" " Live Hindi News from Haryana, Property Investment is Better: nokia
Showing posts with label nokia. Show all posts
Showing posts with label nokia. Show all posts

Sep 30, 2013

सरबजीत सिंह के पाकिस्तानी वकील को स्वीडन में शरण मिली

पाकिस्तान में दिवंगत भारतीय कैदी सरबजीत सिंह का बचाव करने वाले ओवैस शेख तथा उनके परिवार ने धमकी मिलने के बाद स्वीडन में शरण ले ली है.

शेख के सहयोगी और वकील मुहम्मद अली ने कहा, ‘शेख ने अपने परिवार के साथ स्वीडन में शरण ले ली है, क्योंकि उनकी जिंदगी को गंभीर खतरा था.’ उनके साथियों का कहना है कि इसी साल मई में अपने बेटे का अपहरण होने के बाद से शेख किसी दूसरे देश में शरण लेने का प्रयास कर रहे थे.

अली ने कहा, ‘सरबजीत की हत्या होने के बाद शेख काफी परेशान हुए थे. वह यहां खुद को सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे थे.’ इसी साल दो मई को कोट लखपत जेल में हुए जघन्य हमले में सरबजीत की मौत हो गई थी.

कोई 'चारा' न बचा, दोषी लालू भेजे गए जेल 

सीबीआई कोर्ट नेमें पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को सोमवार को तगड़ा झटका दिया।

रांची की विशेष सीबीआई अदालत ने लालू समेत सभी 45 आरोपियों को दोषी करार दिया है। लालू को बिरसा मुंडा जेल भेजा गया है। उनके अलावा 37 अन्य दोषियों को जेल भेजा गया।

लालू के बेटे और आरजेडी के नए चेहरे के रूप में सामने आए तेजस्वी ने इस मौके पर कहा, 'हमारे नेता को फंसाने की साजिश रची गई है। हम जनता की अदालत में जाएंगे और हाई कोर्ट में अपील करेंगे।"

राष्ट्रीय जनता के वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद सिंह से जब पूछा गया कि अदालत के फैसले का आरजेडी के नेतृत्व पर क्या असर होगा, तो उन्होंने कहा, "कोई असर नहीं पड़ेगा। लालू ने हमेशा दलितों और पिछड़ों की लड़ाई लड़ी है और हम आगे भी यही करना जारी रखेंगे।

उधर इस फैसले से सीबीआई खुश है। जांच एजेंसी ने कहा, "हम इस फैसले का स्वागत करते हैं। सीबीआई ने इस मामले में बढ़िया पैरवी की।"

लालू के विरोधियों ने भी अदालत के निर्णय पर खुशी जताई हैं। भाजपा महासचिव राजीव प्रताप रूडी ने कहा, "इस मामले में लंबे वक्त बाद आखिरकार न्याय मिला। आज का दिन पूरे देश, खास तौर पर बिहार के लोगों के लिए न्याय का दिन है।"

रांची की विशेष सीबीआई अदालत ने सभी 45 आरोपियों को दोषी करार दिया है।

अदालत सभी दोषियों की सजा पर 3 अक्टूबर को फैसला सुनाएगी। सीबीआई कोर्ट का फैसला लालू के लिए बड़ा सिरदर्द लेकर आया है, क्योंकि वह अपनी संसद सदस्यता से भी हाथ धो सकते हैं।

जिन धाराओं के तहत उन्हें दोषी पाया गया है, उसके तहत उन्हें तीन से सात साल जेल हो सकती है।

उन पर चाईबासा कोषागार से फर्जी तौर-तरीके से 37.7 करोड़ रुपए निकालने का इल्जाम है। सीबीआई के वकील का कहना है कि लालू को इस मामले में कम से कम चार साल जेल हो सकती है।

फैसले के बाद लालू यादव के पुत्र तेजस्वी यादव ने कहा है कि हम आदेश को ऊपरी अदालत में चुनौती देंगे।

लालू फैसले के बाद बेहद शांत दिखे। उन्होंने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। इसके बाद गाड़ी में बिठाकर उन्हें जेल ले जाया गया। इससे पहले लालू बेटे के साथ अपनी एंबेसडर कार में अदालत पहुंचे थे। 


950 करोड़ रुपए के चारा घोटाले सीबीआई के विशेष न्यायाधीश ने फैसला 17 सितंबर को सुरक्षित रख लिया था। इस मामले में लालू के अलावा बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र समेत 44 अन्य आरोपी थे।

इससे पूर्व लालू प्रसाद अपने कुल देवताओं और बाबाओं का आशीर्वाद लेते हुए फैसला सुनने के लिए अपने लाव लश्कर के साथ रविवार शाम पटना से विमान के जरिए रांची पहुंचे थे।

साइलेंट मोड में हैं प्रधानमंत्रीः राजनाथ

बीजेपी प्रमुख राजनाथ सिंह ने कहा है आजादी के बाद देश की अर्थव्यवस्था सबसे बुरे दौर से गुजर रही है।

ऐसे में देश को एक यथार्थवादी प्रधानंत्री की जरूरत है। उसे ‌मनमो‌हन सिंह की तरह किसी अर्थशास्त्री प्रधानमंत्री की जरूरत नहीं है।

कोलकाता में आईसीसी और एमसीसी चैंबर की ओर से आयोजित एक संवाद सत्र में राजनाथ सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री साइलेंट मोड में हैं। उनकी भंगिमा ऐसी है जैसे कोई सोच रहा हो। मनमोहन बहुत बड़े अर्थशास्त्री हैं।

अटल बिहारी वाजपेयी अर्थशास्त्री नहीं थे लेकिन उन्हें देश की वास्तविकता का पता था। आप एनडीए और यूपीए के शासन के दौरान इकोनॉमी के हालात की तुलना कर लीजिए।

2004 में यूपीए के सत्ता में आने के बाद रुपया वेंटिलेटर में चला गया, जबकि डॉलर लगातार बढ़ रहा है। निवेशक, विदेश में निवेश के लिए दौड़ रहे हैं। देश का शिक्षित नौजवान बाहर जा रहा है।

राजनाथ सिंह ने यह गौर किया कि 1998 से 2004 के बीच भारत चालू खाते के आधिक्य का देश था। लेकिन यह आधिक्य यूपीए के शासनकाल में घाटे में तब्दील हो गया।

उन्होंने यूपीए सरकार के दौरान बने ऊंचे विदेशी ऋण और चालू खाते के घाटे के खतरनाक गठजोड़ की ओर इशारा किया।

उन्होंने कहा कि अब यह समस्या काबू से बाहर हो चुकी है। लिहाजा भारत को अपनी आर्थिक नीतियों को बदलने की जरूरत है।

बीजेपी ने दोनों सदनों में सरकार से चालू खाते के घाटे को काबू करने के कदम उठाने को कहा लेकिन उसने कुछ नहीं किया। उन्होंने कहा कि यह सब सरकार की गलत योजनाओं और बेकाबू भ्रष्टाचार से हुआ है।

नोकिया ने अपने स्मार्टफोन पर घटाए 7 से 10 हजार रुपए 

हाल ही ब्लैकबेरी ने अपनी फ्लैगशिप डिवाइस जेड10 पर लगभग 13 हजार रुपए की भारी छूट का ऑफर कस्टमर्स को दिया है।

कुछ इसी तरह नोकिया ने भी अपने फ्लैगशिप स्मार्टफोन नोकिया लुमिया 925 हैंडसेट पर करीब 10,000 रुपए का डिस्काउन्ट रखा है।

इसके अलावा कंपनी ने नोकिया लुमिया 625 पर भी करीब 7,000 रुपए कम किए हैं। 

दाम कम करने के बाद नोकिया लुमिया 925 की कीमत 28,529 रुपए हो गई है और नोकिया लु‌मिया 625 की नई कीमत 14,919 रुपए है।

नई कीमतें "एमआरपी" के आधार पर तय गई गईं हैं। अगर नोकिया लुमिया की एमओपी की बात करें तो ऑनलाइन स्टोर पर इसकी कीमत लगभग 33,449 रुपए है।

इस तरह नोकिया लुमिया 625 की एमआरपर लगभग 19,999 रुपए है जबकि इसकी ऑनलाइन कीमत करीब 16,290 रुपए है।

इस तरह अगर देखा जाए तो कंपनी ने नोकिया लुमिया 925 पर 5,000 और नोकिया लुमिया 625 पर लगभग 15,00 रुपए कम किए हैं।

इसके अलावा कंपनी ने इस ऑफर को बॉयबैक ऑफर (पुराने फोन के बदले नया फोन) के साथ रखा है।

क्या आपको लगता है कि सच में ये कस्टमर्स के लिए एक शानदार ऑफर है?