" " Live Hindi News from Haryana, Property Investment is Better: braking news rohtak
Showing posts with label braking news rohtak. Show all posts
Showing posts with label braking news rohtak. Show all posts

Sep 23, 2013

अब मोदी की रैली के लिए 5 नहीं, 10 रुपए देने होंगे 

भाजपा अपने पीएम उम्मीदवार नरेंद्र मोदी की अगले महीने बंगलूरू में होने वाली रैली के लिए पार्टी कार्यकर्ताओं से 10 रुपए प्रवेश शुल्क लेगी। इस बारे में पार्टी ने लगभग अंतिम फैसला ले लिया है।

इससे पहले मोदी की हैदराबाद में हुई रैली के लिए 5 रुपए प्रवेश शुल्क लिया गया था। इसको लेकर कांग्रेस ने भाजपा पर निशाना भी साधा था।

गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की अगले महीने के मध्य में किसी तिथि को रैली हो सकती है। इस रैली के साथ कर्नाटक में भाजपा के आगामी लोकसभा चुनाव प्रचार की शुरुआत होगी।

वरिष्ठ पार्टी नेता एम वेंकैया नायडू इस रैली के प्रभारी हैं। पार्टी रैली के लिए उचित स्थान तलाश रही है। पार्टी को रैली में करीब 5 लाख लोगों के आने की उम्मीद है।

25 सितंबर को मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में होने वाली मोदी की रैली के लिए भी 5 रुपए प्रवेश शुल्क लिया जाएगा।

इससे पहले हैदराबाद में हुई रैली में लोगों से उत्तराखंड राहत कार्यों के लिए 5 रुपए लिए गए थे।

पार्टी ने प्रवेश शुल्क लिए जाने की आलोचना का जवाब देते हुए कहा कि यह पारिवारिक कार्यक्रम है और शुल्क लिया जाना सामान्य बात है।

Sep 21, 2013

पूछताछ के ल‌िए दोबारा हीथ्रो हवाई अड्डे पहुंचे रामदेव 

पूछताछ के ल‌िए दोबारा बुलाए जाने पर बाबा रामदेव हीथ्रो हवाईअड्डे पहुंचे हैं। वहीं रामदेव के समर्थक हीथ्रो हवाई अड्डे पर जमा हैं।

सूत्रों के मुताब‌िक गलत वीजा के मामले में बाबा रामदेव से पूछताछ की जा रही है। बाबा रामदेव व‌िज‌िटर वीजा पर लंदन गए थे।

अभी तक इस मामले में व‌िदेश मंत्रालय ने रामदेव से संपर्क नहीं क‌िया है। हालांक‌ि इस मामले में व‌िदेश मंत्रालय ब्रिट‌िश अधिकारियों से संपर्क में हैं।

ब्रिटिश अधिकारियों ने योग गुरु बाबा रामदेव को हीथ्रो हवाई अड्डे पर रोक कर रखने और उनसे घंटों पूछताछ की कोई वजह नहीं बताई है।

इस पूछताछ के बाद प्रतिक्रिया देते हुए बाबा रामदेव ने दावा किया कि उनसे घंटों पूछताछ की गई लेकिन इसकी वजह नहीं बताई गई।

उन्होंने दावा किया कि वह किसी गैरकानूनी गतिविधि में शामिल नहीं हैं और न ही कभी कोई गलत काम किया है।  
बाबा रामदेव ने कहा कि उन्होंने कस्टम अधिकारियों से लगातार इस पूछताछ की वजह जाननी चाहिए।

लेकिन उनकी ओर से कोई जवाब नहीं मिला। वे सिर्फ यह कहते रहे कि इसका खुलासा नहीं किया जा सकता। बाबा रामदेव को हीथ्रो एयरपोर्ट पर रोके जाने के मामले पर बीजेपी ने कड़ा एतराज जताया है और केंद्र से हस्तक्षेप की मांग की है। 

बीजेपी अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने इस मामले को बेहद गंभीर करार दिया है और कहा है कि केंद्र को इसमें संज्ञान लेना चाहिए। 

उन्होंने कहा कि योग गुरु को रोके रखने की वजहों का खुलासा नहीं किया गया है। लेकिन जहां तक मुझे जानकारी है बाबा के पास एक डायरी थी और उसमें मंत्र लिखे थे। 

इन मंत्रों की वजह से ही उन्हें रोका गया था। यह डायरी जब्त कर ली गई और उन्हें शनिवार को दोबारा पूछताछ के लिए बुलाया गया था। बहरहाल, उनकी गिरफ्तारी की वजहों पर साफ तौर पर कुछ भी नहीं कहा जा रहा है।

पतंजलि योग पीठ ने स्वामी विवेकानंद की 120वीं जयंती पर लंदन में एक समारोह का आयोजन कर रहा है। इसी समारोह में हिस्सा लेने के लिए रामदेव लंदन पहुंचे हैं। 

समारोह के आयोजनकर्ताओं में से एक ने कहा कि कस्टम अधिकारियों ने हिंदी और संस्कृत की उन किताबों के बारे में पूछताछ की, जिन्हें बाबा यहां लाए थे। 

कस्टम अधिकारियों ने छह घंटों की पूछताछ के बाद ही उन्हें जाने दिया। हालांकि एक दूसरे सूत्र के मुताबिक योग गुरु यहां बिजनेस वीजा के बजाय विजिटर वीजा पर आए थे। इसीलिए उनसे पूछताछ हुई। 

कुछ मीडिया रिपोर्टों में बताया गया कि बाबा अपने साथ कुछ दवाइयां लाए थे। पूछताछ की एक वजह यह भी थी। हालांकि बाबा के प्रवक्ता एसके तेजारावाला ने कहा कि दवाइयों की वजह से उनसे पूछताछ की बात बिल्कुल बेबुनियाद है।

अपने से ‌जूनियर की कप्तानी में खेलेंगे वीरू-गौती 

टीम इंडिया के धाकड़ बल्‍लेबाज रहे वीरेंद्र सहवाग और गौतम गंभीर जैसे वरिष्ठ बल्‍लेबाजों को अब अपने से जूनियर क्रिकेटर की कप्तानी में खेलना होगा।  

एन के पी साल्वे चैलेंजर ट्रॉफी के लिए आज घोषित दिल्‍ली की टीम की कमान विराट कोहली को सौंपी गई है।

जबकि खराब फॉर्म के कारण लंबे समय से टीम इंडिया से बाहर चल रहे सहवाग और गंभीर को टीम में जगह दी गई है, लेकिन उन्हें कोहली के अंडर में खेलना होगा।

चैलेंजर ट्रॉफी के लिए दिल्‍ली घोषित
दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) की सीनियर चयनसमिति ने शुक्रवार को दिल्‍ली में चैलेंजर ट्रॉफी के लिए दिल्ली की 16 सदस्यीय टीम का चयन किया। 

कोहली ने पिछले महीने अपनी कप्तानी में जिम्बाब्वे के खिलाफ पांच मैचों की वनडे सीरीज में 5-0 से हराते हुए क्लीन स्वीप किया था। टीम इंडिया की विदेशी धरती पर पांच मैचों की किसी भी सीरीज में यह पहला क्लीन स्वीप था।

पिछले ही महीने कोहली को अर्जुन अवार्ड से नवाजा भी गया था।

बेहतरीन बल्‍लेबाज कोहली के नेतृत्व में दिल्ली 26 से 29 सितंबर तक इंदौर में होने वाली चैलेंजर ट्रॉफी में युवराज सिंह की कप्तानी वाली इंडिया ब्लू और यूसुफ पठान की कप्तानी वाली इंडिया रेड टीम से लोहा लेगी।

दिल्ली का पहला मुकाबला 26 सितंबर को इंडिया ब्लू से होगा। 

वीरू-गंभीर के पास एक और मौका
टीम इंडिया में वापसी की राह तलाशने में जुटे सहवाग और गंभीर को वेस्टइंडीज ए के खिलाफ होने वाले तीन चार दिवसीय मैचों की सीरीज के अंतिम दो मैचों के लिए भारत ए टीम में भी चुना गया है।

भारत ए टीम की कप्तानी चेतेश्वर पुजारा संभाल रहे हैं।

सहवाग ने अपना आखिरी टेस्ट इसी साल मार्च में खेला था, जबकि गंभीर को पिछले वर्ष टेस्ट टीम से हटाया गया था।

दिल्ली को रणजी ट्रॉफी एकदिवसीय चैंपियन होने के नाते चैलेंजर ट्रॉफी में उतरने का मौका मिला है।

चैलेंजर ट्रॉफी में इंडिया रेड की कप्तानी पहले इरफान पठान को सौंपी गई थी लेकिन उनके चोट के कारण हट जाने से अब इस टीम की कप्तानी उनके बड़े भाई यूसुफ पठान संभालेंगे।

मोदी ने मांगी शाहरुख-सलमान से मदद?

गुजरात के मुख्यमंत्री और भाजपा की ओर से पीएम पद के दावेदार नरेंद्र मोदी ने बॉलीवुड के सुपरस्टार खान सलमान, आमिर और शाहरुख से मदद मांगी है।

वह युवाओं को वोट देने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए बॉलीवुड तक पहुंचे है और इसके लिए उन्होंने माइक्रो-ब्लॉ‌गिंग साइट ट्विटर का सहारा लिया है।

निकनेम नमो वाले मोदी ने बॉलीवुड स्टार ऋतिक रोशन, दीपिका पादुकोण, अक्षय कुमार, प्रीति जिंटा, प्रियंका चोपड़ा, सलमान खान, अमिताभ बच्चन, आमिर खान और शाहरुख खान से ट्विटर पर संपर्क साधा।

उन्होंने इन सितारों से भारत और उसके युवाओं को प्रोत्साहित करने की अपील की।

मोदी ने लिखा है, "18 से 24 साल के नौजवानों को वोट डालने के लिए प्रोत्साहित किया जाए। इनमें से बड़ी तादाद में युवाओं का अब तक वोट भी नहीं है। इससे जुड़ा चुनाव आयोग का एक अभियान अभी जारी है।"

अब यह देखना दिलचस्प है कि नरेंद्र मोदी ने जो आग्रह किया है, उस पर बॉलीवुड क्या प्रतिक्रिया देता है।

Sep 18, 2013

चमगादड़ पहुंची अस्पताल, नर्सों ने कराई डिलीवरी

अमूमन चमगाद़ड़ के बारे में लोग सुनना या जानना कम ही पसंद करते हैं। उनके लिए चमगादड़ एक ऐसा स्तनधारी है जो अंधेरे में रहता है और उल्टा लटका र‌हता है। लेकिन ये कहानी थोड़ी अलग है।

क्रेजीन्यूज 24 की खबर के अनुसार, ये एक मादा चमगादड़ की दुखभरी कहानी है। जिसे एक पिस्सू ने काट लिया और उसकी वजह से वो अपंग हो गई।

हालांकि अपंग होने के बाद इस मादा को अस्पताल ले जाया गया। ऑस्ट्रेलिया के टोल्गा बैट अस्पताल में डॉक्टरों ने इलाज के दौरान पाया कि ये मादा चमगादड़ काफी कमजोर हो चुकी है और किसी भी वक्त मर सकती है।

एक ओर जहां मादा काफी कमजोर थी वहीं अस्पताल की नर्सों को जांच के दौरान पता चला कि वो गर्भवती भी है। उसके दर्द का एक कारण ये भी था कि उसे प्रसव पीड़ा हो रही थी। ऐसे में वहां मौजूद नर्सों ने सोचा कि वो प्रेगनेंसी में उसकी मदद करेंगी।

उन्होंने डिलीवरी तो करा दी लेकिन अपंग हो जाने की वजह से बच्‍चे को जन्म देने के बाद ही वो मर गई। मरने से पहले थोड़ी देर के लिए ही सही उसने अपने बच्चे को प्यार जरूर कर लिया। 

डॉक्टर ने लगाया गूगल का चश्मा, ऑपरेशन का लाइव टेलीकास्ट

अगर आपको मुन्ना भाई एमबीबीएस का वो सीन शायद याद होगा जिसमें मेडिकल कॉलेज में डॉक्टर अपने स्टूडेंट्स को ऑपेरशन के बारे में जानकारी दे रहा होता है। 

इस पर मुन्ना को शिकायत थी कि जब इतने सारे लोग एक बॉडी को घेरकर खड़े हो जाएंगे तो फिर किसी को क्या दिखाई देगा और समझ में आएगा?

लेकिन तकनीक की इस दुनिया में हर सवाल का जवाब मिल ही जाता है। चेन्नई के एक डॉक्टर ने अपने स्टूडेंट्स के लिए हर्निया पी‌ड़ित के ऑरपेशन को गूगल के चश्मे के जरिए लाइव स्क्रीन शो में दिखाया।

टीओआई की रिपोर्ट के अनुसार लाइव लाइन हॉस्पिटल के जेएस राजकुमार भारत के पहले ऐसे डॉक्टर है, जिन्होंने गूगल ग्लास पहनकर ऑपरेशन किया।

ऑपरेशन के दौरान डॉक्टर अपने स्टूडेंट से लगातार बातचीत के ‌जरिए ऑपरेशन की जानकारी दे रहे थे। स्टूडेंट ऑपरेशन थिएटर के बाहर एक दूसरे कक्ष में ऑपरे‌शन की प्रक्रिया को लाइव देख रहे थे।

जैसा कि आप जानते है कि गूगल ग्लास एक वियरएबल डिवाइस है। जिसको आप चश्मे के तौर पर लगा सकते है और वॉइस कमांड के जरिए इसको कंट्रोल किया जा सकता है। गूगल ग्लास के जरिए आप फोटो और वीडियो बना सकते हैं।

डॉक्टर राजकुमार का कहना है, "इस ऑपरेशन को गूगल हैंगऑउट के जरिए भी लाइव पेश किया गया है। लोग जानना चाहते है कि आखिर ऑपरेशन थिएटर में क्या हो रहा है?‍ गूगल ग्लास मेडिकल स्टूडेंट्स के लिए काफी अच्छा टूल साबित हो सकता है। स्टूडेंट्स अपने सिनियर डॉक्टर के ऑपरेशन करने की प्रक्रिया को देख सकते हैं और उसको सीख सकते हैं।"

डॉक्टर्स का यह भी माना है कि गूगल ग्लास एजुकेशनल टूल के अलावा अन्य तकनीकी चीजों जैसे एक्स रे, एमआरआई इमेज ‌आ‌‌दि में मददगार साबित हो सकता है।

Now Rohtak-news.blogspot.com is WWW.ROHTAKNEWS.CO.IN

Kripaya side me diye gye vigyapan pe click kare, taki hum apni sewa jari rakh ske,  dhanaywad

Sep 16, 2013

सड़क पर पड़ा था शव, कट मारा तो पलटी वोल्वो और तीन लोगों की हो गई मौत

करनाल. जीटी रोड पर पड़े एक शव को बचाने के चक्कर में टूरिस्टों से भरी वोल्वो बस अनियंत्रित होकर फ्लाईओवर से नीचे गिर गई। तीन लोगों की जान चली गई, जबकि एक विदेशी नागरिक समेत 14 लोग गंभीर घायल हो गए। यात्री दिल्ली से मनाली जा रहे थे। कई यात्रियों को शीशे तोड़कर बाहर निकाला गया।

घायलों को ट्रॉमा सेंटर में दाखिल कराया गया। छह की हालत नाजुक है। बस में कुल 25 व्यक्ति सवार थे। घायल बस चालक ने बताया कि जब वह मधुबन से खाना खाकर करनाल पहुंचा तो सड़क पर एक व्यक्ति दिखाई पड़ा। उसे बचाने के लिए कट लगाया तो निर्मल कुटिया के पास बस पलटकर फ्लाईओवर से नीचे गिर गई। बाद में पता चला वह लाश थी। उसका सिर बुरी तरह से कुचला था।

EXCLUSIVE: जानिए, हजारों की भीड़ में आसाराम किस तरह चुनते थे लड़की

अहमदाबाद। नाबालिग छात्रा के यौन शोषण के आरोप में जोधपुर की सेंट्रल जेल में बंद आसाराम के एक समय सबसे खास और अहमदाबाद आश्रम के वैद्य अमृत प्रजापति ने एक और चौंकाने वाला खुलासा किया है। 

प्रजापति ने हमारे संवादददाता को बताया कि आसाराम बहुत पहले से ही सेक्स पॉवर बढ़ाने वाली दवाओं का सेवन करते आ रहे हैं। प्रजापति ने यह भी बताया कि उन्होंने अपनी आंखों से एक-दो बार नहीं, बल्कि अनेकों बार आसाराम को अलग-अलग शिष्याओं के साथ निर्वस्त्र अवस्था में देखा है। 

 प्रजापति के बताए अनुसार आसाराम अपनी ध्यान कुटिया में ही रंगरलियां मनाया करते थे। यहां किसी भी व्यक्ति को प्रवेश की अनुमति नहीं होती थी।

 प्रजापति के शब्दों में..‘मैं वर्ष 1989 से 2005 तक आसाराम के आश्रम में मुख्य वैद्यराज के पद पर रहा। मुझे पहले पता नहीं था कि आश्रम में क्या-क्या होता है, लेकिन धीरे-धीरे मुझे इसका अंदाजा होने लगा कि कुछ तो गड़बड़ है। लगभग 12 वर्ष पहले की बात है.. एक दिन मैं आश्रम की ध्यानकुटिया की ओर गया और यहां मैंने ऐसा दृश्य देखा कि मेरे पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई। कुटिया में आसाराम और एक महिला निर्वस्त्र अवस्था में थे। एक संत होने का दावा करने वाले आसाराम एक महिला साधक के साथ इस अवस्था में थे। मैं उन्हें भगवान मानता था और यह दृश्य देखने के बाद मेरे मन में उनके लिए जो जगह थी, खत्म हो गई। 

यह दृश्य देखने के बाद मुझे आसाराम की ध्यान कुटिया की असलियत पता चल गई थी। इसके बाद मैंने अनेकों बार कुटिया में आसाराम को कई महिला साधकों के साथ संभोग करते देखा। एक बार तो मैंने आसाराम से यह बात कह भी दी कि एक संत होने के बाद आपको यह सब शोभा नहीं देता। आसाराम की मेरा यह दुस्साहस पसंद नहीं आया। इसके अलावा वे मुझ पर लगातार दबाव बनाया करते थे कि दवाओं का स्तर हल्का रखो। आश्रम में इस तरह की आसामाजिक गतिविधियों को देख मेरा मन उचट गया और अंतत: मैंने वहां से नौकरी छोड़ दी।

महिला वैद्य से भी मंगवाते थे सेक्स वर्धक दवाएं

 प्रजापति कहते हैं.. ‘एक दिन की बात है, मुझसे एक महिला वैद्य ने कहा कि बापू को सेक्स पॉवर बढ़ाने वाली दवाएं चाहिए हैं। यहां चौंकाने वाली बात यह थी कि कुछ दिन पहले आसाराम ने ध्यान कुटिया में संभोग के लिए इसी महिला वैद्य की डिमांड की थी और अब यही महिला मुझसे आसाराम के लिए सेक्स पॉवर दवाएं मांग रही थी। उसकी बात सुनकर भी मुझे झटका सा लगा।’

प्रजापति ने यह भी बताया कि आसाराम सेक्स वर्धक दवाओं कई सालों से लेते आ रहे हैं। आसाराम मुझसे ही ये शक्तिवर्धक दवाइयां मंगवाया करते थे। जैसे- कामिनी मर्दन, अश्वगंधा, शिलाजीत, मकरध्वज रस आदि। रतलाम से 17 किलोमीटर दूर आसाराम का पंचेड आश्रम है। वहां अफीम की खेती होती है। वहां से नियमित तौर पर आसाराम के लिए अफीम मंगाई जाती थी। आसाराम उसे ‘पंचेडबूटी’ कहते थे। उसका नियमित सेवन करते थे।

हनीमून के दौरान पड़ा छह बार द‌िल का दौरा

दिल का एक दौरा हमें दहशत में ला देता है। सोचिए 33 साल के नौजवान पर क्या गुजरी होगी जब उसे एक नहीं दिल के छह दौरे पड़े।

हुआ यूं कि ब्रिटेन में पेशे से होटल व्यवसायी एन्ड्रयू ब्रिटन की  शादी 2012 के नवंबर महीने में हुई।

एन्ड्रयू ने अपनी नई नवेली दुल्हन लॉरेन के साथ मालदीव में हनीमून मनाने की योजना बनाई। हनीमून पर जाते समय वे एकदम तंदुरुस्त थे। मगर मालदीव पहुंचने के एक घंटे के भीतर ही वे कुछ असहज महसूस करने लगे।

एन्ड्रयू को वहां दिल के छह दौरे आए। दम घोंट देने, मरणासन्न कर देने वाले दिल के छह-छह दौरे।

एन्ड्रयू ब्रिटन बताते हैं कि हनीमून पर जाते समय सब कुछ ठीक था। 

उन्होंने बताया, "मैं एक स्क्वैश खिलाड़ी हूं और हमेशा ट्रेनिंग पर भी जाता रहता हूं। इसलिए तन-मन से हमेशा फिट रहता हूं।"

ब्रिटन की तबीयत हवाई जहाज में ही खराब होनी शुरू हो गई थी। पहले उन्हें लगा कि ये मामूली सर्दी है। फूड प्वॉयजनिंग की भी आशंका हो रही थी।

मालदीव में एन्ड्रयू होटल के कमरे में ही बने रहे। वे खुद को काफी कमजोर महसूस कर रहे थे।

पत्नी लॉरेन ने बताया, "सच कहूं तो शुरू-शुरू में मैंने एन्ड्रयू की ढीली तबीयत को गंभीरता से नहीं लिया। मुझे लगा कि सफर का असर होगा।"

लॉरेन बताती हैं, "तब आधी रात थी। एन्ड्रयू मेरे पास आए और कहने लगे कि वे सांस नहीं ले पा रहे। उनकी छाती में भी दर्द हो रहा था। मैं डर गई। तुरंत घंटी बजाई और अस्पताल जाने के लिए स्ट्रेचर मंगवाया।"

एन्ड्रयू पसीने से तर-ब-तर हो रहे थे। वे बताते हैं, "मैं हांफ रहा था। बेहोशी जैसी छा रही थी। सांसें छूट रहीं थीं।"

वे जब अस्पताल पहुंचे तो डॉक्टरों ने पहले बताया कि उन्हें स्वाईन फ्लू हुआ है। उनकी तबीयत बिगड़ती ही चली गई। उन्हें इन्क्यूबेटर और दूसरे लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया।

लॉरेन ने बताया, "एन्ड्रयू के बेड का पर्दा खींच दिया गया। अलार्म बजने लगे। अचानक छह-सात डॉक्टर उनके बेड की तरफ दौड़े। वे सब चिल्ला रहे थे। मैं पर्दे के बाहर बैठी घबराहट से कांप रही थी।"

तभी एक डॉक्टर ने लॉरेन को आकर बताया कि एन्ड्रयू को दिल का दौरा पड़ा है। इसके बाद उन्हें आईसीयू में रखा गया।

एन्ड्रयू के दिल ने काम करना लगभग बंद कर दिया था। इलाज के बाद उनकी तबीयत कुछ स्थिर हुई।
मगर अगली ही सुबह एन्ड्रयू को दिल का दूसरा दौरा पड़ा।

लॉरेन बताती हैं,"मैं सुबह-सुबह एन्ड्रयू से मिलने गई थी। बात करते-करते अचानक उनकी आंखें उलटने लगीं। मैंने अलार्म बजाया।"

अगले दिन लॉरेन को बताया गया कि एन्ड्रयू को यदि एक दिन में किसी अच्छे अस्पताल में भर्ती नहीं किया गया तो उनकी जान को खतरा हो सकता है।

फिर उन्हें बैंकॉक लाया गया। वहां वे दो हफ्ते रहे। इस दौरान वे लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रहते थे। बोलना मुश्किल था इसलिए कागज और कलम संवाद का जरिया बने। एक दिन एन्ड्रयू ने कागज पर लिख कर पूछा, "क्या मैं मरने वाला हूं?"

तब तक एन्ड्रयू को दिल के छह दौरे पड़ चुके थे। एन्ड्रयू कहते हैं, "मैं कागज पर छह बार मर चुका था।"

एन्ड्रयू कहते हैं, "मुझे बताया गया कि मेरी इस गंभीर हालत की वजह कोई वायरस है। शायद कोई आम वायरस, या फ्लू वायरस। मेरा शरीर उससे लड़ नहीं पा रहा। इसका असर दिल पर हो रहा है।"

एन्ड्रयू की दिल की बीमारी ठीक करने के लिए उनके दिल के दो ऑपरेशन हुए।

वे कहते हैं, "मैं खुश हूं कि मैं अपनी बीमारी से लड़ा और जिंदगी में वापसी की। शरीर की सारी गतिविधियां सामान्य हैं। मैं चाहता हूं, हम जल्दी अपने घर जाएं।"

फिलहाल एन्ड्रयू को किसी अच्छे 'हार्ट डोनर' का इंतजार है। तब से अब तक नौ महीने गुजर चुके हैं। वे ब्रिटेन के अस्पताल के वार्ड में दिल के प्रत्यारोपित किए जाने का इंतजार कर रहे हैं।

Sep 14, 2013

Jokes लव लेटर 

संता (बंता से): यार, तू ये क्‍या देख रहा है?
बंता: ये मेरी गर्लफ्रेंड का लव लेटर है....
संता: भाई, यह तो खाली है....
बंता: हां, आजकल हमारी बातचीत बंद है।

बर्फ नहीं, इस बाप ने फ्रिज में जमा दी अपनी बेटी

छह हफ्ते की बच्ची और ऐसी शर्मनाक हरकत कि रूह कांप जाए। वॉशिंगटन में एक बाप ने अपनी बच्ची को चुप कराने के लिए उसे फ्रीजर में बंद कर दिया।

क्रेजी न्यूज 24 की खबर के अनुसार, 25 साल के टेलर जेम्स पर घरेलू हिंसा का आरोप लगाया गया है। सुनवाई के दौरान वकील ने बताया कि जेम्स बच्चे को फ्रीजर में रखने के बाद सो गया था।

उसे इस बात का होश तक नहीं था कि उसने बच्चे को फ्रीजर में रखा है। उसकी नींद तो उस समय खुली जब बच्चे की मां घर आई।

जब मां घर पहुंची तो उसने फ्रीजर खोला। फ्रीजर खोलते ही उसके होश उड़ गए उसने बच्चे को फ्रीजर से बाहर निकाला। वो पुलिस को फोन करके बुलाना चाहती थी लेकिन टेलर ने उसे फोन नहीं दिया। किसी तरह उसने पड़ोसियों की मदद से पुलिस को फोन किया।

इधर बच्ची की हालत काफी खराब हो चुकी थी और उसके हाथ-पैर भी टूट गए थे। हालांकि उसे तुरंत अस्पताल में भर्ती तो करा दिया गया और डॉक्टरों को उम्मीद है कि वो जल्दी ही ठीक हो जाएगी।

आशंका इस बात की भी है कि इस मामले के तहत टेलर को अपनी बाकी बची जिंदगी जेल में बितानी पड़े।

बेचारा बच्चा! गया था क्या करने और पहुंच गया कहां

उत्तर पूर्वी चीन के यांजी में एक अजीबोगरीब हादसे में 20 महीने का बच्चा मल मूत्र निकासी के लिए बने ड्रेन में गिर गया। बच्चा खुद से शौच करने की कोशिश में ड्रेन में गिरा जिसके बाद उसे वहां से निकालने के लिए एमरजेंसी सेवाओं की मदद लेनी पड़ी।

डेली मेल की ख्‍ाबर के अनुसार, चीन में शौच स्थान आम तौर पर एक गड्ढ़े समान होते हैं। शौच के लिए सार्वजनिक शौचालय में गए इस बच्चे का शौच करते वक्त संतुलन ब‌िगड़ गया और वो ड्रेन में ही गिर गया।

मल मूत्र से भरे ड्रेन में खड़े होने की कोशिश के दौरान बच्चे ने अपनी मां को जब चींखकर पुकारा तो वो ये मंज़र देखकर दंग रह गईं। कुछ देर में वहां पहुंचे अग्निशमन दस्ते के जवानों ने मास्क पहनकर इस सकरे ड्रेन में घुसे औक काफ़ी मशक्कत के बाद बच्चे को निकाल पाए।

बच्चा इस दौरान किसी तरह से मल मूत्र में डूबने से बचने की कोशिश करता रहा। बच्चे को सड़क पर ही नहलाने के बाद उसे जल्दी जल्दी अस्पताल पहुंचाया गया। इस दौरान बच्चे की मां उसके आंख, नाक और कान साफ करती रही। पूरे हादसे में बच्चे को कोई गंभीर चोट तो नहीं आई लेकिन वो सदमें में ज़रूर है।

30 साल बाद फेसबुक पर रेपिस्‍ट को ढूंढ खिलाई जेल की हवा

फेसबुक पर अपना अकाउंट खोलना और रोजाना विजिट करना एक आम बात है। लेकिन कभी आपने सोचा है फेसबुक के जरिए अपराधी को ढूंढ़कर पकड़वाया भी जा सकता है?

जी हां, आपको ये जानकर हैरानी होगी कि फेसबुक अकाउंट के जरिये 42 वर्षीय मलिना थॉमस नाम की एक महिला ने न केवल इस बात का पता लगाया कि 13 साल की उम्र में उसके साथ किसने रेप किया था बल्कि उसने एस रेपिस्‍ट को 17 की जेल की सजा भी दिलवाई।

डेली मेल की खबर के मुताबिक, अब से तकरीबन 30 साल पहले जब मलिना महज 13 साल की थी, ने स्वीडन के बल्लेट स्कूल की एक प्रतियोगिता जीती थी जिसके तहत उन्हें स्केटिंग के लिए बहार जाना था।

मलिना के पिता एक गैराज में काम करते थे और उन्होंने अपनी बेटीस्केटिंग के लिए जाने की इजाजत दे दी। मलिना के साथ उनका पहला ब्‍वॉयफ्रेंड भी था जिसने सुनसान जगह का फायदा उठाकर मलिना का रेप कर दिया।

मलिना ने चाहकर भी किसी को ये बात नहीं बताई, अपने घरवालों को भी नहीं। मलिना ने जब हाल ही में फेसबुक पर इस बात को पोस्ट किया तो उन्होंने पाया कि उनकी पोस्‍ट पर उन्हें दो रिस्पांस मिले हैं। उन दोनों के साथ भी रेप हुआ था और सबूतों के आधार पर रेपिस्‍ट करने वाला आदमी वही था जिसने मलिना के साथ रेप किया था।

फिर क्‍या था मलिना को फेसबुक के जरिए अपने रेपिस्‍ट के खिलाफ कुछ सबूत मिले,जिसे मलिना ने पुलिस को दे दिए। अब 53 वर्षीय रेपिस्‍ट को 17 साल जेल में रहने की सजा सुनाई गई है।