थे। इसमें विक्रमादित्य की भूमिका निभाने वाले अरुण गोविल को उन्होंने 'रामायण' में राम के केंद्रीय पात्र के रूप में चुना। जहां अरुण गोविल ने राम का किरदार निभाया वहीं दीपिका चिखलिया बनीं सीता। नटराज स्टूडियो में एक फ़िल्म के ऑडिशन के दौरान रामानंद सागर के बेटे प्रेम सागर ने दीपिका को देखते ही रामायण की सीता के लिए चुन लिया था। निर्देशक रामानंद सागर, रामायण बनाने का प्रस्ताव लेकर जिस भी निर्माता के पास गए उसने उन्हें वापसी का रास्ता दिखा दिया। टीवी के लिए 'रामायण' बनाने का सौदा किसी को फ़ायदा का नहीं लगा। 'रामायण' टीवी पर आने वाला ऐसा इकलौता धारावाहिक बना जिसे 45 मिनट का टीवी स्लॉट मिला. जबकि उन दिनों दूरदर्शन पर सिर्फ आधे घंटे और एक घंटे के स्लॉट ही कार्यक्रमों को मिला करते थे।

होने वाले दूल्हों को मल्लिका ने किया लिपलॉक

मल्लिका शेरावत ने एक बार फिर सनसनी फैलाने वाला काम किया है। राष्ट्रीय चैनल पर एक पुरुष के सा‌थ हॉटलिप लॉक करके। लाइफ ओके पर प्रसारित द बैचलरेट इंडिया मरे ख्यालों की मल्लिका के प्रतियोगी विजय के साथ मल्लिका ने खुलेआम लिपलॉक किया है। गौरतलब है कि ये रिएलिटी शो प्राइम टाइम में प्रसारित हो रहा है जिसमें अब मल्लिका ने मर्यादा को तार-तार कर दिया है। अभी हाल ही में शो में मल्लिका के माता-पिता ने भी भाग लिया था। जिसमें उनके पिता मल्लिका से ये वादा लेकर गए थे कि वो कोई भी ऐसा काम नहीं करेंगी जो मर्यादा के खिलाफ हो। लेकिन मल्लिका ने वो कर के दिखा ही दिया जिसके लिए उनकी पहचान है। वैसे इस शो को जितनी जोश से लॉंच किया गया था वैसा रिस्पांस नहीं मिला। टीआरपी की रेस में ये शो कुछ खास नहीं कर पा रहा है। शायद इसी वजह से निर्माता अब मल्लिका की असली इमेज को भुनाने की कोशिश कर रहे हों।

गूगल ग्लास को पहनकर कार चलाई तो क्या होगा

कैलीफ़ोर्निया की एक महिला का गूगल ग्लास पहन कर गाड़ी चलाने पर चालान कर दिया गया। तीस अक्तूबर को तेज़ गति से और चश्मा पहनकर गाड़ी चलाते समय अबादेई का चालान कर दिया गया। अबादेई पर कैलीफ़ोर्निया का क़ानून तोड़ने का आरोप है, जिसके तहत ड्राईविंग करते समय टीवी देखने पर रोक है। अबादेई अब इसको लेकर क़ानूनी कार्रवाई करने पर विचार कर रही हैं। उनका कहना है कि जब वह गाड़ी चला रही थीं उस समय उनका चश्मा बंद था। एप्पल का दिवाली तोहफा, आईफोन महज 2500 में! जबकि अबादेई अपना अनुभव बांटने के लिए गूगल प्लस नेटवर्क पर अपने पन्ने का इस्तेमाल कर रही है, साथ ही उन्होंने अपने चालान की तस्वीर भी पोस्ट की है। चालान में पुलिस ने अबादेई पर सेन डियागो में 104 किमी प्रति घंटा वाले क्षेत्र में 128 किमी प्रति घंटा की रफ्तार और गूगल चश्मा लगा कर गाड़ी चलाने का आरोप लगाया गया है। बीबीसी के संपर्क करने पर कैलीफ़ोर्निया राजमार्ग पुलिस के प्रवक्ता ने कहा कि यह राज्य वाहन संहिता 27602 का उल्लंघन है। गाड़ी चलाना ख़तरनाक जबकि गूगल प्लस पर अबादेई ने कहा कि उसे रोकने वाले यातायात अधिकारी ने कहा कि गूगल चश्मा पहन कर गाड़ी चलाना ख़तरनाक हो सकता है, क्योंकि इन्हें पहनने से उन्हें सड़क और सामने से आने वाले दूसरे वाहन नहीं दिखाई दे सकते हैं। वाह क्या कार्टून हैं! सोशल मीडिया पर एक्टिव हैं कलाकार अपनी सफ़ाई देते हुए अबादेई ने कहा कि वह गाड़ी चलाते समय नियमित रूप से इस चश्मे का इस्तेमाल करती है, लेकिन कभी भी खोलती नहीं है। गूगल चश्मा आवाज़ और छूने द्वारा कंप्यूटर से नियंत्रित होता है, जो चश्मे के लेंस और इससे पहनने वाले की आईलाइन पर सूचना दिखाता है। जबकि गूगल प्लस पर अबादेई के पन्ने पर टिप्पणियां करते हुए कई लोगों ने कहा कि गूगल चश्मा यदि नक्शे, जीपीएस दिखाने या चालक की दृष्टि बढ़ाने में सहायक हो तो 27602 संहिता के अवपादों के तहत आ सकता है। इसके साथ ही कुछ लोगों ने चालान के ख़िलाफ़ किसी तरह की क़ानूनी लड़ाई लड़ने में अबादेई की आर्थिक रूप से मदद करने की भी पेशकश की है।

पति की 'आत्मा' से डरी महिला, दे दिए लाखों रुपए

दिल्ली के हौजकाजी इलाके में एक तांत्रिक ने घर में पति की आत्मा का डर दिखाकर एक महिला से लाखों रुपए ठग लिए। महिला के मकान को हथियाने के लिए तांत्रिक ने अपनी बेटी और एक प्रॉपर्टी डीलर के साथ मिलकर वारदात को अंजाम दिया था। हालांकि, महिला की शिकायत पर हौजकाजी इलाके में पुलिस ने तांत्रिक को गिरफ्तार कर लिया है। जिला पुलिस उपायुक्त आलोक कुमार ने बताया कि मुमताज बेगम सपरिवार लाल कुआं इलाके में रहती हैं। 19 अक्तूबर को उन्होंने तांत्रिक असलम परवेज पर लाखों रुपये, जेवरात और फ्लैट के कागजात हड़पने का आरोप लगाया। महिला ने बताया कि तांत्रिक की बेटी शीबा उसके घर आई और पति की आत्मा भटकने की बात कही। उसने बताया कि उसके पिता असलम आत्मा को अपने वश में कर लेते हैं। डरी सहमी मुमताज ने उससे संपर्क किया। 12 लाख और जेवर हड़पे उसके बाद असलम ने एक प्रॉपर्टी डीलर शाहिद की मदद से मुमताज के फ्लैट पर कब्जा करने की साजिश रची और फिर आत्मा भागने के नाम 12 लाख रुपये, 28 तोला जेवरात और फ्लैट के कागजात हड़प लिए। पुलिस ने मामला दर्ज कर असलम की तलाश शुरू की। एक सूचना के आधार पर पुलिस ने बुधवार को उसको गिरफ्तार कर लिया। उसके घर से काफी मात्रा में पुराने सिक्के मिले हैं। पुलिस उसकी फरार बेटी और प्रॉपर्टी डीलर की तलाश कर रही है।